Breaking News
कश्मीरी छात्रों पर हमले पर सुप्रीम कोर्ट नाराज़, केंद्र सरकार और 10 राज्यों को नोटिस         ||           आज का दिन :         ||           (भारत ऑस्ट्रेलिया सीरीज) )पीठ में खिंचाव के कारण हार्दिक पंड्या सीरीज से बाहर         ||           पुलवामा हमले के बाद केंद्र सरकार ने दी जवानों को हवाई यात्रा की सुविधा         ||           सऊदी जेलों में बंद 850 भारतीय कैदी रिहा होंगे, हज कोटा भी बढा         ||           आज का दिन :         ||           अयोध्या जमीन विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट में 26 फरवरी को सुनवाई होगी         ||           सर्वोच्च अदालत ने अनिल अंबानी को अवमानना का दोषी करार दिया         ||           भारत-सऊदी अरब के बीच 5 अहम समझौते,पीएम ने कहा "आतंकवाद समर्थक देशों पर दबाव डालेंगे"         ||           सऊदी युवराज सलमान की भारत यात्रा- आज पॉच समझौते होने की उम्मीद         ||           मोदी सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में तीन फीसदी की बढ़ोतरी         ||           सिक्किम की पुलवामा शहीदों के परिजनों को आर्थिक सहयाता और बच्चों को शिक्षा की घोषणा         ||           Sikkim CM proposes to sponsor education for kids of Pulwama martyres         ||           आज का दिन :         ||           आईपीएल कार्यक्रम         ||           संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सर्विसेज परीक्षा के लिए अधिसूचना         ||           माघ पूर्णिमा         ||           किडनी-लिवर बेचने वाले गिरोह का कानपुर पुलिस ने किया पर्दाफाश         ||           सहमति शिव सेना और बीजेपी में         ||           कुलभूषण जाधव केस मे इंटरनेशन कोर्ट में सुनवाई शुरू         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> मोदी ने कहा राज्यसभा को निचले सदन का अनुसरण करने की जरूरत नहीं

मोदी ने कहा राज्यसभा को निचले सदन का अनुसरण करने की जरूरत नहीं


admin ,Vniindia.com | Wednesday March 28, 2018, 02:24:00 | Visits: 154







नई दिल्ली, 28 मार्च (वीएनआई)| संसद में लगातार हंगामे की बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने aaj राज्यसभा की कार्यवाही में व्यवधान पर खेद जताया। प्रधानमंत्री ने कहा कि लोकसभा में जो घटित हो रहा है, उसका राज्यसभा में अनुसरण करने की जरूरत नहीं है। 



प्रधानमंत्री की यह टिप्पणी राज्यसभा के सेवानिवृत्त सदस्यों के लिए उनके विदाई भाषण के दौरान आई। उन्होंने कहा, इस सदन में ऐसे बहुत कम लोग हैं, जो किसी पार्टी की विचारधारा से नहीं जुड़े हैं। यहां के ज्यादातर सदस्य किसी न किसी वैचारिक पृष्ठभूमि से हैं। इसलिए यह स्वाभाविक है कि वे सदन में अपना दृष्टिकोण स्थापित करने की कोशिश करते हैं। लेकिन हम यह भी उम्मीद रखते हैं कि यह जरूरी नहीं है कि जो भी कुछ लोकसभा में घटित होता है, उसका राज्यसभा में भी अनुसरण किया जाए। मोदी ने कहा कि ऊपरी सदन का 'विशेष महत्व' है और नीति निर्धारण में इसकी महत्वपूर्ण भूमिका होती है।



प्रधानमंत्री ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि सेवानिवृत्त सदस्य तीन तलाक विधेयक लाए जाने के दौरान निर्णय प्रक्रिया का हिस्सा नहीं होंगे। उन्होंने कहा, तीन तलाक विधेयक देश के इतिहास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने जा रहा है। यदि आप ने इस तरह के महत्वपूर्ण फैसले में योगदान दिया होता तो बेहतर होता। प्रधानमंत्री ने कहा, मुझे उम्मीद है कि सेवानिवृत्त सदस्य अब समाज सेवा में और ज्यादा मजबूत भूमिका निभाएंगे। इनमें से सभी ने अपने तरीके से योगदान दिया है। उन्होंने राष्ट्र के उज्जवल भविष्य के लिए अपनी योग्यता के अनुसार काम किया है। उन्होंने कहा, मेरा कार्यालय आप सभी के लिए हमेशा खुला है। आप महत्वपूर्ण मुद्दों पर बेझिझक विचार साझा कर सकते हैं। अपने भाषण में प्रधानमंत्री ने पूर्व अटॉर्नी जनरल के.पराशरन, क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर, हॉकी के दिग्गज दिलीप तिर्की, उप सभापति पी.जे. कुरियन सहित कई सेवानिवृत्त सदस्यों के विशिष्ट कार्यो का उल्लेख किया। 



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें