Breaking News
प्रधानमंत्री मोदी ने वाराणसी में महामना एक्सप्रेस व ट्रेड सेंटर का उद्घाटन किया         ||           राजकुमार राव ने कहा ऑस्कर के लिए 'न्यूटन' भारत की अधिकारिक प्रविष्टि         ||           सितारे         ||           कप्तान स्मिथ ने कहा धराशायी होने का सिलसिला रोकना होगा         ||           सेंसेक्स 448 अंकों की गिरावट पर बंद         ||           प्रधानमंत्री मोदी दो दिनी दौरे पर बनारस पहुंचे         ||           अमिताभ ने कहा 'न्यूटन' आंख खोलने वाली फिल्म है         ||           उप्र के शाहजहांपुर में किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म         ||           श्रीकांत जापान ओपन के क्वार्टर फाइनल में हारे         ||           राष्ट्रपति कोविंद महाराष्ट्र के एकदिवसीय दौरे पर         ||           सर्वोच्च न्यायालय ने कहा गौरक्षक हिंसा मामले में पीड़ितों को मुआवजा दें राज्य         ||           प्रणव और सिक्की जापान ओपन के सेमीफाइनल में, प्रणॉय हारे         ||           राजकुमार राव का लोगों से मतदान करने का आग्रह         ||           बिहार में दो युवकों की गोली मारकर हत्या         ||           अंडर-17 फुटबाल विश्व कप के लिए कोलंबिया ने टीम चुनी         ||           न्यूजीलैंड की टीम फीफा अंडर-17 विश्व कप के लिए घोषित         ||           पारिवारिक विरासत ने जमीन से जोड़े रखा : जूनियर एनटीआर         ||           अभिनेता ताहा शाह ने 100 बार डायलॉग सुने         ||           टाइप-2 डायबिटीज से पीड़ित बुजुर्गो को फ्रैक्चर का जोखिम ज्यादा         ||           जम्मू एवं कश्मीर में गोलाबारी, 4 लोग घायल         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> दुनिया का एकमात्र भोजपुरी चर्च ,यहाँ अंग्रेजी में नहीं भोजपुरी में होती है ईसा मसीह की वंदना

दुनिया का एकमात्र भोजपुरी चर्च ,यहाँ अंग्रेजी में नहीं भोजपुरी में होती है ईसा मसीह की वंदना


Vniindia.com | Tuesday January 19, 2016, 11:30:17 | Visits: 434







वाराणसी 19 जनवरी(अनुपमा जैन/वीएनआई) एक चर्च ऐसा भी है जहा अंग्रेजी की बजाय भोजपुरी में ईसा मसीह की वंदना की जाती है यानी दुनिया का एकमात्र 'भोजपुरी चर्च ' और यहाँ आने वाले श्रद्धालुओं का कहना है कि परमेश्वर तो हरेक के मन की भाषा पढ़ते हैं इसमें यह महत्वपूर्ण नहीं कि उसके शब्द एक विशेष भाषा से ही हो ,भाषा वह हो जो उनकी अपनी हो.
बनारस का 136 साल पुराना 'लाल गिरजाघर' यानी 'भोजपुरी चर्च 'जहा श्रद्धालुओं को उनकी अपनी भोजपुरी में यीशु के सन्देश सुनाये जाते हैं और प्रार्थना कराई जाती है और श्रद्धालु अपने मन की बात ईश्वर से भोजपुरी में ही करते है
इस 'लाल गिरजाघर 'के बगल में "सेंट मेरिज़ चर्च" है, जहां की भाषा अंग्रेज़ी है.लेकिन बकौल एक भक्त के 'लाल गिरजाघर' को ख़ासकर भारतीयों के लिए तैयार किया गया और यहाँ की भाषा हिंदी रखी गई.चर्च के इतिहास के बारे में कहा जाता है कि 136 साल पहले रेवरेंड अल्बर्ट फेंटमिन ने इस चर्च की स्थापना की था.
लाल गिरजाघर में मुख्यत: उन लोगों को ध्यान में रखकर पांच साल पहले भोजपुरी में प्रार्थना शुरू की गई थी जो हिंदी-अंग्रेजी के बजाय भोजपुरी में ज्यादा सहज हैं। भोजपुरी में प्रार्थना के कारण यह चर्च दुनिया में मशहूर है।
यहाँ दर्शन के लिए आने वाले एक श्रद्धालु को यक़ीन है कि भोजपुरी में ईसु उनकी प्रार्थना सुनते हैं.। यहाँ के पादरी श्रद्धालुओं को भोजपुरी में यीशु के सन्देश सुनाते हैं और प्रार्थना कराते हैं। आने वाले ज्यादातर लोग वो है भोजपुरी बोलते-समझते हैं। यहाँ नियमित तौर पर आने वाले एक श्रद्धालु के अनुसार 'अपनी भाषा में यीशु के सन्देश और उनकी प्रार्थना लोगों को कहीं ज्यादा प्रभावित करती हैं और सहज लगते है 'यहां गाये जाने प्रार्थना और उपदेशों का संकलन है जिसे भोजपुरी भाषा में अनुवाद किया गया है .वीएनआई

Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें