Breaking News
जीतनराम मांझी ने महागठबंधन में नीतीश की एंट्री पर कहा कुर्सी छोड़े         ||           भारत और सेशल्स की बीच नौसेना अड्डा बनाने को लेकर सहमति बनी         ||           संसद का मॉनसून सत्र 18 जुलाई से शुरू होगा         ||           योगी आदित्यनाथ ने कहा देश में आपातकाल थोपने वाले लोग अब लोकतंत्र की बातें कर रहे हैं         ||           राजस्थान में बीजेपी के बागी नेता घनश्याम तिवारी ने पार्टी छोड़ी         ||           सेंसेक्स 219 अंकों की गिरावट पर बंद         ||           दीपिका ने तीरंदाजी वर्ल्ड कप में स्वर्ण पदक जीता         ||           संगीतकार मदन मोहन के जन्मदिन (25 जून) पर         ||           आज का दिन         ||           अरुण जेटली ने आपातकाल की बरसी पर इंदिरा गाँधी तुलना हिटलर से की         ||           ममता के चीन दौरे के बाद अब अमेरिका दौरे पर भी संशय         ||           पत्रकार संगठनों द्वारा जम्मू-कश्मीर के भाजपा के विधायक द्वारा पत्रकारो को धमकाने की निंदा         ||           सेशेल्‍स के राष्‍ट्रपति का भारत में स्‍वागत         ||           दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली में पेड़ काटे जाने पर लगाई रोक         ||           पेट्रोल की कीमतों में लगातार तीसरे दिन गिरावट         ||           भारत-अमेरिका के बीच सैन्य सहयोग मजबूत होंगे         ||           प्रियंका चोपड़ा जल्द दिखेंगी मां के रोल में         ||           योगी आदित्यनाथ ने जामिया और एएमयू में दलितों को आरक्षण की मांग उठाई         ||           दिल्ली में पेड़ काटने को लेकर हाइकोर्ट में आज सुनवाई         ||           एर्दोगन दूसरी बार तुर्की के राष्ट्रपति बने         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> एससी/एसटी फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका पर 3 मई को सुनवाई

एससी/एसटी फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका पर 3 मई को सुनवाई


admin ,Vniindia.com | Friday April 27, 2018, 06:25:00 | Visits: 49







नई दिल्ली, 27 अप्रैल (वीएनआई)| सर्वोच्च न्यायालय तीन मई को केंद्र की उस याचिका पर सुनवाई करेगा, जिसमें न्यायालय द्वारा अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति(अत्याचार निवारण) अधिनियम को कमजोर करने से संबंधित फैसले पर पुनर्विचार करने का अनुरोध किया गया है। 



न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, "महान्यायवादी के.के. वेणुगोपाल द्वारा पीठ को यह सूचित करने पर कि न्यायालय द्वारा तीन अप्रैल को दिए आदेश के बाद सभी पक्षों ने अपनी लिखित दलीलें पेश कर दी हैं, न्यायालय इस मामले की सुनवाई करेगा।  केंद्र ने इस फैसले के खिलाफ सर्वोच्च न्यायालय का रूख किया है। सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का सांसदों व विधायकों समेत कई लोगों ने विरोध किया है। इनलोगों का मानना है कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले से अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के लोगों के हितों की रक्षा करने वाले एससी/एसटी(अत्याचार निवारण) अधिनियम का प्रावधान कमजोर हुआ है। 



न्यायमूर्ति गोयल और न्यायमूर्ति उदय उमेश ललित द्वारा 20 मार्च को सुनाए गए फैसले के खिलाफ केंद्र सरकार समीक्षा की मांग कर रही है। इससे पहले इस मामले की तीन अप्रैल को हुई सुनवाई में सर्वोच्च न्यायालय ने अपने निर्णय पर रोक लगाने से इंकार कर दिया था, लेकिन स्पष्ट किया था कि बिना एफआईआर दर्ज किए भी एससी/एसटी(अत्याचार निवारण) अधिनियम, 1989 के अंतर्गत अत्याचार का शिकार हुए कथित पीड़ित को मुआवजा दिया जा सकता है। अदालत ने कहा था, हम कानून या इसके क्रियान्वयन के विरुद्ध और इसे कमजोर करने के पक्ष में नहीं हैं, बल्कि हमारा उद्देश्य निर्दोष लोगों को सजा पाने से बचाना है।



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें