Breaking News
उमा भारती ने कहा मायावती पर फिर होगा लखनऊ गेस्ट हाउस जैसा हमला         ||           डीएमके सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण के खिलाफ कोर्ट पहुंची         ||           राजधानी दिल्ली में ठंड का कहर जारी, 7 लोगों की मौत         ||           कन्नौज से चुनाव लड़ सकती हैं डिंपल यादव         ||           मायावती ने कहा मैं कांशीराम की शिष्या हूँ, उन्हीं की स्टाइल में दूंगी जवाब         ||           आज का दिन : सुचित्रा सेन         ||           श्रीनगर में पुलिस टीम पर ग्रेनेड अटैक में तीन पुलिसकर्मी घायल         ||           राम माधव ने कहा राष्ट्र विरोधी ताकतों से कानूनी प्रकिया के जरिए ही निपटना होगा         ||           एन. श्रीनिवासन ने कहा बीसीसीआई में गड़बड़ी         ||           राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद गंगा पूजन के लिए प्रयागराज पहुंचे         ||           शशि थरूर ने कहा मोदी को मिला फर्जी फिलिप कोटलर अवॉर्ड पीएमओ को लौटा देना चाहिए         ||           फिल्म निर्माता ने मंदिर में की आत्महत्या         ||           पेट्रोल-डीजल आज फिर महंगा हुआ         ||           माली में आतंकवादियों के हमले में 10 लोगों की मौत         ||           एनआईए ने पश्चिम यूपी और पंजाब समेत 7 ठिकानों पर छापेमारी की         ||           दिल्ली के खयाला इलाके में हिंसा में एक की मौत, दो घायल         ||           देश के शेयर बाज़ारो के शुरूआती कारोबार में तेजी का असर         ||           दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत में ठंड कहर जारी, कई ट्रेनें लेट         ||           भाजपा अध्यक्ष अमित शाह एम्स में भर्ती, स्वाइन फ्लू की शिकायत         ||           कोहली ने कहा भारत को टेस्ट की सुपरपावर बनते देखना चाहता हूं         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> श्रीलंका में मुख्य तमिल पार्टी राजपक्षे के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करेगी

श्रीलंका में मुख्य तमिल पार्टी राजपक्षे के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करेगी


admin ,Vniindia.com | Sunday November 04, 2018, 05:19:00 | Visits: 47







कोलंबो, 04 नवंबर, (वीएनआई) श्रीलंका के नवनियुक्त प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के खिलाफ मुख्य तमिल पार्टी ‘तमिल नैशनल अलायंस’ ने अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करेगी। 



तमिल नैशनल अलायंस का यह बयान ऐसे समय आया है जब राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना पर इसको लेकर दबाव बढ़ रहा है कि वह राजनीतिक संकट समाप्त करने के लिए निलंबित संसद में एक मतविभाजन कराएं। गौरतलब है राजपक्षे का दावा है कि बहुमत साबित करने के लिए उनके पास पर्याप्त संख्याबल है और प्रधानमंत्री पद से हटाए गए रानिल विक्रमसिंघे के कम से कम छह समर्थक उनके पाले में आ गए हैं। राष्ट्रपति ने संसद को निलंबित कर दिया था जिसे राजपक्षे के लिए सदस्यों को अपने पाले में करने के लिए महत्वपूर्ण माना जा रहा है। वहीं विक्रमसिंघे को राष्ट्रपति सिरिसेना ने 26 अक्टूबर को पद से हटा दिया था। उनकी यूनाइटेड नैशनल पार्टी का दावा है कि विक्रमसिंघ को हटाना असंवैधानिक और अवैध है। 



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें