Breaking News
दृष्टिबाधित विश्व कप के फाइनल में भारत ने पाकिस्तान को हराया         ||           अमित शाह ने कहा काशी से पूरे विश्व में जा रहा विकास का संदेश         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने कहा आस्ट्रेलिया समूह में प्रवेश वैश्विक शांति के प्रति बचनबद्धता की संपुष्टि         ||           सीजेआई की अध्यक्षता वाली पीठ लोया मामले की सुनवाई करेगी         ||           मुंबई में वनप्लस ने पहला ऑफलाइन स्टोर खोला         ||           संजय सिंह ने कहा मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने भाजपा के एजेंट की तरह काम किया         ||           सिमोना हालेप आस्ट्रेलियन ओपन में डेविस के खिलाफ मैराथन मैच जीतीं         ||           कांग्रेस ने कहा भाजपा के खिलाफ गठबंधन को लेकर माकपा गंभीर नहीं         ||           महाराष्ट्र में सम्मान के लिए हत्या के दोषियों को मृत्युदंड         ||           आम आदमी पार्टी ने कहा ज्योति ने 20 विधायकों को अयोग्य ठहरा मोदी को दिया तोहफा         ||           जाहन्वी कपूर की 'धड़क' 20 जुलाई को रिलीज होगी         ||           पेस-राजा की जोड़ी आस्ट्रेलियन ओपन में उलटफेर कर तीसरे दौर में         ||           जेडीयू ने कहा सीबीआई पर अंगुली उठाने वाले तेजस्वी जनता से माफी मांगें         ||           4-नेशन्स इन्विटेशनल हॉकी टूर्नामेंट में भारत ने न्यूजीलैंड को हराया         ||           बिहार में महाबोधि मंदिर परिसर के पास विस्फोटक बरामद         ||           आज का दिन :         ||           जरीन खान ने कहा सलमान के साथ सपनीली शुरुआत हुई         ||           राजधानी दिल्ली में सुबह धूप खिली         ||           असम में भूकंप के हल्के झटके         ||           26 जनवरी को मुंबई महोत्सव का शुभारंभ         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> सर्वोच्च न्यायालय ने मृत्युदंड पर केंद्र से जवाब मांगा

सर्वोच्च न्यायालय ने मृत्युदंड पर केंद्र से जवाब मांगा


admin ,Vniindia.com | Friday October 06, 2017, 05:36:00 | Visits: 57







नई दिल्ली, 6 अक्टूबर (वीएनआई)| सर्वोच्च न्यायालय ने आज एक ऐसी याचिका पर केंद्र सरकार से जवाब मांगा है जिसमें कहा गया है कि फांसी की सजा असंवैधानिक है, क्योंकि यह तकलीफदेह होती है और जीवन समाप्त करने का यह सम्मानजनक तरीका नहीं है। 



मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए.एम. खानविलकर और न्यायमूर्ति डी. वाय. चंद्रचूड़ की अगुवाई वाली पीठ ने सरकार को प्रतिक्रिया देने के लिए तीन सप्ताह का समय दिया है। अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 354 फांसी पर लटकाकर मौत की सजा देने की अनुमति देती है। पीठ ने इस मामले में महान्यायवादी के.के. वेणुगोपाल से सहायता करने के लिए भी कहा है। न्यायालय ने संसद से मौत की सजा देने के वैकल्पिक तरीकों पर विचार करने के लिए कहा है। 



याचिकाकर्ता वकील ने न्यायालय को बताया है कि फांसी द्वारा मौत की सजा देना संविधान के अनुच्छेद-21 का उल्लंघन है, जो सम्मान के साथ जीने का अधिकार प्रदान करता है। उन्होंने कहा कि सम्मान के साथ जीने के अधिकार में बिना दर्द व तकलीफ के सम्मान के साथ मरने का अधिकार भी शामिल है। याचिकाकर्ता वकील द्वारा न्यायालय को कम तकलीफदेह तरीके से मौत की सजा के बारे में सुझाव देने पर न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने कहा कि घातक इंजेक्शन से मौत की सजा देने के तरीके की काफी आलोचना हुई है। 



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें