Breaking News
आज का दिन :         ||           गोवा के नए मुख्यमंत्री हो सकते हैं प्रमोद सावंत         ||           छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में एक सीआरपीएफ जवान शहीद, पांच घायल         ||           मनोहर पर्रिकर पंचतत्व में हुए विलीन         ||           प्रियंका गाँधी ने कहा गरीब नहीं अमीर रखते हैं चौकीदार         ||           राहुल ने कहा 500-1000 के नोटों की तरह संविधान को भी खत्म करना चाहते हैं मोदी         ||           विदेश मंत्री सुषमा ने मालदीव के गृह मंत्री से मुलाकात की         ||           मायावती ने कांग्रेस को महागठबंधन के लिए 7 सीटें छोड़ने दिया करारा जवाब         ||           गिरिराज सिंह ने कहा सिर्फ नवादा सीट से लड़ूंगा         ||           थिएम ने फेडरर को हराकर पहला एटीपी मास्टर्स खिताब जीता         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने मनोहर पर्रिकर को दी अंतिम विदाई         ||           प्रियंका गांधी प्रयागराज से वाराणसी की तीन दिवसीय गंगा यात्रा पर निकलीं         ||           चीन के प्रति नीति में बदलाव जरूरी         ||           पेट्रोल आज हुआ महंगा, डीजल के दाम घटे         ||           एआईएडीएमके ने लोकसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों में केवल एक महिला को दिया टिकट         ||           पर्रिकर को अंतिम विदाई देने के लिए पणजी बीजेपी दफ्तर में उमड़ी भीड़         ||           कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल में लेफ्ट फ्रंट के साथ गठबंधन खत्म किया         ||           आज का दिन : साइना नेहवाल         ||           गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का निधन         ||           बिहार में एनडीए के बीच आज हुआ सीटों का बंटवारा         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> एससी/एसटी फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका पर 3 मई को सुनवाई

एससी/एसटी फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका पर 3 मई को सुनवाई


admin ,Vniindia.com | Friday April 27, 2018, 06:25:00 | Visits: 126







नई दिल्ली, 27 अप्रैल (वीएनआई)| सर्वोच्च न्यायालय तीन मई को केंद्र की उस याचिका पर सुनवाई करेगा, जिसमें न्यायालय द्वारा अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति(अत्याचार निवारण) अधिनियम को कमजोर करने से संबंधित फैसले पर पुनर्विचार करने का अनुरोध किया गया है। 



न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, "महान्यायवादी के.के. वेणुगोपाल द्वारा पीठ को यह सूचित करने पर कि न्यायालय द्वारा तीन अप्रैल को दिए आदेश के बाद सभी पक्षों ने अपनी लिखित दलीलें पेश कर दी हैं, न्यायालय इस मामले की सुनवाई करेगा।  केंद्र ने इस फैसले के खिलाफ सर्वोच्च न्यायालय का रूख किया है। सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का सांसदों व विधायकों समेत कई लोगों ने विरोध किया है। इनलोगों का मानना है कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले से अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के लोगों के हितों की रक्षा करने वाले एससी/एसटी(अत्याचार निवारण) अधिनियम का प्रावधान कमजोर हुआ है। 



न्यायमूर्ति गोयल और न्यायमूर्ति उदय उमेश ललित द्वारा 20 मार्च को सुनाए गए फैसले के खिलाफ केंद्र सरकार समीक्षा की मांग कर रही है। इससे पहले इस मामले की तीन अप्रैल को हुई सुनवाई में सर्वोच्च न्यायालय ने अपने निर्णय पर रोक लगाने से इंकार कर दिया था, लेकिन स्पष्ट किया था कि बिना एफआईआर दर्ज किए भी एससी/एसटी(अत्याचार निवारण) अधिनियम, 1989 के अंतर्गत अत्याचार का शिकार हुए कथित पीड़ित को मुआवजा दिया जा सकता है। अदालत ने कहा था, हम कानून या इसके क्रियान्वयन के विरुद्ध और इसे कमजोर करने के पक्ष में नहीं हैं, बल्कि हमारा उद्देश्य निर्दोष लोगों को सजा पाने से बचाना है।



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें