Breaking News
विदेशी पूंजी भंडार देश में 1.82 अरब डॉलर घटा         ||           राहुल गांधी ने केरल बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने बाढ़ प्रभावित केरल को 500 करोड़ रुपये की मदद का ऐलान किया         ||           आज का दिन : एशियन गेम्स         ||           नवजोत सिंह सिद्धू पाक आर्मी चीफ से मिले गले         ||           इमरान खान ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की शपथ ली         ||           कर्नाटक में बाढ़ जैसे हालात, तीन लोगों की मौत         ||           गुजरात में ट्रक-ऑटो की टक्कर से 5 लोगों की मौत         ||           इमरान खान आज पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे         ||           प्रधानमंत्री मोदी बाढ़ के हालात का जायजा लेने देर रात केरल पहुंचे         ||           बॉलिवुड स्टार केरल बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आए         ||           अलविदा अटलजी : कर्तव्य पथ         ||           किम जोंग-उन ने कहा ‘शत्रुतापूर्ण ताकतें’ कोरियाई जनता को बर्बाद करना चाहती है         ||           इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह के लिए नवजोत सिंह सिद्धू पाकिस्तान रवाना         ||           पंचतत्व में विलीन हो गए अटल बिहारी वाजपेयी         ||           सेंसेक्स 284 अंक की तेजी पर बंद         ||           अटल बिहारी को ज्योतिरादित्य सिंधिया ने माथा टेककर किया नमन         ||           पाकिस्तान में भी वाजपेयी के निधन से दुख की लहर         ||           वीरेंद्र सहवाग और मोहम्मद कैफ केरल में बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आए         ||           अटल बिहारी वाजपेयी की बायॉपिक बन रही है 'युगपुरुष अटल'         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> राज समढियाला गांवः यहां थूकना मना है

राज समढियाला गांवः यहां थूकना मना है


Vniindia.com | Tuesday October 13, 2015, 09:44:33 | Visits: 676







नई दिल्ली 13 अक्टूबर (वीएनआई) गुजरात का एक गांव जो्कि इतना सफाई पसंद है यहां पर कोई भी व्यक्ति सड़क पर थूक नहीं सकता, कूड़ा नहीं फैला सकता, अगर गलती सड़क पर थूक दिया या कूड़ा फैला दिया तो उस पर 51 रुपए का जुर्माना ठोक दिया जाता है यही नहीं इस गांव में यदि चुनाव हो रहे हो तो किसी प्रत्याशी द्वारा चुनाव प्रचार पर पाबंदी है कोई भी प्रत्याशी यहां पर चुनाव प्रचार नहीं कर सकता जिससे कि मतदाता पर किसी ्प्रकार का दबाव न डाला जा सके पर हैरत की बात यह है कि यहां पर चुनाव मे वोट डालना आवश्यक है यदि किसी व्यक्ति ने वोट नहीं डाला तो उस पर 51 रुपए का जुर्माना लगा दिया जाता है यह गांव है गुजरात के सौराष्ट्र में स्थित राजसमढियाला गांव, जो राजकोट शहर से मात्र 22 किमी की दूरी पर स्थित है।\


इस गांव की एक खासियत और है है कि यहां पर नाइट क्रिकेट खेला जाता है और इसकी लिए पूरा का पूरा एक स्टेडियम ही बना डाला है इस गांव की सालाना कमाई है करीब पांच करोड़ रुपए। इस गांव के ज्यादा लोगों की आजीविका का प्रमुख साधन खेती ही है। कपास और मूंगफली प्रमुख फसलें हैं। गांव में 350 परिवार हैं जिनके कुल सदस्यों की संख्या है करीब 1800।

छोटे-मोटे शहरों की लाइफस्टाइल को मात देने वाले राजसमढियाला गांव की कई ऐसी खासियत हैं जिसके बाद शहर में रहने वाले भी इनके ्सामने खुद को छोटा समझें, 2003 में ही इस गांव की सारी सड़कें कंक्रीट की बन गईं। 350 परिवारों के गांव में करीब 30 कारें हैं तो, 400 मोटरसाइकिल।

गांव में अब कोई परिवार गरीबी रेखा के नीचे नहीं है। इस गांव की गरीबी रेखा भी सरकारी गरीबी रेखा से इतना ऊपर है कि वो अमीर है। सरकारी गरीबी रेखा साल के साढ़े बारह हजार कमाने वालों की है। जबकि, राजकोट के इस गांव में एक लाख से कम कमाने वाला परिवार गरीबी रेखा के नीचे माना जाता है।

गांव के विकास की इतनी मजबूत बुनियाद और उस पर बुलंद इमारत बनाई आजीवन गांव के सरपंच रहे स्वर्गीय देवसिंह ककड़िया को। गांव के प्रधान ने कई बरस पहले ही पानी का महत्व जान लिया था। दस साल पहले गांव के खेतों में पानी की बड़ी दिक्कत थी तो, ककड़िया ने एक आंदोलन सा चलाया, गांव के खेतों में पानी की कमी दूर करने के लिए सैटेलाइट से जमीन का नक्शा तैयार कराया और छोटे तालाब बनाए जिससे पूरे इलाके की जमीनों को खेती के लिए पर्याप्त पानी मिल सके इसी के तहत गांव के आसपास 45 छोटे-छोटे चेक डैम बनाए। अब चेक डैम के पानी से आसपास के करीब 25 गांवों के खेत में भी फसल हरी-भरी है।

राजसमढियाला गांव को गुजरात के पहले निर्मल ग्राम का पुरस्कार तत्कालीन राष्ट्रपति अब्दुल कलाम के हाथों मिला था। ये पुरस्कार स्वच्छता के लिए मिलता है। िसके अलावा इस गांव को आदर्श गांव का पुरस्कार भी प्राप्त हो चुका है

इस गांव के लोग ताला भी नहीं लगाते, इस गांव में पुलिस आती नहीं क्योंकि कभी पुलिस की जरुरत ही नहीं जरुरत ही नहीं महसूस हुई ,गांव का अपना गेस्ट हाउस है। पंचायत भवन खुला हुआ था। राशन की दुकान में तेल के ड्रम खुले में रखे थे। घर तो घर, दोपहर में दुकानदार अपनी दुकान खुली की खुली छोड़कर घर खाना खाने भी आ जाते हैं। ग्राहक दुकान पर आए तो अपनी जरूरत की वस्तु लेकर उसकी कीमत के रुपए दुकान के गल्ले में डालकर चला जाता है। सिर्फ एक घटना को छोड़ दें तो यहां आज तक कभी भी चोरी की घटना नहीं हुई। इस गांव में हुई चोरी की एकमात्र घटना भी कुछ ऐसी रही थी कि दूसरे ही दिन खुद चोर ही ने पंचायत में अपना अपराध कुबूल कर लिया था और इसका प्रायश्चित करने के लिए उसने मुआवजा भी दिया था।

Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें