Breaking News
आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में विराट कोहली शीर्ष पर बरकरार, पृथ्वी और पंत ने भी लगाई छलांग         ||           प्रधानमंत्री मोदी और चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग नवंबर में अर्जेंटीना में मिलेंगे         ||           डॉनल्ड ट्रंप ने कहा चीन चाहकर भी एक सीमा के बाद जवाब नहीं दे सकता         ||           एमजे अकबर ने पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ दर्ज कराया मानहानि का केस         ||           राहुल गांधी ने मध्य प्रदेश में प्रधानमंत्री मोदी पर बोला हमला         ||           अमित शाह ने कहा सपा, बसपा, कांग्रेस के लिए वोटबैंक हैं घुसपैठिए         ||           अफगानिस्तान में तालिबानी हमले में 18 सैनिकों की मौत         ||           देश के शेयर बाज़ारो के शुरूआती कारोबार में गिरावट असर         ||           दो दोस्तों के बीच संभल कर         ||           भारत ने दूसरे टेस्ट में वेस्टइंडीज को 10 विकेट से हराकर सीरीज 2-0 से जीती         ||           तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर अपराधों को लेकर हमला बोला         ||           एम्स से मनोहर पर्रिकर को छुट्टी मिली         ||           आज का दिन :         ||           शिवपाल यादव के मंच पर मुलायम की छोटी बहू अपर्णा पहुंचीं         ||           केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर विदेश दौरे से लौटे         ||           ऋषभ पंत और रहाणे शतक के करीब, दूसरे दिन भारत ने बनाये 308/4 रन         ||           डोनाल्ड ट्रंप ने कहा लापता पत्रकार खाशोगी के बारे में सऊदी सुल्तान से चर्चा करूंगा         ||           छत्तीसगढ़ में चुनाव से पहले कांग्रेस नेता रामदयाल उइके ने बीजेपी का दामन थामा         ||           आज का दिन :         ||           पंजाब विधानसभा से आप विधायक एचएस फुल्का ने दिया इस्तीफा         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> राजस्थान उच्च न्यायालय ने केंद्र और राज्य को विवादित अध्यादेश पर नोटिस जारी किया

राजस्थान उच्च न्यायालय ने केंद्र और राज्य को विवादित अध्यादेश पर नोटिस जारी किया


admin ,Vniindia.com | Friday October 27, 2017, 03:05:19 | Visits: 228







जयपुर, 27 अक्टूबर (वीएनआई)| वसुंधरा राजे के विवादित अध्यादेश के मद्देनजर राजस्थान उच्च न्यायालय ने आज केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। 



मुख्यमंत्री राजे का यह विवादित अध्यादेश लोकसेवकों को संरक्षण देने वाला है। आपराधिक कानून (राजस्थान संशोधन) अध्यादेश 2017, सितंबर में लागू किया गया था। उच्च न्यायालय ने सरकार को जवाब देने के लिए एक महीने का समय दिया है। मामले की अगली सुनवाई 27 नवंबर को होगी। अदालत ने अपने आदेश में अध्यादेश के खिलाफ दायर सभी सात याचिकाएं और जनहित याचिकाओं को भी शामिल किया, जिसमें प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के प्रमुख नेता सचिन पायलट द्वारा दायर याचिका भी शामिल है। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने सोमवार को तमाम आलोचनाओं को दककिनार कर राजस्थान विधानसभा में यह विधेयक पेश किया था। यह विधेयक मौजूदा या सेवानिवृत न्यायधीश, दंडाधिकारी और लोकसेवकों के खिलाफ उनके अधिकारिक कर्तव्यों के निर्वहन के दौरान किए गए कार्य के संबंध में न्यायालय को जांच के आदेश देने से रोकती है।



इसके अलावा कोई भी जांच एजेंसी इन लोगों के खिलाफ अभियोजन पक्ष की मंजूरी के निर्देश के बिना जांच नहीं कर सकती। अनुमोदन पदाधिकारी को प्रस्ताव प्राप्ति की तारीख के 180 दिन के अंदर यह निर्णय लेना होगा। विधेयक में यह भी प्रावधान है कि तय समय सीमा के अंदर निर्णय नहीं लेने पर मंजूरी को स्वीकृत माना जाएगा। विधेयक के अनुसार जबतक जांच की मंजूरी नहीं दी जाती है तबतक किसी भी न्यायधीश, दंडाधिकारी या लोकसेवकों के नाम, पता, फोटो, परिवारिक जानकारी और पहचान संबंधी कोई भी जानकारी न ही छापा सकता है और ना ही उजागर किया जा सकता है। प्रावधानों का उल्लंघन करने वालों को दो वर्ष की कारावास और जुमार्ने की सजा दी जा सकती है।



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें