Breaking News
प्रीति जिंटा ने कहा आज की स्वीटू, कल की मीटू हो सकती है         ||           पुणे पुलिस ने कहा नक्सलियों के साथ दिग्विजय सिंह की कॉल का लिंक मिला         ||           प्रधानमंत्री टेरिसा मे ने ब्रेग्जिट पर बागियों को चेतावनी दी         ||           मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा अमृतसर ब्लास्ट के संदिग्ध की जानकारी देने वाले को 50 लाख का इनाम         ||           राजस्थान में बीजेपी ने सचिन पायलट के खिलाफ यूनुस खान को उतारा         ||           एचएस फुल्का अपने बयान से पलटे, कहा मेरी बातों का गलत मतलब निकाला गया         ||           प्रधानमंत्री मोदी आज कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन करेंगे         ||           एचएस फुल्‍का ने कहा अमृतसर धमाके में सेनाध्‍यक्ष का हाथ हो सकता है         ||           देश के शेयर बाज़ारो के शुरूआती कारोबार में तेजी का असर         ||           आज का दिन :         ||           भारत में बना प्राइवेट सैटेलाइट पहली बार लॉन्च होगा         ||           रवि शास्त्री ने कहा ऑस्ट्रेलिया में भारत को खलेगी हार्दिक पंड्या की कमी         ||           उत्तराखंड में बस खाई में गिरने से 12 यात्रियों की मौत         ||           गृहमंत्री राजनाथ ने अमृतसर हमले में पंजाब के मुख्यमंत्री से सख्त कदम उठाने को कहा         ||           अमृतसर में बम धमाका में तीन लोगो की मौत, 15 लोग घायल         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कांग्रेस ने लोगों की आंखों में धूल झोंका और झूठे वादे किए         ||           सेनापति अमित शाह पहुंचे रणभूमि छत्तीसगढ़         ||           बोली हरमनप्रीत ......         ||           इंग्लैंड क्रिकेट टीम ने श्रीलंका में बड़ा कारनामा किया         ||           मनोहर खट्टर ने रेप पर कहा पहले साथ घूमते हैं फिर अनबन होती है तो शिकायत दर्ज करवा देते हैं         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> स्ट्रोक और डिमेंशिया का खतरा शराब के सेवन से बढ़ता है

स्ट्रोक और डिमेंशिया का खतरा शराब के सेवन से बढ़ता है


admin ,Vniindia.com | Thursday May 03, 2018, 10:40:00 | Visits: 144







नई दिल्ली, 3 मई (वीएनआई)| धूम्रपान और शराब का अधिक सेवन जीवन भर के लिए तीव्र व अनियमित हृदय गति के जोखिम को बढ़ाता है, जो आगे चलकर स्ट्रोक, डिमेंशिया, दिल की विफलता और अन्य जटिलताओं का कारण बन सकता है जिसे एट्रियल फाइब्रिलेशन के रूप में जाना जाता हैं। 



एक नये अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है। अध्ययन के मुताबिक, सामान्य परिस्थितियों में धड़कते समय हृदय सिकुड़ता है और आराम की स्थिति में होता है। एट्रियल फाइब्रिलेशन में, दिल के ऊपरी कक्ष (एट्रिया) में अनियमित धड़कन होती है, जबकि वेंट्रिकल्स में रक्त को पहुंचाने के लिए इसे नियमित रूप से धड़कने की जरूरत होती है। हार्ट केअर फाउंडेशन ऑफ इंडिया (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ. के के अग्रवाल ने कहा, वेंट्रिकल्स से रक्त पंप करने से लेकर एट्रिया में रक्त की प्राप्ति से शुरू होने वाली प्रक्रिया बहुत अच्छी तरह से व्यवस्थित होती है और इसके बारे में दिल सहित विद्युत सर्किट पूरा हो जाता है। इन घटनाओं में कोऑर्डिनेशन की थोड़ी सी भी कमी दिल की लय में परेशानी पैदा कर सकती है और एट्रियल फाइब्रिलेशन ऐसी ही एक परेशानी है। उन्होंने कहा, "उन लोगों में इसका जोखिम अधिक रहता है जो शराब अधिक पीते हैं। इस स्थिति में, एट्रियल कक्ष अनियमित रूप से सिकुड़ता है, जिसकी गति कई बार 400 से 600 गुना प्रति मिनट की हो सकती है। कार्डियक चैम्बर में, मुख्य रूप से बाएं एट्रिया में, रक्त के वेंट्रिकल्स में भरने और रक्त के स्टेसिस के कारण थक्का जमने लगता है। यह थक्का कार्डियक चैम्बर से निकल कर परिधीय अंगों में माइग्रेट कर सकता है और इसके कारण मस्तिष्क में स्ट्रोक हो सकता है।



एट्रियल फाइब्रिलेशन के कुछ लक्षणों में दिल तेजी से धड़कना, अत्यधिक चिंता महसूस होना, सांस लेने में कठिनाई, थकान, हल्कापन और सिंकोप शामिल हैं। 40 प्रतिशत से अधिक लोग एक ही बार में पांच स्टेंडर्ड ड्रिंक्स लेते है। 'हॉलीडे हार्ट सिंड्रोम' एक आम आपातकालीन दशा है, जिसमें अल्कोहल के कारण एएफ 35 से 62 प्रतिशत हो जाता है। तीन विश्लेषणों से पता लगा है कि कम मात्रा में शराब पीने की आदत से भी पुरुषों और महिलाओं में एएफ की घटनाओं में वृद्धि हो जाती है। 



डॉ. अग्रवाल ने आगे बताया, "अन्य स्थितियों के साथ, आपके दिल के स्वास्थ्य को मैनेज करने का सबसे अच्छा तरीका यह सुनिश्चित करना है कि आप नियमित रूप से अपने डॉक्टर के संपर्क में रहें और जोखिम को कम करें। कम उम्र में किए गए जीवन शैली संबंधी बदलाव दिल को किसी भी नुकसान से बचा सकते हैं। बचपन से ही ऐसी आदतों को जन्म देना जरूरी है जो आगे चलकर लाभदायक साबित हों। बुजुर्ग लोग खाने, पीने और स्वस्थ जीवन शैली के मामले में एक उदाहरण पेश कर सकते हैं।"



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें