Breaking News
न्यूजीलैंडः स्कार्फ से बंधा प्रेम,दृढता का बंधन         ||           शत्रुघ्न सिन्हा 28 मार्च को राहुल गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस का हाथ थामेंगे         ||           बीसीसीआई ने कहा रविचंद्रन अश्विन को मर्यादा बनाए रखनी चाहिए         ||           विपक्ष ने कहा चौकीदार ने देश के साथ गद्दारी की         ||           गिरिराज सिंह ने कन्हैया को बताया 'पापड़ फोड़ पहलवान'         ||           यूपी के महागठबंधन में एसपी, बीएसपी और आरएलडी के साथ जुड़े दो और दल         ||           राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी को अनिल अंबानी का चौकीदार कहा         ||           सैम पित्रोदा को कांग्रेस ने चुनाव प्रचार की दी जिम्मेदारी         ||           बसपा ने फतेहपुर सीकरी से बदला प्रत्याशी         ||           जया प्रदा बीजेपी में हुईं शामिल, आजम खान के खिलाफ लड़ सकती हैं चुनाव         ||           मुरली मनोहर जोशी टिकट नहीं मिलने से नाराज         ||           पेट्रोल और डीजल के दाम आज नहीं बढ़ें         ||           अरविंद केजरीवाल ने कहा दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा मिला तो हम यहां 10 सिंगापुर बना देंगे         ||           ईरान में बाढ़ में मरने वालो की संख्या 19 पहुंची         ||           कन्हैया कुमार ने गिरिराज सिंह पर तंज कसा, बोले 'वीजा मंत्री' बेगूसराय जाने पर दुखी हो गए         ||           भाजपा ने 40 स्टार प्रचारकों की सूची जारी की, अडवाणी और जोशी का नाम नहीं         ||           छत्तीसगढ़ के सुकमा में मुठभेड़ में 4 नक्सली ढेर         ||           मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष बनाए गए मिलिंद देवड़ा         ||           न्यूज़ीलैण्ड : स्कार्फ से बंधा प्रेम, दृढ़ता का बंधन         ||           अरुण जेटली ने राहुल गांधी की 12000 न्यूनतम महीने वाली स्कीम को धोखा बताया         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> घर से दूर रह कर भी घर के पास.. एक शाम जर्मनी और भारत को जोड़ने वाली

घर से दूर रह कर भी घर के पास.. एक शाम जर्मनी और भारत को जोड़ने वाली


admin ,Vniindia.com | Wednesday June 13, 2018, 06:10:00 | Visits: 217







बर्लिन, 13 जून (वीएनआई) घर से दूर रह कर भी घर के पास ... बर्लिन की 10 जून की शाम जब शहर में भारत की समृद्ध संस्कृति की झलक ने न/न केवल वहा मौजूद भारतीयों और भारतीय मूल के मन को इस अनुभूति ने छू लिया बल्कि जर्मनी और भारत को भी जोड़ा. शहर मे रंगारंग भारतीय  नृत्य संगीत लहरियों के सासंकृतिक समारोह के साथ लजीज भारतीय व्यंजनों की खुशबू से महक रहा था. और भारतीय मूल के साथ साथ जर्मन निवासी और अन्य विदेशी  भारतीय नृत्य संगीत के इस आलम में बिरयानी,करी, इडली, डोसा,पूरी भाजी, शर्बत, गोलगप्पे, चाट आदि तमाम परंपरागत  भारतीय व्यंजनो के चटखारे ले कर खा रहे थे.



बर्लिन  स्थित भारतीय दूतावास ने यह  दूसरा इंडियन फूड फेस्टिवल  आयो्जित किया जिस मे बड़ी तादाद मे कद्रदानों ने भारतीय व्यंजनों का स्वाद लिया.इन मे से काफी वो भारतीय थे जो जर्मनी मे पढाई अथवा रोजगार के सिलसिले में यहा आये हुए है  लेकिन उस से भे ज्यादा भारतीय खान पान के विदेशी कद्र दानो ने जम कर इन का स्वाद लिया. इस के साथ ही  भरत नाट्यम और  भारतीय लोक नृत्यो के सांस्कृतिक समारोहों  और योग कार्यक्रमो ने इस आयोजन ्की शोभा दुगनी कर दी.



भारतीय दूतावास की ओर से 2017 में जब पहला ऐसा आयोजन किया गया था, तब करीब दो हजार लोग यहां भारतीय व्यंजनों का लुत्फ उठाने पहुंचे थे. पहले कार्यक्रम की सफलता के बाद भारतीय दूतावास ने ऐसा दूसरा आयोजन जून 2018 में आयोजित किया, जिस मे इस वर्ष लगभग ३,००० कद्र दानों ने हिस्सा लिया. इस आयोजन में  भारत के विभिन्न प्रदेशो के खान पान के 12  स्टॉल लगाये गये. जिन्हें  वहा बसे भारतीयों की एसोसिएशन ने लगाया था. इसमें गुजरात, तमिलनाडु, केरल, नगालैंड, मणिपुर, असम, पश्चिम बंगाल के व्यंजन शामिल थे.



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें