Breaking News
भाजपा के मंत्री ने कहा लोकसभा में भाषण के दौरान राहुल नशा करके आए थे         ||           भारतीय हॉकी टीम ने न्यूजीलैंड को हराकर तीन मैचों की टेस्ट सीरीज पर किया कब्जा         ||           अमेरिका में संदिग्ध ने तीन घंटे लोगों को बनाया बंधक, फिर सरेंडर         ||           नीतीश सरकार ने एससी-एसटी को प्रमोशन में आरक्षण देने का बड़ा फैसला लिया         ||           उत्तरप्रदेश और ओडिशा में आज भारी बारिश की आशंका, उत्तराखंड में रेड अलर्ट जारी         ||           भारतीय ऐथलीट मोहम्मद अनस ने नया रेकॉर्ड बनाया         ||           सेना और आतंकियों के बीच जम्मू कश्मीर के कुलगाम में मुठभेड़ में तीन आतंकी ढेर         ||           महिला हॉकी विश्वकप के पहले मैच में भारत और इंग्‍लैंड के बीच मुकाबला 1-1 से ड्रॉ         ||           आज का दिन : राष्ट्रीय ध्वज         ||           राहुल गांधी ने गले मिलने के अगले दिन फिर प्रधानमंत्री मोदी पर बोला हमला         ||           तीरंदाजी वर्ल्ड कप में भारतीय महिला टीम स्वर्ण पदक से चूकी         ||           अखिलेश यादव ने मोदी से गले मिलने पर राहुल को दी नसीहत         ||           ममता बनर्जी ने कहा 15 अगस्त से शुरू होगा 'बीजेपी हटाओ, देश बचाओ' अभियान         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा जितना ज्यादा 'दल-दल' उतना कमल खिलेगा         ||           योगी आदित्यनाथ ने कहा आप पप्पू हैं और हमेशा पप्पू ही रहेंगे         ||           सेना और आतंकियों के बीच जम्‍मू कश्‍मीर के कुपवाड़ा में मुठभेड़ जारी         ||           वाइट हाउस ने कहा रूस की यूक्रेन में जनमत संग्रह की मांग अवैध         ||           ममता बनर्जी 2019 के लिए आज करेंगी रणनीति का ऐलान         ||           राजस्थान में गो तस्करी के शक में मुस्लिम युवक की पीट-पीटकर हत्या         ||           अमित शाह ने कहा विश्वास प्रस्ताव पर विपक्ष की हार 2019 के चुनाव की झलक         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> वार्ता का माहौल बनाने की तैयारी

वार्ता का माहौल बनाने की तैयारी


admin ,Vniindia.com | Monday May 07, 2018, 10:01:00 | Visits: 81







नई दिल्ली, 7 मई (शोभना/जैन) भारत और पाकिस्तान के बीच जारी तल्खियों के बीच दोनो देशो ने हाल ही में आपसी रिश्ते सुधारने की मंशा से लंबे समय के बाद एक बार  फिर अनौ्पचारिक वार्ता की यानि संबंधो मे आयी तल्खियो को दूर करने के लिये 'ट्रैक टू डिप्लोमेसी' के तहत  इसी सप्ताह 'नीमराणा संवाद'  ्प्रक्रिया इस्लामाबाद मे की गयी. हालांकि यह अनौपचारिक वार्ता इस्लामाबाद की पहल पर हुई पर् भारत मे वरिष्ठ विशेषज्ञों ने इस पहल का स्वागत करते हुए नौ सदस्यीय शिष्ट मंडल के साथ इस वार्ता मे हिस्सा लिया. 



बातचीत खुले माहौल मे हुई और विवाद के सभी मुद्दो पर चर्चा भी हुई, परंतु इस अनौपचारिक वार्ता के लिये बाद मे यह सवाल पूछा जा रहा है कि लगभग तीन वर्ष बाद हुई इस वार्ता से क्या राजनैतिक संदेश निकलता है, आखिर दिल्ली से सटे राजस्थान के 'नीमराणा किले' से निकला  रास्ता दोनो देशो को किस तरफ ले जायेगा?.क्य़ा एनडीए सरकार की पाकिस्तान नीति मे कुछ बदलाव नजर आ रहा है?  क्या इस वार्ता से दोनो देशो के बीच सरकारी स्तर पर वार्ता शुरू करने के लिये जमीन तैयार की जा रही है? फिर भारत की इस सोची समझी नीति का क्या होगा कि जब तक पाकिस्तान भारत के खिलाफ आतंकी गतिविधियॉ बंद नही कर देता , दोनो के बीच वार्ता  का माहौल कतई नही बन सकता है, ऐसे तमाम सवाल एक बार फिर हवा मे तैर रहे है. 



बहरहाल सरकारी सूत्रों ने वार्ता के बाद साफ तौर पर कहा कि सरकार की पाकिस्तान नीति मे कोई बदलाव नही है, बंदूको की गर्जना के बीच बातचीत कतई संभव नही है. सूत्रो का कहना है कि इस मुलाकात के ज्यादा मायने निकालना उचित नही है यह मुलाकात दोनो देशों की सिविल सोसायटी और दोनो देशों की जनता के बीच आपसी संपर्क बढाने की नियमित प्रक्रिया का ही हिस्सा है. इसे इस नजर से नही देखा जाये कि इस तरह की वार्ता के जरिये  दोनो देशो के बीच  आधिकारिक वार्ता के लिये आधार तैयार किया जा रहा है. लेकिन इन तमाम स्पष्टीकरणों के बीच यह सवाल उठ रहा हैं कि एक तरफ जहा पाकिस्तान भारत के खिलाफ आतंकी गतिविधियॉ जारी रखे हुए है, कश्मीर में आतंकवाद को प्रश्रय  देना जारी रखे हुए है, पाकिस्तान द्वारा संघर्ष विराम का उल्ल्लंघन किया जा र्हा है, ऐसे में इस 'ट्रैक टू डिप्लोमेसी' की  फिर से  शुरूआत से क्या संदेश निकलता है.  दरअसल  इस प्रक्रिया के जरिये ये ही संदेश निकलता है कि भले ही दोनो देशो के बीच पाक की नापाक हरकतों की वजह से आधिकारिक वार्ता नही हो रही है लेकिन दोनो देशो के बीच गैर आधिकारिक स्तर पर आपसी संबंधो मे आयी तल्खियो को दूर रख मिल बैठ कर  समस्या वाले मुद्दो पर बातचीत के सिलसिले को शुरू किया जा रहा है.



1990 के दशक की शुरूआत में राजस्थान के नीमराणा किले से इस अनौपचारिक संवाद की शुरूआत हुई थी, जिस मे दोनो देशों के वरिष्ठ विशेषज्ञ मिल बैठ कर तल्खियॉ कम करने और रिश्तो को सहज बनाने का रास्ता खोजते है। साल 2016 में पाकिस्तान के संगठनों द्वारा किये गये आतंकी हमलों और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भारत के खिलाफ लगातार हमलों के बाद दोनों देशों के बीच रिश्तों में तनाव और बढ गया  था और 'ट्रैक टू डिप्लोमेसी' यानि अनौपचारिक वार्ता भी रूक गई. नीमराणा संवाद के तहत  दोनों देशों के बीच 28 से 30 अप्रैल के बीच  यह बैठक हुई, इसमें भारतीय दल ्मे पूर्व केबीनेट सचिव सुरेन्द्र सिंंह, विदेश मंत्रालय मे पूर्व सचिव विवेक काटजू , राजदूत राकेश सूद जाने माने शिक्षाविद जेएस राजपूत, ले जनरल अभय सिंह जैसे  विशेषज्ञ शामिल थे।



पाकिस्तानी दल का नेतृत्व वहां के पूर्व विदेश सचिव इनामुल हक ने किया। पाक दल में स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के पूर्व गवर्नर इशरत हुसैन भी शामिल थे। पाक में जुलाई में प्रस्तावित आम चुनाव के दौरान कार्यवाहक प्रधानमंत्री के तौर पर हुसैन के नाम की भी चर्चा है। सूत्रों के मुताबिक, दोनों पक्षों ने द्विपक्षीय संबंधों के सभी पहलुओं पर बातचीत की। एक सूत्र के अनुसार ‘‘दोनों पक्षों ने द्विपक्षीय संबंधों के सभी पहलुओं पर चर्चा की और इस बात पर सहमति जतायी कि दोनों देशों के बीच सभी मुद्दे बातचीत के जरिये सुलझाये जाने चाहिए।’’वैसे दोनो देशो के रिश्तों मे हाल ही में एक और सकारात्मक कदम उठाने की दोनो ने ही पहल की है भारत ने कहा था कि वह शंघाई सहयोग संगठन की रूपरेखा के तहत रूस में कई देशों के आतंकवाद निरोधक अभ्यास में पाकिस्तान के साथ भाग लेगा। 



सूत्रों ने बैठक में चर्चा के विषयों के बारे में  बताया कि दोनों पक्षों ने आतंकवाद, कश्मीर, सियाचिन, सर क्रीक,  नियंत्रण रेखा पर तनाव, सिंधु नदी जल बंटवारा तथा अफगानिस्तान सहित क्षेत्रीय स्थिति पर चर्चा की।  इस के साथ ही पाकिस्तान् ने इस वार्ता मे एक बार फिर दक्षे्स शिखर बैठक के आयोजन का प्रस्ताव फिर से रखा. पाकिस्तान द्वारा भारत के खिलाफ आतंकी गतिविधियॉ जारी रखने से भारत ने इस सम्मेलन मे हिस्सा नही लेने का फैसला किया था जिस के बाद यह शिखर बैठक नही हो सकी. अगर पाकिस्तान की मेजबानी मे यह शिखर बैठक होती है तो  दक्षेस चार्टर के अनुसार प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी को इस बैठक मे हिस्सा लेंना होगा लेकिन सूत्रो ने जोर दे कर कहा कि  पाकिस्तान की हरकतों की वजह से आज के हालात मे श्री मोदी  के इस शिखर बैठक मे हिस्सा लेने की कोई उम्मीद नही है.वैसे इस बैठक मे पाकिस्तान ने एक बार फिर् कश्मीर  राग अलापा और कश्मीर मे मानवाधिकारो के कथित उल्लघंन का आरोप फिर से लगाया जिस के जबाव मे भारतीय पक्ष ने जोर दे कर कहा कि कश्मीर  की घटनाये भारत का आंतरिक  मामला है, संबंधो को सामान्य बनाने  मे इस तरह के आरोप सामान्यीकरण की प्रक्रिया को आगे नही ले जा सकते है.सूत्रों ने कहा कि दोनों पक्ष अपने प्रस्ताव विचार, सिफारि्शे के लिए अपनी अपनी सरकारों को सौंपेंगे। श्री काट्जू ने भी इस वार्ता के बारे मे कुछ भी टिप्पणी करने से इंकार किया. 'ट्रैक दो' की वार्ता को पूरी तरह गुप्त रखा गया और आयोजकों ने इस बारे में आधिकारिक रूप से कुछ भी साझा नहीं किया लेकिन सरकारी शीर्ष सूत्रो ने इस ्सवाल पर कोई टि्प्प्णी नही की कि  क्या इस वार्ता को दोनो देशो की सरकारो का समर्थन हासिल था?  अलबत्ता यह बात भी सच है कि इस तरह की अनौपचारिक वार्ता को दोनो देशो की सरकारो का समर्थन हासिल होता  ही है.



पाक स्थित आतंकियों द्वारा मुबंई आतंकी हमलों, भारत में पठानकोट और उड़ी में किए गए हमले और भारत की तरफ से जवाबी कार्रवाई करते हुए गुलाम कश्मीर में किए गए सर्जिकल स्ट्राइक से दोनों देशों के संबंध  और भी तनावपूर्ण चल रहे हैं। वहीं पाक द्वारा जासूसी का आरोप लगाकर नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा सुनाने के कारण संबंध और खराब हुए हैं। दरअसल भारत और पाक के रिश्तों पर जमी बर्फ के बीच  को पिघलाने की मंशा से यह वार्ता शुरू 'ट्रैक-2 कूटनीति' की प्रक्रिया बहाल करने के लिए इस्लामाबाद का दौरा किया।  कूटनीतिक सूत्रों का मानना है कि  पाकिस्तान अगर अपने रूख मे बदलाव करके विश्वास बहाली का माहौल बनाता है तो इस दौरे से मूल 'ट्रैक-2' पहल 'नीमाराना डायलॉग' को नई शुरुआत मिल सकती है। बहरहाल  बातचीत का सिलसिला कुछ आगे बढा तो है लेकिन पाकिस्तान मे जल्द ही चुनाव होने वाले है, ऐसे मे पाकिस्तान मे नयी सिविल सरकार के गठन के बाद ही औपचारिक वार्ता ्की बात सोची जा सकती है उस के  लिये भी पाकिस्तान को  पहले भारत के खिलाफ आतंकी गतिविधियों को बंद करना होगा. फिलहाल यह सवाल तो बना ही हुआ है कि नीमराणा के किले से दोनो देशो के बीच शक शुबहे के माहौल को दूर करने तथ आपसी भरोसा कायम कर विचाराधीन मुद्दो को हल करने के लिये क्या  रास्ता बन पायेगा. साभार - लोकमत (लेखिका वीएनआई न्यूज़ की प्रधान संपादिका है)



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें