Breaking News
एनपीपी ने असम में लोकसभा चुनाव के लिए 5 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की         ||           कनाडा के गिरजाघर में पादरी पर हमला         ||           देश के पहले लोकपाल जस्टिस पिनाकी चंद्र घोष ने शपथ ली         ||           पेट्रोल आज फिर महंगा हुआ         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने लोहिया की जयंती पर कांग्रेस-सपा पर साधा निशाना         ||           परेश रावल ने लोकसभा चुनाव लड़ने से किया इनकार         ||           प्रधानमंत्री मोदी और अन्य नेताओं ने शहीद दिवस पर भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को याद किया         ||           कांग्रेस ने 35 उम्मीदवारों की एक और लिस्ट जारी की         ||           बीजेपी ने लोकसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों की तीसरी लिस्ट जारी की         ||           दिल्ली-एनसीआर में चढ़ेगा पारा         ||           कपिल सिब्बल ने कहा मैं चांदनी चौक से ही चुनाव लडूंगा         ||           आईसीसी ने टेस्ट में नाम और जर्सी नंबर को हरी झंडी दी         ||           शिवसेना ने 21 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की         ||           बिहार महागठबंधन में हुआ सीटों का बंटवारा         ||           महाराष्ट्र में एनसीपी और कांग्रेस के दो बड़े नेता बीजेपी में शामिल हुए         ||           कर्नाटक के मंत्री सीएस शिवल्ली का दिल का दौरा पड़ने से निधन         ||           कांग्रेस ने कहा येदुरप्पा ने बीजेपी के शीर्ष नेताओं को दी 1800 करोड़ की रिश्वत         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने सैम पित्रोदा के विवादित बयान पर दिया जवाब         ||           बीएसपी ने लोकसभा चुनाव के लिए 11 प्रत्याशियों की पहली लिस्ट जारी की         ||           पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर भाजपा में हुए शामिल         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> रुपये पैसों की दास्तान

रुपये पैसों की दास्तान


Vniindia.com | Friday December 16, 2016, 09:47:09 | Visits: 736







सुनील कुमार ,वी एन आई ,दिल्ली 16 -12 - 2016
रुपये पैसों की दास्तान
कहा जाता है जिंदगी और सिक्के में एक समानता है ,दोनों को आप अपने हिसाब से खर्च कर सकते हैं लेकिन सिर्फ एक बार खर्च कर सकते हैं
‘रुपया’ शब्द संस्कृत के शब्द ‘रुपयक’ से निकला है हुई जिसका अर्थ ‘चांदी’ है और रुपया का संस्कृत में मतलब ‘चिन्हित मुहर’ है।
रुपये का इतिहास 15 वीं सदी तक का है जब शेर शाह सूरी ने इसकी शुरुआत की थी। उस समय तांबे के 40 टुकड़े एक रुपये के बराबर थे।
मूलतः रुपया चांदी से बनाया जाता था जिसका वजन 11.34 ग्राम था। ब्रिटिश शासन के दौरान भी चांदी का रुपया चलता था ।
सन् 1815 तक मद्रास प्रेसिडेंसी ने फनम पर बेस्ड मुद्रा जारी कर दी थी। तब 12 फनम एक रुपये के तुल्य था।
सन् 1835 तक ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की तीन प्रेसिडेंसियों बंगाल, बाॅम्बे और मद्रास ने अपने अपने कॉइंस जारी कर दिए थे।
बैंक नोटों की एक्सिस्टिंग सीरीज को महात्मा गांधी सीरीज कहा जाता है। इसे सन् 1966 में 10 रुपये के नोट से शुरु किया गया जिस पर महात्मा गांधी की तस्वीर थी।


Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें