Breaking News
उप्र निकाय चुनाव में पहले चरण का मतदान जारी, योगी ने डाला वोट         ||           उप्र में तेज हवाओं ने बढ़ाई ठंड         ||           नाइजीरिया में आत्मघाती हमले की संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने निंदा की         ||           दुल्हन का सर्दियों में ऐसा हो परिधान         ||           शेयर बाजारों के शुरुआती कारोबार में तेजी का असर         ||           करण जौहर ने कहा आदित्य चोपड़ा से कभी झूठ नहीं बोलता हूं         ||           वार्नर ने कहा स्टोक्स ने कई लोगों की उम्मीदों को तोड़ा है         ||           अनंत कुमार ने कहा संसद के शीतकालीन सत्र की घोषणा जल्द         ||           विराट कोहली टेस्ट रैंकिंग में पांचवें स्थान पर पहुंचे         ||           राष्ट्रपति कोविंद हड़ताल के बीच मणिपुर पहुंचे         ||           सेंसेक्स 118 अंकों की तेजी पर बंद         ||           प्रियरंजन दासमुंशी के निधन पर विजय मल्होत्रा ने शोक जताया         ||           योगी आदित्यनाथ ने कहा राहुल गांधी वंशवाद की परम्परा को ही आगे बढ़ाएंगे         ||           कांग्रेस ने कहा गुजरात चुनाव के कारण संसद से बच रही है सरकार         ||           आज का दिन:         ||           छिल्लर की जीत पर शिवसेना ने भाजपा पर तंज कसे         ||           ममता ने कहा आधार संख्या जोड़ना समस्याओं से भरा         ||           भारतीय बास्केट में कच्चे तेल की कीमत 60.86 डॉलर प्रति बैरल         ||           माजिद मजीदी ने कहा अपने देश से ज्यादा भारत में मशहूर हूं         ||           पुतिन ने सीरिया युद्ध पर चर्चा के लिए असद से मुलाकात की         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> सर्वोच्च न्यायालय ने कहा गोरक्षकों को रोकना होगा

सर्वोच्च न्यायालय ने कहा गोरक्षकों को रोकना होगा


admin ,Vniindia.com | Wednesday September 06, 2017, 03:59:38 | Visits: 84







नई दिल्ली, 6 सितम्बर (वीएनआई)| सर्वोच्च न्यायालय ने आज कहा कि गोरक्षकों की हरकतों (काउ विजिलांटिज्म) को रोकना होगा और यह कानून के तहत स्वीकार्य नहीं हैं।



अदालत ने राज्यों को हर जिले में नोडल अधिकारी तैनात करने के निर्देश दिए जो इस तरह की हिंसा की घटनाओं को रोकने और इसे अंजाम देने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कदम उठाएं। प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति अमिताव राय व न्यायमूर्ति ए. एम. खानविलकर की पीठ ने कहा, "इसे रोकना होगा। आप ने क्या कार्रवाई की है। यह स्वीकार्य नहीं है। इस पर कार्रवाई करनी ही होगी। अदालत की यह टिप्पणी वकील इंदिरा जयसिंह द्वारा अदालत का ध्यान देश भर में गोमांस के संदेह पर गोरक्षा समूहों द्वारा की जा रही हिंसा पर आकर्षित किए जाने के बाद आई है।



नोडल अधिकारियों की नियुक्ति का निर्देश देते हुए अदालत ने राज्य के मुख्य सचिवों को राजमार्ग पर गश्त की तैनाती सहित, मामले में की गई कार्रवाई का हलफनामा दायर करने को कहा है। अदालत ने केंद्र से पूछा कि क्यों न उसे धारा 256 के तहत इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए जिम्मेदार ठहराया जाए।अदालत का आदेश तुषार गांधी सहित याचिकाओं के एक समूह पर आया है। तुषार गांधी महात्मा गांधी के पोते हैं।



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें