Breaking News
कन्हैया कुमार ने कहा भाजपा मेरे खिलाफ मां दुर्गा का कर रही है इस्तेमाल         ||           दिवाली पर शर्तो के साथ बिकेंगे पटाखे         ||           पेट्रोल और डीजल आज फिर हुआ सस्ता         ||           विश्व चैंपियनशिप में पहलवान बजरंग को मिला रजत पदक         ||           भारत और पाकिस्‍तान के बीच डीजीएमओ स्‍तर की वार्ता आज         ||           त्रिपुरा में सड़क हादसे में 29 जवान घायल         ||           देश के शेयर बाज़ारो के शुरूआती कारोबार में गिरावट का असर         ||           छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री रमन सिंह को कांग्रेस की तरफ से अटल बिहारी वाजपेयी की भतीजी देंगी चुनौती         ||           राहुल गांधी ने कहा छत्तीसगढ़ के किसानों का कर्ज माफ करके रहूंगा         ||           आज का दिन : कादर खान         ||           सेंसेक्स 182 अंक की गिरावट पर बंद         ||           सर्वोच्च न्यायलय ने मी टू मामले पर तत्काल सुनवाई से किया इनकार         ||           अमृतसर रेल हादसे पर पुलिस कमिश्नर ने कहा जांच के लिए गठित की गई एसआईटी         ||           सर्वोच्च न्यायलय ने शादी के लिए पुरुष की उम्र 18 साल करने से किया इंकार         ||           मुख्यमंत्री केजरीवाल ने दिल्ली में पेट्रोल पंप मालिकों की हड़ताल को केंद्र प्रयोजित बताया         ||           राहुल गाँधी ने सीबीआई अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग के बीच प्रधानमंत्री मोदी पर बड़ा हमला बोला         ||           श्रीलंकाई स्पिनर रंगना हेराथ गॉल टेस्ट के बाद लेंगे संन्यास         ||           आतंकियों ने सुरक्षाबलों के ठिकाने पर हमला किया, एक जवान शहीद         ||           बाल यौन शोषण के पीड़ितों से ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री ने माफी मांगी         ||           पेट्रोल और डीजल लगातार पांचवें दिन फिर सस्ता हुआ         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> सर्वोच्च न्यायालय ने मृत्युदंड पर केंद्र से जवाब मांगा

सर्वोच्च न्यायालय ने मृत्युदंड पर केंद्र से जवाब मांगा


admin ,Vniindia.com | Friday October 06, 2017, 05:36:00 | Visits: 128







नई दिल्ली, 6 अक्टूबर (वीएनआई)| सर्वोच्च न्यायालय ने आज एक ऐसी याचिका पर केंद्र सरकार से जवाब मांगा है जिसमें कहा गया है कि फांसी की सजा असंवैधानिक है, क्योंकि यह तकलीफदेह होती है और जीवन समाप्त करने का यह सम्मानजनक तरीका नहीं है। 



मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए.एम. खानविलकर और न्यायमूर्ति डी. वाय. चंद्रचूड़ की अगुवाई वाली पीठ ने सरकार को प्रतिक्रिया देने के लिए तीन सप्ताह का समय दिया है। अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 354 फांसी पर लटकाकर मौत की सजा देने की अनुमति देती है। पीठ ने इस मामले में महान्यायवादी के.के. वेणुगोपाल से सहायता करने के लिए भी कहा है। न्यायालय ने संसद से मौत की सजा देने के वैकल्पिक तरीकों पर विचार करने के लिए कहा है। 



याचिकाकर्ता वकील ने न्यायालय को बताया है कि फांसी द्वारा मौत की सजा देना संविधान के अनुच्छेद-21 का उल्लंघन है, जो सम्मान के साथ जीने का अधिकार प्रदान करता है। उन्होंने कहा कि सम्मान के साथ जीने के अधिकार में बिना दर्द व तकलीफ के सम्मान के साथ मरने का अधिकार भी शामिल है। याचिकाकर्ता वकील द्वारा न्यायालय को कम तकलीफदेह तरीके से मौत की सजा के बारे में सुझाव देने पर न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने कहा कि घातक इंजेक्शन से मौत की सजा देने के तरीके की काफी आलोचना हुई है। 



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें