Breaking News
भाजपा के मंत्री ने कहा लोकसभा में भाषण के दौरान राहुल नशा करके आए थे         ||           भारतीय हॉकी टीम ने न्यूजीलैंड को हराकर तीन मैचों की टेस्ट सीरीज पर किया कब्जा         ||           अमेरिका में संदिग्ध ने तीन घंटे लोगों को बनाया बंधक, फिर सरेंडर         ||           नीतीश सरकार ने एससी-एसटी को प्रमोशन में आरक्षण देने का बड़ा फैसला लिया         ||           उत्तरप्रदेश और ओडिशा में आज भारी बारिश की आशंका, उत्तराखंड में रेड अलर्ट जारी         ||           भारतीय ऐथलीट मोहम्मद अनस ने नया रेकॉर्ड बनाया         ||           सेना और आतंकियों के बीच जम्मू कश्मीर के कुलगाम में मुठभेड़ में तीन आतंकी ढेर         ||           महिला हॉकी विश्वकप के पहले मैच में भारत और इंग्‍लैंड के बीच मुकाबला 1-1 से ड्रॉ         ||           आज का दिन : राष्ट्रीय ध्वज         ||           राहुल गांधी ने गले मिलने के अगले दिन फिर प्रधानमंत्री मोदी पर बोला हमला         ||           तीरंदाजी वर्ल्ड कप में भारतीय महिला टीम स्वर्ण पदक से चूकी         ||           अखिलेश यादव ने मोदी से गले मिलने पर राहुल को दी नसीहत         ||           ममता बनर्जी ने कहा 15 अगस्त से शुरू होगा 'बीजेपी हटाओ, देश बचाओ' अभियान         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा जितना ज्यादा 'दल-दल' उतना कमल खिलेगा         ||           योगी आदित्यनाथ ने कहा आप पप्पू हैं और हमेशा पप्पू ही रहेंगे         ||           सेना और आतंकियों के बीच जम्‍मू कश्‍मीर के कुपवाड़ा में मुठभेड़ जारी         ||           वाइट हाउस ने कहा रूस की यूक्रेन में जनमत संग्रह की मांग अवैध         ||           ममता बनर्जी 2019 के लिए आज करेंगी रणनीति का ऐलान         ||           राजस्थान में गो तस्करी के शक में मुस्लिम युवक की पीट-पीटकर हत्या         ||           अमित शाह ने कहा विश्वास प्रस्ताव पर विपक्ष की हार 2019 के चुनाव की झलक         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> स्ट्रोक और डिमेंशिया का खतरा शराब के सेवन से बढ़ता है

स्ट्रोक और डिमेंशिया का खतरा शराब के सेवन से बढ़ता है


admin ,Vniindia.com | Thursday May 03, 2018, 10:40:00 | Visits: 94







नई दिल्ली, 3 मई (वीएनआई)| धूम्रपान और शराब का अधिक सेवन जीवन भर के लिए तीव्र व अनियमित हृदय गति के जोखिम को बढ़ाता है, जो आगे चलकर स्ट्रोक, डिमेंशिया, दिल की विफलता और अन्य जटिलताओं का कारण बन सकता है जिसे एट्रियल फाइब्रिलेशन के रूप में जाना जाता हैं। 



एक नये अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है। अध्ययन के मुताबिक, सामान्य परिस्थितियों में धड़कते समय हृदय सिकुड़ता है और आराम की स्थिति में होता है। एट्रियल फाइब्रिलेशन में, दिल के ऊपरी कक्ष (एट्रिया) में अनियमित धड़कन होती है, जबकि वेंट्रिकल्स में रक्त को पहुंचाने के लिए इसे नियमित रूप से धड़कने की जरूरत होती है। हार्ट केअर फाउंडेशन ऑफ इंडिया (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ. के के अग्रवाल ने कहा, वेंट्रिकल्स से रक्त पंप करने से लेकर एट्रिया में रक्त की प्राप्ति से शुरू होने वाली प्रक्रिया बहुत अच्छी तरह से व्यवस्थित होती है और इसके बारे में दिल सहित विद्युत सर्किट पूरा हो जाता है। इन घटनाओं में कोऑर्डिनेशन की थोड़ी सी भी कमी दिल की लय में परेशानी पैदा कर सकती है और एट्रियल फाइब्रिलेशन ऐसी ही एक परेशानी है। उन्होंने कहा, "उन लोगों में इसका जोखिम अधिक रहता है जो शराब अधिक पीते हैं। इस स्थिति में, एट्रियल कक्ष अनियमित रूप से सिकुड़ता है, जिसकी गति कई बार 400 से 600 गुना प्रति मिनट की हो सकती है। कार्डियक चैम्बर में, मुख्य रूप से बाएं एट्रिया में, रक्त के वेंट्रिकल्स में भरने और रक्त के स्टेसिस के कारण थक्का जमने लगता है। यह थक्का कार्डियक चैम्बर से निकल कर परिधीय अंगों में माइग्रेट कर सकता है और इसके कारण मस्तिष्क में स्ट्रोक हो सकता है।



एट्रियल फाइब्रिलेशन के कुछ लक्षणों में दिल तेजी से धड़कना, अत्यधिक चिंता महसूस होना, सांस लेने में कठिनाई, थकान, हल्कापन और सिंकोप शामिल हैं। 40 प्रतिशत से अधिक लोग एक ही बार में पांच स्टेंडर्ड ड्रिंक्स लेते है। 'हॉलीडे हार्ट सिंड्रोम' एक आम आपातकालीन दशा है, जिसमें अल्कोहल के कारण एएफ 35 से 62 प्रतिशत हो जाता है। तीन विश्लेषणों से पता लगा है कि कम मात्रा में शराब पीने की आदत से भी पुरुषों और महिलाओं में एएफ की घटनाओं में वृद्धि हो जाती है। 



डॉ. अग्रवाल ने आगे बताया, "अन्य स्थितियों के साथ, आपके दिल के स्वास्थ्य को मैनेज करने का सबसे अच्छा तरीका यह सुनिश्चित करना है कि आप नियमित रूप से अपने डॉक्टर के संपर्क में रहें और जोखिम को कम करें। कम उम्र में किए गए जीवन शैली संबंधी बदलाव दिल को किसी भी नुकसान से बचा सकते हैं। बचपन से ही ऐसी आदतों को जन्म देना जरूरी है जो आगे चलकर लाभदायक साबित हों। बुजुर्ग लोग खाने, पीने और स्वस्थ जीवन शैली के मामले में एक उदाहरण पेश कर सकते हैं।"



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें