Breaking News
महबूबा मुफ्ती ने कहा लोकसभा चुनाव तक भारत-पाक में तनाव रहेगा         ||           जर्मनी ने मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने के लिए पहल की         ||           मोदी ने कहा कांग्रेस ने प्रेस से सेना तक कुछ नहीं छोड़ा         ||           अरुणाचल प्रदेश में भाजपा के 2 मंत्री और 6 विधायक एनपीपी में शामिल         ||           गोवा विधानसभा में आज होगा फ्लोर टेस्ट         ||           जस्टिस पिनाकी चंद्र घोष देश के पहले लोकपाल बने         ||           आज का दिन : आचार्य कृपलानी         ||           यूपी में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय की बहू कांग्रेस में जाएंगी         ||           शिवपाल यादव की प्रसपा ने 31 लोकसभा सीटों पर उतारे प्रत्याशी         ||           कर्नाटक में निर्माणाधीन बिल्डिंग गिरी, 70 लोग फंसे         ||           शशि थरूर ने कहा भाजपा लोकसभा चुनाव को 'खाकी चुनाव' में बदलने की कोशिश कर रही         ||           प्रियंका गांधी ने गंगा यात्रा के दूसरे दिन मिर्जापुर में लोगों से मुलाकात की         ||           दलाई लामा ने कहा भारत से ही हो सकता है मेरा उत्तराधिकारी         ||           त्रिपुरा में भाजपा के उपाध्यक्ष सुबल भौमिक ने दिया इस्तीफा         ||           डीएमके ने कहा सत्ता में आए तो राजीव के हत्यारों को करेंगे रिहा         ||           अजित डोभाल ने कहा पुलवामा में सीआरपीएफ के बलिदान को न भूले हैं और न भूलेंगे         ||           आरजेडी ने कांग्रेस से कहा 8 सीटों पर लड़ो या अकेले रहो         ||           नीदरलैंड में ट्राम में गोलीबारी से 3 लोगो की मौत         ||           प्रमोद सावंत गोवा के नए मुख्यमंत्री बने         ||           किसान ने लौटाए पीएम सम्मान निधि में मिले 2000 रु, मांगी इच्छामृत्यु         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> सुनीता नारायण ने कहा चुप्पी की साजिश का सामना कर रहे हम

सुनीता नारायण ने कहा चुप्पी की साजिश का सामना कर रहे हम


admin ,Vniindia.com | Friday November 24, 2017, 10:25:51 | Visits: 435







नई दिल्ली, 24 नवंबर (वीएनआई)| विज्ञान और पर्यावरण केंद्र की प्रमुख और सर्वोच्च न्यायालय द्वारा नियुक्त पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण (ईपीसीए) की सदस्य पर्यावरणविद् सुनीता नारायण का कहना है कि जिन पर्यावरण चुनौतियों का सामना हम कर रहे हैं वह 'चुप्पी की एक साजिश' की वंशज है। 



देश के बाकी हिस्सों में दिल्ली जैसी नाराजगी की आवश्यकता पर जोर देते हुए उन्होंने कहा, "प्रदूषण दिल्ली में दिखाई दे रहा है क्योंकि कुछ महत्वपूर्ण लोग यहां रहते हैं, इसलिए यहां एक अच्छी निगरानी प्रणाली है और इसमें नाराजगी है क्योंकि लोग जानते हैं कि प्रदूषण उनके बच्चों को कैसे प्रभावित कर रहा है, लेकिन देश के बाकी हिस्सों के बारे में क्या? अगर लोग नहीं जानते कि उन्हें क्या मार रहा है, तो वे पर्यावरण प्रदूषण के बारे में परेशान नहीं होते। नारायण ने एक साक्षात्कार में कहा, "यह चुप्पी की एक साजिश है, यह एक साजिश है क्योंकि आप उसे नहीं जानना चाहते हैं (पर्यावरण प्रदूषण के हानिकारक प्रभाव)। उन्होंने कहा, "दस दिन पहले जब दिल्ली में स्मॉग प्रकरण हुआ, तो मुझे गहराई से निराशा और काफी असहाय सा महसूस हुआ। हमने अपनी जिंदगी और आत्मा को चीजों को स्थानांतरित करने दिया था, लेकिन वास्तविक, सार्थक कार्रवाई करने के लिए यह बहुत मुश्किल है। कुछ मौके पर मैंने हाथ खड़े करने के कोशिश की। लेकिन यह एक सफर है और आपको इसे उम्मीद के साथ इसे आगे बढ़ाना होगा।"



नारायण ने कीटनाशकों का इस्तेमाल करने वाली कोला कंपनियों को उजागर करने के लिए 'आग से परीक्षण' कर सच को उजागर किया। साथ ही उन्होंने अरुण जेटली, कपिल सिब्बल और पी. चिदंबरम जैसे दिग्गजों के खिलाफ कानूनी लड़ाई जीती जो ऑटोमोबाइल कंपनियों के हितों का प्रतिनिधित्व करते हुए कण प्रदूषण को खतरनाक नहीं मान रहे थे। उन्होंने तर्क दिया, "भारत की समस्या यह है कि यहां हितों में टकराव है। कोई दिक्कत नहीं है, इसलिए आप स्पष्ट रूप से उन मुद्दों की ओर बढ़ने में कोई दिलचस्पी नहीं लेते हैं जो बड़ी संख्या में (लोगों का) होते है। नारायण ने कहा, "अगर जिस तरीके से आप प्रदूषण की उपेक्षा कर रहे हैं तो आप प्रदूषण नियंत्रण और चीजों को ठीक करने की योजना नहीं बना सकते हैं। नारायण ने एक साल तक 'अदालत में सरकार के साथ कड़े संघर्ष' के दौरान कहा, "सरकार ने हर सुनवाई में हमसे लड़ाई लड़ी और मुझे लगता था कि यह पर्यावरण मंत्रालय है या प्रदूषण मंत्रालय? नारायण ने कहा कि पहली बार अब पर्यावरण मंत्रालय लगभग मान गया है और अदालत में उन्होंने कहा है कि वह इसे प्रतिबंधित कर रहे हैं।" उन्होंने कहा, "पेटकोक और भट्ठा तेल के आयात पर प्रतिबंध लगवाना उनकी अगली लड़ाई है।"



राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में उद्योगों द्वारा पेटकोक और भट्ठी के तेल के उपयोग पर प्रतिबंध लगाने के आदेश को वापस लेने के लिए सर्वोच्च न्यायालय ने याचिका खारिज कर दी। न्यायालय ने नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन (एनटीपीसी) द्वारा वैकल्पिक ईंधन का प्रयोग करने के लिए समय की विस्तार की एक याचिका को भी खारिज कर दिया है।  उन्होंने कहा, "हमने अपनी शक्ति (ईपीसीए) को बहुत सावधानी से इस्तेमाल किया है, हमने अभी तक हमारी शक्तियों में धारा 5 का उपयोग नहीं किया क्योंकि हमें इसकी आवश्यकता नहीं है। मुझे लगता है कि हमें ऐसे संस्थानों की जरूरत है जिनके पास कार्रवाई करने के लिए जानकारी और विश्वसनीयता हो।" उन्होंने कहा, "धारा 5 के तहत, ईपीसीए किसी भी उद्योग को बंद कर सकता है। हालांकि, एक आशावादी होने के नाते, क्योंकि यह कुछ चीजें हमारी पहुंच में हैं, नारायण ने उचित काम करने में कामयाबी हासिल कर ली है। उन्होंने कहा, "आप हमेशा बहस कर सकते हैं और मैं आगे आकर कहूंगी, हां हम और अधिक परिणाम प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन इस देश में यह इतनी बुरी बात है कि हम कुछ अच्छे का जश्न मनाएं।"



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें