Breaking News
इंग्लैंड ने ब्रिस्बेन वनडे में आस्ट्रेलिया को 4 विकेट से हराया         ||           चीन ने कहा डोकलाम में निर्माण पर टिप्पणी न करे भारत         ||           सेंसेक्स 251 अंकों की तेजी पर बंद         ||           नाना पाटेकर ने कहा 'आपला मानुष' का किरदार जटिल व अद्भुत         ||           लालू को सजा सुनाने वाले सीबीआई न्यायाधीश ने शस्त्र लाइसेंस मांगा         ||           माल्या के खिलाफ बेंगलुरू में गिरफ्तारी वारंट जारी         ||           चोटिल एंजेलो मैथ्यूज त्रिकोणीय सीरीज के दो मैचों से बाहर         ||           रोहन बोपन्ना और एडुअर्ड रोजर की जोड़ी आस्ट्रेलियन ओपन के प्री-क्वार्टर फाइनल में         ||           मास्टर विनायक         ||           न्यूजीलैंड ने वेलिंग्टन वनडे में पाकिस्तान को 15 रन से हराया         ||           अरविन्द केजरीवाल के पूर्व मुख्य सचिव अदालत में पेश हुए         ||           कोटक महिंद्रा बैंक को 20 फीसदी मुनाफा         ||           आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों को अयोग्य घोषित करने की सिफारिश         ||           कांग्रेस ने कहा पाकिस्तानी गोलीबारी पर सरकार कब जागेगी         ||           आज का दिन :         ||           भारत ने अंडर-19 विश्व कप में जिम्बाब्वे को 10 विकेट से हराया         ||           पाकिस्तानी गोलीबारी में जम्मू एवं कश्मीर में दो की मौत         ||           भारत-इजराइल : नई संभावनाओं का सफर         ||           बॉलीवुड हस्तियों का दिल नेतन्याहू ने जीता         ||           एलएफडब्ल्यू फिनाले की शो स्टॉपर बनेंगी करीना         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> राजस्थान उच्च न्यायालय ने केंद्र और राज्य को विवादित अध्यादेश पर नोटिस जारी किया

राजस्थान उच्च न्यायालय ने केंद्र और राज्य को विवादित अध्यादेश पर नोटिस जारी किया


admin ,Vniindia.com | Friday October 27, 2017, 03:05:19 | Visits: 84







जयपुर, 27 अक्टूबर (वीएनआई)| वसुंधरा राजे के विवादित अध्यादेश के मद्देनजर राजस्थान उच्च न्यायालय ने आज केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। 



मुख्यमंत्री राजे का यह विवादित अध्यादेश लोकसेवकों को संरक्षण देने वाला है। आपराधिक कानून (राजस्थान संशोधन) अध्यादेश 2017, सितंबर में लागू किया गया था। उच्च न्यायालय ने सरकार को जवाब देने के लिए एक महीने का समय दिया है। मामले की अगली सुनवाई 27 नवंबर को होगी। अदालत ने अपने आदेश में अध्यादेश के खिलाफ दायर सभी सात याचिकाएं और जनहित याचिकाओं को भी शामिल किया, जिसमें प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के प्रमुख नेता सचिन पायलट द्वारा दायर याचिका भी शामिल है। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने सोमवार को तमाम आलोचनाओं को दककिनार कर राजस्थान विधानसभा में यह विधेयक पेश किया था। यह विधेयक मौजूदा या सेवानिवृत न्यायधीश, दंडाधिकारी और लोकसेवकों के खिलाफ उनके अधिकारिक कर्तव्यों के निर्वहन के दौरान किए गए कार्य के संबंध में न्यायालय को जांच के आदेश देने से रोकती है।



इसके अलावा कोई भी जांच एजेंसी इन लोगों के खिलाफ अभियोजन पक्ष की मंजूरी के निर्देश के बिना जांच नहीं कर सकती। अनुमोदन पदाधिकारी को प्रस्ताव प्राप्ति की तारीख के 180 दिन के अंदर यह निर्णय लेना होगा। विधेयक में यह भी प्रावधान है कि तय समय सीमा के अंदर निर्णय नहीं लेने पर मंजूरी को स्वीकृत माना जाएगा। विधेयक के अनुसार जबतक जांच की मंजूरी नहीं दी जाती है तबतक किसी भी न्यायधीश, दंडाधिकारी या लोकसेवकों के नाम, पता, फोटो, परिवारिक जानकारी और पहचान संबंधी कोई भी जानकारी न ही छापा सकता है और ना ही उजागर किया जा सकता है। प्रावधानों का उल्लंघन करने वालों को दो वर्ष की कारावास और जुमार्ने की सजा दी जा सकती है।



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें