Breaking News
अमित शाह ने छत्तीसगढ़ में कहा अबकी बार जड़ से उखाड़ फेकेंगे कांग्रेस को         ||           भारत ने टॉस जीता, बांग्लादेश को पहले बल्लेबाज़ी का न्योता         ||           सेंसेक्स 280 अंक की गिरावट पर बंद         ||           राहुल गांधी ने पश्चिम बंगाल कांग्रेस में किया बड़ा बदलाव         ||           राजीव गांधी खेलरत्न पुरस्कार         ||           डोनाल्ड ट्रंप ने सहारा रेगिस्तान पर स्पेन को दीवार बनाने को कहा था         ||           जेडीयू ने अयोध्या में राम मंदिर को लेकर दिया बड़ा बयान         ||           अमेरिका ने भारत-पाक के विदेश मंत्रियों की बैठक को शानदार बताया         ||           आज का दिन : विश्व अल्जाइमर दिवस         ||           जम्मू-कश्मीर में आतंकियों ने तीन पुलिसकर्मियों को अगवा कर हत्या की         ||           वियतनाम के राष्ट्रपति त्रान दाई का 61 वर्ष की आयु में निधन         ||           मायावती के दोहरे झटके के बाद की कमलनाथ ने दी पहली प्रतिक्रिया         ||           नील नितिन मुकेश बेटी के पिता बने         ||           मायावती का छत्‍तीसगढ़ में अजीत जोगी से गठबंधन         ||           मायावती ने मध्‍य प्रदेश में अकेले लड़ने का ऐलान किया         ||           अक्षर पटेल और शार्दुल ठाकुर भी चोट के कारण एशिया कप से बाहर         ||           पाकिस्‍तान प्रधानमंत्री इमरान ने प्रधानमंत्री मोदी से शांति की अपील की         ||           हसन नसरुल्ला ने कहा अगली सूचना तक सीरिया में बना रहेगा हिज्बुल्ला         ||           कांग्रेस ने सीमा पर जवान के साथ दरिंदगी पर पूछा, 56 इंच का सीना और लाल आंख कहां हैं         ||           आज का दिन :         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> छत्तीसगढ़ के पर्वत पर पांडवों ने गुजारा था अज्ञातवास

छत्तीसगढ़ के पर्वत पर पांडवों ने गुजारा था अज्ञातवास


admin ,Vniindia.com | Saturday August 05, 2017, 09:23:00 | Visits: 193







बीजापुर, 5 अगस्त। छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग में दक्षिण बस्तर जिला मुख्यालय से 72 किलोमीटर दूर तेलंगाना की सीमा पर स्थित पुजारी कांकेर ऐसा गांव है, जहां आज भी पांडवों की पूजा होती है। पांचों पांडव भाइयों के लिए अलग-अलग पुजारी भी नियुक्त किए गए हैं। यह परंपरा यहां कई सौ साल से चली आ रही है।



ग्रामीणों का मानना है कि गांव के पास स्थित विशाल पर्वत पर पांडवों ने अपना अज्ञातवास गुजारा था। इसी वजह से पहाड़ का नाम पांडव पर्वत रखा गया है। पहाड़ के ऊपर एक मंदिर है, जिसकी घंटी अपने आप बज उठती है। इस मंदिर के अलावा गांव वालों ने गांव की सरहद पर धर्मराज (युधिष्ठिर) मंदिर भी बना रखा है, जहां हर दो साल में एक बार मेला लगता है। ऐसी मान्यता है कि इस मेले में शामिल होने के लिए 25 गांवों के देवी-देवता पहुंचते हैं।



गांव के पुजारी दादी राममूर्ति ने बताया, "मान्यता के अनुसार कौरवों के हाथ अपना सब कुछ गंवा देने के बाद पांडव जब अज्ञातवास पर निकले तो उस दौरान उन्होंने अपना कुछ समय दंडकारण्य में गुजारा था। इसमें से एक इलाका पुजारी कांकेर का भी था। जब पांडव यहां पहुंचे थे, तब उन्होंने दुर्गम पहाड़ पर स्थित गुफा से प्रवेश किया था और यहीं आश्रय लिया था, इसलिए बाद में इस पहाड़ का नाम दुर्गम पहाड़ के स्थान पर पांडव पर्वत रखा गया। उनके मुताबिक, पांडव इस पर्वत से होकर गुजरने वाली सुरंग से होकर भोपालपटनम के पास स्थित सकलनारायण गुफा से निकले थे, जहां वर्तमान में श्रीकृष्ण की मूर्ति है। हर साल वहां सकलनारायण मेला लगता है।



पुजारी कहते हैं कि उनके पूर्वजों द्वारा पांडव पर्वत में पांडवों के नाम पर मंदिर का निर्माण भी किया है। कोई भी व्यक्ति वहां नहीं पहुंच पाता है, इसलिए गांव के सरहद पर धर्मराज युधिष्ठिर के नाम का मंदिर बनाया गया है और पांचों पांडवों की पूजा के लिए अलग-अलग पुजारी नियुक्त किए गए हैं। अर्जुन की पूजा के लिए राममूर्ति दादी, भीम के लिए दादी अनिल, युधिष्ठिर के लिए कनपुजारी, नकुल के लिए दादी रमेश व सहदेव के लिए संतोष उड़तल को पुजारी बनाया गया है। हर दो साल में धर्मराज मंदिर में मेला लगता है। यहां आने वाले श्रद्धालु अपने कामना और मन्नत के अनुसार, बकरे और मुर्गो की बलि चढ़ाते हैं। यह मेला अप्रैल माह में बुधवार के दिन ही आयोजित किया जाता है। ग्रामीणों का कहना है कि पूजा पाठ और पुजारियों का गांव होने के कारण ही उनके गांव का नाम पुजारी कांकेर रखा गया है। --आईएएनएस

 



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें