Breaking News
ऑस्ट्रेलिया के संघर्ष पर आश्विन की फिरकी ने फेरा पानी, भारत ने पहला टेस्ट 31 रन से जीता         ||           भारत ने सार्क सम्मेलन में पीओके मंत्री के विरोध में किया वॉक आउट         ||           दिल्ली के मयूर विहार में बाइक सवार की गोली मारकर हत्या         ||           राजधानी दिल्ली में धुंध की चादर की बीच प्रदूषण का प्रकोप जारी         ||           कटासराज मंदिर के लिए भारत से 139 श्रद्धालुओं का जत्था पाकिस्तान रवाना         ||           रामदास आठवले ने कहा कार्यक्रम में सुरक्षा इंतजाम नहीं थे पर्याप्त         ||           ब्राजील में बैंक लूट के प्रयास में 14 लोगो की मौत         ||           टीएमसी कार्यकर्ताओं ने भाजपा की रैली के बाद गंगाजल से मैदान का शुद्धिकरण किया         ||           पेट्रोल-डीजल फिर सस्ता हुआ         ||           श्रीनगर में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में पांच जवान घायल, दो आतंकी ढेर         ||           जीतू फौजी........         ||           आज का दिन :         ||           new Chief economic adviser         ||           आज का दिन :         ||           पंश्चिम बंगाल में बी.जे.पी की रथ यात्रा         ||           अश्विन .... विन... विन         ||           ज्वाला गुट्टा वोट नहीं डाल पाईं         ||           आर्मी जवान पर इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या का शक:         ||           कुछ आसान हो जायेगा ऑनलाइन ट्रान्सेक्शन         ||           पुजारा की जोरदार पारी .......         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> महिलाओं पर थाइरॉइड विकारों का ज्यादा असर

महिलाओं पर थाइरॉइड विकारों का ज्यादा असर


admin ,Vniindia.com | Wednesday March 28, 2018, 09:32:00 | Visits: 256







नई दिल्ली, 28 मार्च (वीएनआई)| एक रिपोर्ट में पता चला है कि लगभग 32 प्रतिशत भारतीयों में थायरॉइड के असामान्य स्तर पाए जाते हैं और वे विविध थायरॉइड रोगों से पीड़ित होते हैं, जैसे थायरॉइड नोड्यूल, हाइपरथायरॉइडिज्म, गॉयटर, थायरॉइडाइटिस और थायरॉइड कैंसर। 



रिपोर्ट से यह भी संकेत मिलता है कि सब क्लिनिकल हाइपोथायराइडिज्म असल में हाइपोथायरॉइडिज्म का एक हल्का रूप है। यह एक साइलेंट कंडीशन है, जो पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अधिक प्रभावित करती है और पूरे देश में थायरॉइड विकार का सबसे प्रचलित रूप है। सब-क्लिनिकल हाइपोथायराइडिज्म का पता तब चलता है, जब किसी व्यक्ति में हाइपोथायरॉइडिज्म के हल्के लक्षण दिखते हैं, थायरॉइड-उत्तेजक हार्मोन (टीएसएच) का उच्च स्तर मिलता है और थायरॉक्सिन (टी4) का सामान्य स्तर मिलता है।



हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया (एचसीएफआई) के अध्यक्ष पद्मश्री डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा कि थायरॉइड रोग महिलाओं में अधिक होता है। इससे वजन और हार्मोन असंतुलन जैसी कई समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। थायरॉइड हार्मोन और टीएसएच में वृद्धि के निर्धारण में आनुवंशिकी की एक प्रमुख भूमिका है। इससे ऑटोइम्यून थाइरॉइड रोग का पता लगाना भी संभव हो जाता है। उन्होंने कहा, "थायरॉइड समस्याओं के पारिवारिक इतिहास वाले लोगों को थायरॉइड असामान्यता का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए, अपने परिवार के चिकित्सा इतिहास के बारे में जागरूक होना और पहले से सावधानी बरतना महत्वपूर्ण है।"



डॉ. अग्रवाल ने बताया कि हाइपोथायरॉइडिज्म के कुछ सामान्य क्लिनिकल लक्षणों में डिप्रेशन और थकान, हाइपरलिपिडेमिया और हाइपर होमोसिस्टीनेमिया, गॉइटर, रूखे बाल, ठंड बर्दाश्त न कर पाना, कब्ज और वजन बढ़ना, सुनने में कठिनाई, मेनोरेगिया, ब्रेडिकार्डिया और कोरोनरी धमनी रोग या हृदय रोग आदि प्रमुख हैं। उन्होंने कहा कि समय की मांग है कि लोगों के बीच थायरॉइड के कारण, लक्षण, उपचार और समस्याओं के परीक्षण के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा की जाए। यह महिलाओं के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि इन रोगों का महिलाओं के लिए अधिक जोखिम है। गर्भवती महिलाओं या गर्भधारण की इच्छुक महिलाओं के लिए यह जरूरी है कि वे अपने थायरॉइड की जांच करा लें।



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें