Breaking News
सेनेगल ने फीफा विश्व कप में पोलैंड को 2-1 से दी मात         ||           ओसाको के हेडर गोल से फीफा विश्व कप में जापान का विजयी आगाज         ||           महबूबा ने कहा कश्मीर में जोर-जबरदस्ती की नीति कारगर नहीं होगी         ||           राहुल गांधी का जन्मदिन कांग्रेस ने मनाया         ||           कांग्रेस ने कहा भाजपा ने कश्मीर को बर्बाद कर दिया         ||           उमर अब्दुल्ला ने कहा जम्मू-कश्मीर में सरकार बनाने का जनादेश नहीं         ||           श्रीलंका और वेस्टइंडीज के बीच सेंट लूसिया टेस्ट ड्रॉ पर समाप्त         ||           ओवैसी ने कहा राज्यपाल शासन से कश्मीर में हालात सामान्य नहीं होंगे         ||           भारतीय महिला हॉकी टीम ने जीत के साथ किया स्पेन दौरे का समापन         ||           ममता बनर्जी ने राहुल को 48वें जन्मदिन पर बधाई दी         ||           शिवसेना के स्थापना दिवस पर ममता ने उद्धव को बधाई दी         ||           उमर अब्दुल्ला राज्यपाल वोहरा से मिलने पहुंचे         ||           शिवसेना ने कहा बीजेपी-पीडीपी गठबंधन राष्ट्र विरोधी था         ||           नितिन गडकरी 'सतत विकास के लिए जल 2018-2028’ में भाग लेने के लिए ताजिकिस्तान रवाना         ||           सेंसेक्स 262 अंकों की गिरावट पर बंद         ||           जम्मू एवं कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने इस्तीफा दिया         ||           जम्मू एवं कश्मीर में पीडीपी-बीजेपी गठबंधन टूटा         ||           नेपाल के प्रधानमंत्री चीन दौरे के लिए रवाना         ||           ओली ने कहा चीन के साथ सहयोग बढ़ाने का इच्छुक नेपाल         ||           मनीष सिसोदिया और जैन को अस्पताल से छुट्टी मिली         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> सर्वोच्च न्यायालय ने कहा गोरक्षकों को रोकना होगा

सर्वोच्च न्यायालय ने कहा गोरक्षकों को रोकना होगा


admin ,Vniindia.com | Wednesday September 06, 2017, 03:59:38 | Visits: 167







नई दिल्ली, 6 सितम्बर (वीएनआई)| सर्वोच्च न्यायालय ने आज कहा कि गोरक्षकों की हरकतों (काउ विजिलांटिज्म) को रोकना होगा और यह कानून के तहत स्वीकार्य नहीं हैं।



अदालत ने राज्यों को हर जिले में नोडल अधिकारी तैनात करने के निर्देश दिए जो इस तरह की हिंसा की घटनाओं को रोकने और इसे अंजाम देने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कदम उठाएं। प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति अमिताव राय व न्यायमूर्ति ए. एम. खानविलकर की पीठ ने कहा, "इसे रोकना होगा। आप ने क्या कार्रवाई की है। यह स्वीकार्य नहीं है। इस पर कार्रवाई करनी ही होगी। अदालत की यह टिप्पणी वकील इंदिरा जयसिंह द्वारा अदालत का ध्यान देश भर में गोमांस के संदेह पर गोरक्षा समूहों द्वारा की जा रही हिंसा पर आकर्षित किए जाने के बाद आई है।



नोडल अधिकारियों की नियुक्ति का निर्देश देते हुए अदालत ने राज्य के मुख्य सचिवों को राजमार्ग पर गश्त की तैनाती सहित, मामले में की गई कार्रवाई का हलफनामा दायर करने को कहा है। अदालत ने केंद्र से पूछा कि क्यों न उसे धारा 256 के तहत इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए जिम्मेदार ठहराया जाए।अदालत का आदेश तुषार गांधी सहित याचिकाओं के एक समूह पर आया है। तुषार गांधी महात्मा गांधी के पोते हैं।



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें