Breaking News
केजरीवाल ने कहा पहले कांग्रेस ने घोटाले किए, अब भाजपा कर रही         ||           अभिनेत्री मनोरमा की याद में         ||           भारत की नजरें जोहान्सबर्ग टी-20 में अब एक और ऐतिहासिक जीत पर         ||           यश चोपड़ा मेमोरियल अवॉर्ड से आशा भोंसले सम्मानित         ||           स्वामी प्रसाद मौर्य के भतीजे सहित कई दिग्गज सपा में शामिल         ||           कोहली ने कहा अभी मुझमें 8-9 साल की क्रिकेट बाकी है         ||           जे.कृष्णामूर्ति :         ||           अरविंदर सिंह लवली की कांग्रेस में वापसी         ||           फिलिस्तीन और इजराइल संतुलन के साथ प्रगाढ़ता         ||           मोदी और रूहानी ने द्विपक्षीय सहयोग और क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा की         ||           ईरान के राष्ट्रपति से सुषमा स्वराज ने मुलाकात की         ||           मेघना नायडू लंबे अर्से बाद बांग्ला फिल्म से जुड़ीं         ||           उप्र में सुबह तेज धूप निकली         ||           शेयर बाजार बीते सप्ताह सपाट बंद (साप्ताहिक समीक्षा)         ||           भंसाली ने कहा जौहर दृश्य भावनात्मक रूप से ज्यादा चुनौतीपूर्ण था         ||           अलगाववादियों के विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर श्रीनगर में प्रतिबंध         ||           राजधानी दिल्ली में सुबह धुंध छाई         ||           फ्लोरिडा गवर्नर ने कहा एफबीआई निदेशक को इस्तीफा देना चाहिए         ||           डोनाल्ड ट्रंप फ्लोरिडा अस्पताल में घायलों से मिले         ||           मेक्सिको में भूकंप के तेज झटके         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> छत्तीसगढ़ के पर्वत पर पांडवों ने गुजारा था अज्ञातवास

छत्तीसगढ़ के पर्वत पर पांडवों ने गुजारा था अज्ञातवास


admin ,Vniindia.com | Saturday August 05, 2017, 09:23:00 | Visits: 108







बीजापुर, 5 अगस्त। छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग में दक्षिण बस्तर जिला मुख्यालय से 72 किलोमीटर दूर तेलंगाना की सीमा पर स्थित पुजारी कांकेर ऐसा गांव है, जहां आज भी पांडवों की पूजा होती है। पांचों पांडव भाइयों के लिए अलग-अलग पुजारी भी नियुक्त किए गए हैं। यह परंपरा यहां कई सौ साल से चली आ रही है।



ग्रामीणों का मानना है कि गांव के पास स्थित विशाल पर्वत पर पांडवों ने अपना अज्ञातवास गुजारा था। इसी वजह से पहाड़ का नाम पांडव पर्वत रखा गया है। पहाड़ के ऊपर एक मंदिर है, जिसकी घंटी अपने आप बज उठती है। इस मंदिर के अलावा गांव वालों ने गांव की सरहद पर धर्मराज (युधिष्ठिर) मंदिर भी बना रखा है, जहां हर दो साल में एक बार मेला लगता है। ऐसी मान्यता है कि इस मेले में शामिल होने के लिए 25 गांवों के देवी-देवता पहुंचते हैं।



गांव के पुजारी दादी राममूर्ति ने बताया, "मान्यता के अनुसार कौरवों के हाथ अपना सब कुछ गंवा देने के बाद पांडव जब अज्ञातवास पर निकले तो उस दौरान उन्होंने अपना कुछ समय दंडकारण्य में गुजारा था। इसमें से एक इलाका पुजारी कांकेर का भी था। जब पांडव यहां पहुंचे थे, तब उन्होंने दुर्गम पहाड़ पर स्थित गुफा से प्रवेश किया था और यहीं आश्रय लिया था, इसलिए बाद में इस पहाड़ का नाम दुर्गम पहाड़ के स्थान पर पांडव पर्वत रखा गया। उनके मुताबिक, पांडव इस पर्वत से होकर गुजरने वाली सुरंग से होकर भोपालपटनम के पास स्थित सकलनारायण गुफा से निकले थे, जहां वर्तमान में श्रीकृष्ण की मूर्ति है। हर साल वहां सकलनारायण मेला लगता है।



पुजारी कहते हैं कि उनके पूर्वजों द्वारा पांडव पर्वत में पांडवों के नाम पर मंदिर का निर्माण भी किया है। कोई भी व्यक्ति वहां नहीं पहुंच पाता है, इसलिए गांव के सरहद पर धर्मराज युधिष्ठिर के नाम का मंदिर बनाया गया है और पांचों पांडवों की पूजा के लिए अलग-अलग पुजारी नियुक्त किए गए हैं। अर्जुन की पूजा के लिए राममूर्ति दादी, भीम के लिए दादी अनिल, युधिष्ठिर के लिए कनपुजारी, नकुल के लिए दादी रमेश व सहदेव के लिए संतोष उड़तल को पुजारी बनाया गया है। हर दो साल में धर्मराज मंदिर में मेला लगता है। यहां आने वाले श्रद्धालु अपने कामना और मन्नत के अनुसार, बकरे और मुर्गो की बलि चढ़ाते हैं। यह मेला अप्रैल माह में बुधवार के दिन ही आयोजित किया जाता है। ग्रामीणों का कहना है कि पूजा पाठ और पुजारियों का गांव होने के कारण ही उनके गांव का नाम पुजारी कांकेर रखा गया है। --आईएएनएस

 



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें