Breaking News
स्वीडन फीफा विश्व कप में कप्तान ग्रैंक्विस्ट के पेनाल्टी गोल से जीता         ||           राजनाथ ने कहा साइबर अपराध की ऑनलाइन शिकायत के लिए पोर्टल जल्द         ||           राहुल गाँधी ने केजरीवाल और भाजपा दोनों पर निशाना साधा         ||           आस्ट्रेलिया आईसीसी वनडे रैकिंग में 34 साल के सबसे निचले स्तर पर         ||           प्रकाश जावड़ेकर ने कहा राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2018 के अंत तक         ||           सेंसेक्स 74 अंकों की गिरावट पर बंद         ||           कांग्रेस ने कहा दिल्ली संकट के लिए आप, भाजपा दोनों जिम्मेदार         ||           पीयूष गोयल ने कहा वित्त वर्ष की चौथी तिमाही तक 10 फीसदी की जीडीपी का लक्ष्य हासिल         ||           वित्तमंत्री जेटली ने जीडीपी वृद्धि दर को सराहा         ||           शंघाई फिल्मोत्सव में 'हिचकी' को स्टैंडिंग ओवेशन         ||           आज का दिन         ||           बॉल टेम्परिंग से चंडीमल का साफ इनकार         ||           पाकिस्तान के 108 विस्थापितों को भारतीय नागरिकता मिली         ||           मनीष सिसोदिया अस्पताल में भर्ती         ||           एकॉन ने कहा अच्छा इंसान होना धर्म पर निर्भर नहीं         ||           रणबीर ने कहा असफलताओं ने काफी कुछ सिखाया         ||           मेंडिस, डिकवेला के दम पर श्रीलंका की सेंट लूसिया टेस्ट में 287 रनों की बढ़त         ||           मेलानिया ने कहा प्रवासी बच्चों को मां-बाप से दूर करने वाली नीति समाप्त हो         ||           त्रिपुरा विधानसभा का बजट सत्र मंगलवार से शुरू         ||           जम्मू एवं कश्मीर में दो आतंकवादी ढेर         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> इस मंदिर में पूजा की जाती है एक मुस्लिम 'मॉ'-डोला की , जो मानी जाती है गॉव की रक्षक

इस मंदिर में पूजा की जाती है एक मुस्लिम 'मॉ'-डोला की , जो मानी जाती है गॉव की रक्षक


admin ,Vniindia.com | Thursday July 20, 2017, 12:09:00 | Visits: 281







खास बातें


1 गुजरात का अनोखा मंदिर जहां हिंदू करते हैं एक मुस्लिम महिला मॉ'-डोला की पूजा 2 गुजरात के अहमदाबाद से करीब 40 किलोमीटर दूर एक गांव है झुलासन 3 देश ही नहीं बल्कि विश्व भर में प्रसिद्ध है यह मंदिर

अहमदबाद,20 जुलाई (वी एन आई)गुजरात के अहमदाबाद से करीब 40 किलोमीटर दूर एक गांव है झुलासन। बेहद समृद्ध और विकसित इस गांव की आबादी करीब 5000 है और इस गांव के 1700 से भी ज्यादा लोग अमेरिका और कैनेडा जैसी जगहों पर बस चुके हैं। इस गांव की सबसे बड़ी पहचान में से एक यह भी है कि यह भारतीय मूल की अमेरिकन एस्ट्रोनॉट सुनीता विलियम्स का पैतृक गांव है। 1960 में उनके पिता दीपकभाई पंड्या यहां से यूएसए चले गए थे और बाद में बोस्टन में डॉक्टर के तौर पर काम करने लगे। 


 


बहरहाल इस गांव की जिस दूसरी सबसे खास बात का हम यहां जिक्र कर रहे हैं वो हिन्दू मुस्लिम एकता की एक अनूठी मिसाल है। वैसे तो यहां पर हिन्दुओं के कई मंदिर हैं लेकिन सबसे बड़ा मंदिर डोला माँ का मंदिर है जो देश ही नहीं बल्कि विश्व भर में प्रसिद्ध है। आपने नाम पर गौर किया ? डोला माँ का मंदिर। क्या आप जानते हैं ये डोला माँ कौन थीं जो इस मंदिर में पूजीं जाती हैं।



दरसल ये डोला माँ, एक मुस्लिम महिला थीं। ऐसा कहते हैं कि आज से लगभग 250 साल पहले इस गांव में घुसपैठियों और लूटेरों का आक्रमण हुआ था और डोला माँ ने बेहद बहादुरी से उनका सामना किया था। इस लड़ाई में गांव को बचाते बचाते उन्होंने अपनी जान दे दी। मान्यता है कि मरने के बाद डोला माँ, एक फूल में बदल गयीं थीं। जिस जगह वे फूल में बदलीं थीं वहीं पर लोगों ने एक भव्य मंदिर बनवा दिया और डोला माँ की पूजा होने लगी। 



गांव के लोगों का विश्वास है कि डोला ्मॉ आज भी गांव की रक्षा करती हैं और साथ ही साथ लोगों के दुःख दर्द भी दूर करती हैं। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि पिछले कई सालों से इस गांव में कोई मुस्लिम परिवार नहीं रहता और डोला माँ की पूजा हिन्दुओं द्वारा ही प्रमुखता से की जाती है। क्योंकि इस गांव के ज्यादातर लोग विदेश जा चुके हैं इसलिए इस मंदिर को "डॉलर माता का मंदिर" नाम से भी जाना जाता है। 



जब सुनीता विलियम्स यहां आयीं थीं तो गांव वालों ने उनकी अंतरिक्ष यात्रा के लिए इस मंदिर में एक अखंड जोत जलाई थी जो सुनीता के स्पेस से लौटने तक लगातार 4 महीने जलती रही थी।


 



 


 


 


 


Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें