Breaking News
कोहली और धोनी ने खेली जुझारू पारी, भारत ने इंग्लैंड को दिया 257 का लक्ष्य         ||           आज का दिन : कानन देवी         ||           शी जिनपिंग के पोस्टर पर स्याही फेंकने वाली चीनी महिला गिरफ्तार         ||           चुनाव आयोग ने लाभ का पद मामले में आप विधायकों को याचिकाकर्ता से जिरह करने की अनुमति नहीं दी         ||           स्वामी अग्निवेश पर भाजपा कार्यकर्ताओं का हमला         ||           ओवैसी ने बीजेपी से पूछा सेना में कितने मुस्लिम?         ||           भाजपा सांसद सावित्रीबाई फुले ने कहा मुगलसराय और इलाहाबाद का नाम बदलना मुस्लिमों को ठेस पहुंचा सकता है         ||           इंग्लैंड ने टॉस जीता, भारत को पहले बल्लेबाज़ी का न्योता         ||           सेंसेक्स 196 अंक की तेजी पर बंद         ||           सर्वोच्च न्यायलय ने समलैंगिकता के मामले पर फैसला रखा सुरक्षित         ||           सर्वोच्च न्यायलय ने कहा हर हाल में भीड़तंत्र को रोकना सरकार की जिम्मेदारी         ||           हसन अली की गर्दन में विकेट का जश्न मनाते समय पड़ी मोच         ||           बसपा की कांग्रेस को दो टूक, गठबंधन तीनों राज्यों हो नहीं तो किसी में भी नहीं         ||           टीवी-फिल्मों की प्यारी 'मां' रीता भादुड़ी का निधन         ||           केंद्र सरकार ने सभी चाइल्ड केयर इंस्टीट्यूशन के जांच के दिए आदेश         ||           राहुल गांधी ने कहा मैं हाशिये पर खड़े शख्स के साथ, उसकी जाति-धर्म मेरे लिए अहम नहीं         ||           भाजपा नेता चंदन मित्रा ने पार्टी से दिया इस्तीफा         ||           मायावती ने राहुल गाँधी पर टिप्पणी वाले जय प्रकाश सिंह को पद से हटाया         ||           राजधानी दिल्ली में 6 साल की मासूम का अपहरण करके किया रेप         ||           शेयर बाजार के शुरूआती कारोबार में तेजी का असर         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> सर्वोच्च न्यायालय ने मृत्युदंड पर केंद्र से जवाब मांगा

सर्वोच्च न्यायालय ने मृत्युदंड पर केंद्र से जवाब मांगा


admin ,Vniindia.com | Friday October 06, 2017, 05:36:00 | Visits: 102







नई दिल्ली, 6 अक्टूबर (वीएनआई)| सर्वोच्च न्यायालय ने आज एक ऐसी याचिका पर केंद्र सरकार से जवाब मांगा है जिसमें कहा गया है कि फांसी की सजा असंवैधानिक है, क्योंकि यह तकलीफदेह होती है और जीवन समाप्त करने का यह सम्मानजनक तरीका नहीं है। 



मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए.एम. खानविलकर और न्यायमूर्ति डी. वाय. चंद्रचूड़ की अगुवाई वाली पीठ ने सरकार को प्रतिक्रिया देने के लिए तीन सप्ताह का समय दिया है। अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 354 फांसी पर लटकाकर मौत की सजा देने की अनुमति देती है। पीठ ने इस मामले में महान्यायवादी के.के. वेणुगोपाल से सहायता करने के लिए भी कहा है। न्यायालय ने संसद से मौत की सजा देने के वैकल्पिक तरीकों पर विचार करने के लिए कहा है। 



याचिकाकर्ता वकील ने न्यायालय को बताया है कि फांसी द्वारा मौत की सजा देना संविधान के अनुच्छेद-21 का उल्लंघन है, जो सम्मान के साथ जीने का अधिकार प्रदान करता है। उन्होंने कहा कि सम्मान के साथ जीने के अधिकार में बिना दर्द व तकलीफ के सम्मान के साथ मरने का अधिकार भी शामिल है। याचिकाकर्ता वकील द्वारा न्यायालय को कम तकलीफदेह तरीके से मौत की सजा के बारे में सुझाव देने पर न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने कहा कि घातक इंजेक्शन से मौत की सजा देने के तरीके की काफी आलोचना हुई है। 



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें