Breaking News
प्रकाश आंबेडकर ने दिया कांग्रेस-राकांपा संग गठबंधन का संकेत         ||           रोनाल्डो के गोल से फीफा विश्व कप में मोरक्को के खिलाफ जीता पुर्तगाल         ||           कांग्रेस ने कहा सरकार ने किसानों को एमएसपी पर धोखा दिया         ||           भाजपा ने कहा आईयूएमएल ने रोहित वेमुला के परिवार को धोखा दिया         ||           वित्तमंत्री जेटली ने कहा अरविंद सुब्रह्मण्यम का कार्यकाल नहीं बढ़ाया जाएगा         ||           सेंसेक्स 261 अंकों की तेजी पर बंद         ||           बॉबी देओल 'रेस-3' की सफलता से बेहद खुश हैं         ||           एंडी मरे को हराकर क्वींस क्लब के क्वार्टर फाइनल में किर्गियोस         ||           राजनाथ ने कहा जम्मू एवं कश्मीर से आतंकवादी संगठनों को मार भगाएंगे         ||           कुमारस्वामी ने कहा जुलाई में पूर्ण बजट पेश करूंगा         ||           मुख्यमंत्री पलानीस्वामी ने मदुरै में एम्स के लिए मोदी का आभार जताया         ||           प्रधानमंत्री मोदी झाबुआ की किसान महिलाओं से हुए मुखातिब         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने कहा किसानों की आय बढ़ रही         ||           रेखा 20 साल बाद आईफा 2018 में लाइव परफॉर्म करेंगी         ||           दिनेश चंडीमल पर बॉल टेम्परिंग मामले में एक मैच का प्रतिबंध         ||           छत्तीसगढ़ के अतिरिक्त मुख्य सचिव का जम्मू एवं कश्मीर तबादला         ||           रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने शहीद औरंगजेब के परिवार से मुलाकात की         ||           नेपाल और चीन ने 2.24 अरब डॉलर के 8 समझौते किए         ||           दुनिया का सर्वश्रेष्ठ रेस्तरां इटली का ओस्टेरिया फ्रांसेस्काना         ||           जम्मू एवं कश्मीर में राज्यपाल शासन लागू         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> छत्तीसगढ़ के पर्वत पर पांडवों ने गुजारा था अज्ञातवास

छत्तीसगढ़ के पर्वत पर पांडवों ने गुजारा था अज्ञातवास


admin ,Vniindia.com | Saturday August 05, 2017, 09:23:00 | Visits: 155







बीजापुर, 5 अगस्त। छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग में दक्षिण बस्तर जिला मुख्यालय से 72 किलोमीटर दूर तेलंगाना की सीमा पर स्थित पुजारी कांकेर ऐसा गांव है, जहां आज भी पांडवों की पूजा होती है। पांचों पांडव भाइयों के लिए अलग-अलग पुजारी भी नियुक्त किए गए हैं। यह परंपरा यहां कई सौ साल से चली आ रही है।



ग्रामीणों का मानना है कि गांव के पास स्थित विशाल पर्वत पर पांडवों ने अपना अज्ञातवास गुजारा था। इसी वजह से पहाड़ का नाम पांडव पर्वत रखा गया है। पहाड़ के ऊपर एक मंदिर है, जिसकी घंटी अपने आप बज उठती है। इस मंदिर के अलावा गांव वालों ने गांव की सरहद पर धर्मराज (युधिष्ठिर) मंदिर भी बना रखा है, जहां हर दो साल में एक बार मेला लगता है। ऐसी मान्यता है कि इस मेले में शामिल होने के लिए 25 गांवों के देवी-देवता पहुंचते हैं।



गांव के पुजारी दादी राममूर्ति ने बताया, "मान्यता के अनुसार कौरवों के हाथ अपना सब कुछ गंवा देने के बाद पांडव जब अज्ञातवास पर निकले तो उस दौरान उन्होंने अपना कुछ समय दंडकारण्य में गुजारा था। इसमें से एक इलाका पुजारी कांकेर का भी था। जब पांडव यहां पहुंचे थे, तब उन्होंने दुर्गम पहाड़ पर स्थित गुफा से प्रवेश किया था और यहीं आश्रय लिया था, इसलिए बाद में इस पहाड़ का नाम दुर्गम पहाड़ के स्थान पर पांडव पर्वत रखा गया। उनके मुताबिक, पांडव इस पर्वत से होकर गुजरने वाली सुरंग से होकर भोपालपटनम के पास स्थित सकलनारायण गुफा से निकले थे, जहां वर्तमान में श्रीकृष्ण की मूर्ति है। हर साल वहां सकलनारायण मेला लगता है।



पुजारी कहते हैं कि उनके पूर्वजों द्वारा पांडव पर्वत में पांडवों के नाम पर मंदिर का निर्माण भी किया है। कोई भी व्यक्ति वहां नहीं पहुंच पाता है, इसलिए गांव के सरहद पर धर्मराज युधिष्ठिर के नाम का मंदिर बनाया गया है और पांचों पांडवों की पूजा के लिए अलग-अलग पुजारी नियुक्त किए गए हैं। अर्जुन की पूजा के लिए राममूर्ति दादी, भीम के लिए दादी अनिल, युधिष्ठिर के लिए कनपुजारी, नकुल के लिए दादी रमेश व सहदेव के लिए संतोष उड़तल को पुजारी बनाया गया है। हर दो साल में धर्मराज मंदिर में मेला लगता है। यहां आने वाले श्रद्धालु अपने कामना और मन्नत के अनुसार, बकरे और मुर्गो की बलि चढ़ाते हैं। यह मेला अप्रैल माह में बुधवार के दिन ही आयोजित किया जाता है। ग्रामीणों का कहना है कि पूजा पाठ और पुजारियों का गांव होने के कारण ही उनके गांव का नाम पुजारी कांकेर रखा गया है। --आईएएनएस

 



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें