Breaking News
मंत्रिमंडल की बारह वर्ष से कम उम्र की बच्चियों से दुष्कर्म पर मृत्युदंड को मंजूरी         ||           सहवाग ने कहा गांगुली के खिलाफ चैपल का मेल पहले मैंने देखा था         ||           परिणीति मेलबर्न की खूबसूरती से प्रभावित हुईं         ||           आज का दिन:         ||           जियोनी नए स्मार्टफोन 26 अप्रैल को लॉन्च करेगी         ||           शिवराज ने कहा बच्ची से दुष्कर्म और हत्या के दोषी को कड़ी सजा मिलेगी         ||           यशवंत सिन्हा ने भाजपा से नाता तोड़ा         ||           छग में नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में सीआरपीएफ का जवान शहीद         ||           फिल्म 'संजू' का टीजर मंगलवार सुबह होगा रिलीज         ||           पाकिस्तानी गोलीबारी में घायल जवान ने दम तोड़ा         ||           सोनाक्षी ने कहा आदित्य संग काम करने को उत्साहित हूं         ||           नॉर्डिक देशो से बढ़ती नजदीकी         ||           उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग का ऐलान, परमाणु परीक्षण अब नहीं होंगे         ||           अमेरिका और जापान के रक्षा प्रमुखों की बैठक         ||           नए राष्ट्रमंडल प्रमुख के तौर पर प्रिंस चार्ल्स जिम्मेदारी संभालेंगे         ||           राजधानी दिल्ली में सुबह सुहावना मौसम         ||           शेयर बाजार सामान्य मॉनसून की आहट से गुलजार         ||           चेन्नई ने राजस्थान को 64 रन से पीटा         ||           वाटसन का आईपीएल-11 में दमदार शतक, चेन्नई ने बनाये 204 रन         ||           जेटली ने कहा कांग्रेस राजनीतिक हथियार के तौर पर महाभियोग का कर रही है प्रयोग         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> आज है नवदुर्गा के तीसरे स्वरूप ‘चन्द्रघण्टा’ की पूजा

आज है नवदुर्गा के तीसरे स्वरूप ‘चन्द्रघण्टा’ की पूजा


admin ,Vniindia.com | Tuesday March 20, 2018, 01:22:00 | Visits: 84







नई दिल्ली 20 मार्च (वीएनआई) 18 मार्च से वासंतिक नवरात्र शुरू हो गया है। इस बार की नवरात्रि मान्यता के आधार पर केवल 8 दिन की ही हैं। इसमें 24 मार्च को अष्टमी की पूजन की जाएगी। इस दिन श्रद्धालु माता के महागौरी रूप की आराधना करते हैं। इसके बाद 25 तारीख को श्रीराम नवमी मनाई जाएगी, साथ ही माता की नवमी पूजन भी की जाएगी। आज वासंतिक नवरात्रि का तीसरा दिन है।  



मां भगवती की तीसरी शक्ति ‘चन्द्रघण्टा’की उपासना तथा विग्रह का पूजन-आराधन किया जाता है. नवरात्र के तीसरे दिन चन्द्रघण्टा की पूजा इसलिए होती है क्योंकि माता का पहला रूप और दूसरा रूप भगवान शिव को पाने के लिए है। जब मातारानी भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त कर लेती हैं तब वह अपने आदिशक्ति रूप में आ जाती हैं। 



इनका यह स्वरूप परम शान्तिदायक और कल्याणकारी है. इनके मस्तक में घण्टे के आकार का अर्धचन्द्र है, इसी कारण से इन्हें चन्द्रघण्टा देवी कहा जाता है. इनके शरीर का रंग स्वर्ण के समान चमकीला है. इनके दस हाथ हैं. इनके दसों हाथों में खड्ग आदि शस्त्र तथा बाण आदि अस्त्र विभूषित हैं. इनका वाहन सिंह है. नवरात्र की दुर्गा उपासना में तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है. इस दिन साधक का मन ‘मणिपूर’ चक्र में प्रविष्ट होता है. मां चन्द्रघण्टा की कृपा से उसे अलौकिक वस्तुओं के दर्शन होते हैं. मां चन्द्रघण्टा की कृपा से साधक के समस्त पाप और बाधाएं विनष्ट हो जाती हैं. इनकी आराधना सद्य: फलदायी हैं. हमें निरन्तर उनके पवित्र विग्रह को ध्यान में रखते हुए साधना की ओर अग्रसर होने का प्रयत्न करना चाहिए. उनका ध्यान हमारे इहलोक और परलोक दोनों के लिए परमकल्याणकारी और सद्गति को देने वाला है 



मां चंद्रघंटा की उपासना करने का मंत्र बहुत ही आसान है। मां दुर्गा की भक्ति पाने के लिए इस मंत्र का जाप करना चाहिए। 

मंत्र इस प्रकार है: पिण्डजप्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकेर्युता। 

प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता॥



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें