Breaking News
राखी सावंत ने कहा आसाराम को फांसी क्यों नहीं         ||           नीतीश और तेजस्वी भी कर्नाटक चुनाव में मांगेंगे वोट         ||           साइना, सिंधु, श्रीकांत एशियाई चैम्पियनशिप के क्र्वाटर फाइनल में         ||           जोकोविक बार्सिलोना ओपन से बाहर, नडाल तीसेर दौर में         ||           मल्लिका ने कहा भारत बन रहा 'सामूहिक दुष्कर्मियों की भूमि'         ||           सेंसेक्स 212 अंकों की तेजी पर बंद         ||           संगीतकार शंकर की पुण्य तिथि पर         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने कहा भारत-चीन संबंधों की रणनीतिक दृष्टिकोण से समीक्षा करेंगे         ||           प्रधानमंत्री मोदी का कर्नाटक में त्रिशंकु विधानसभा की संभावना से इनकार         ||           गोवा कांग्रेस के अध्यक्ष बने गिरीश चोडांकर         ||           आज का दिन :         ||           कमलनाथ मप्र कांग्रेस के नए अध्यक्ष बने         ||           कोहली के लिए खेल रत्न, द्रविड़ के लिए द्रोणाचार्य की बीसीसीआई ने सिफारिश की         ||           तेजस्वी यादव पिता लालू से मिले, जल्द स्वस्थ होने की कामना की         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कांग्रेस विदेशी एजेंसियों की सेवाएं लेकर झूठ फैला रही         ||           सैन्य सीमांकन रेखा पर किम जोंग का स्वागत करेंगे दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति         ||           श्रद्धा कपूर ने वीट का नया प्रोडक्ट लांच किया         ||           राजधानी दिल्ली में धूल भरी आंधी की संभावना         ||           उप्र के कुशीनगर में ट्रेन से स्कूली वैन टकराई, 13 बच्चों की मौत         ||           आतंकवादियो ने पुलिस सुरक्षाचौकी पर हमला कर हथियार लूटे         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> सर्वोच्च न्यायालय ने मृत्युदंड पर केंद्र से जवाब मांगा

सर्वोच्च न्यायालय ने मृत्युदंड पर केंद्र से जवाब मांगा


admin ,Vniindia.com | Friday October 06, 2017, 05:36:00 | Visits: 76







नई दिल्ली, 6 अक्टूबर (वीएनआई)| सर्वोच्च न्यायालय ने आज एक ऐसी याचिका पर केंद्र सरकार से जवाब मांगा है जिसमें कहा गया है कि फांसी की सजा असंवैधानिक है, क्योंकि यह तकलीफदेह होती है और जीवन समाप्त करने का यह सम्मानजनक तरीका नहीं है। 



मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए.एम. खानविलकर और न्यायमूर्ति डी. वाय. चंद्रचूड़ की अगुवाई वाली पीठ ने सरकार को प्रतिक्रिया देने के लिए तीन सप्ताह का समय दिया है। अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 354 फांसी पर लटकाकर मौत की सजा देने की अनुमति देती है। पीठ ने इस मामले में महान्यायवादी के.के. वेणुगोपाल से सहायता करने के लिए भी कहा है। न्यायालय ने संसद से मौत की सजा देने के वैकल्पिक तरीकों पर विचार करने के लिए कहा है। 



याचिकाकर्ता वकील ने न्यायालय को बताया है कि फांसी द्वारा मौत की सजा देना संविधान के अनुच्छेद-21 का उल्लंघन है, जो सम्मान के साथ जीने का अधिकार प्रदान करता है। उन्होंने कहा कि सम्मान के साथ जीने के अधिकार में बिना दर्द व तकलीफ के सम्मान के साथ मरने का अधिकार भी शामिल है। याचिकाकर्ता वकील द्वारा न्यायालय को कम तकलीफदेह तरीके से मौत की सजा के बारे में सुझाव देने पर न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने कहा कि घातक इंजेक्शन से मौत की सजा देने के तरीके की काफी आलोचना हुई है। 



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें