Breaking News
केकेआर ने हैदराबाद को 6 विकेट से हराया         ||           कांग्रेस-जेएमएम के बीच झारखंड में हुआ गठबंधन         ||           आज का दिन : विश्व टी.बी         ||           सपना चौधरी ने कांग्रेस में शामिल होने से साफ इनकार किया         ||           "सॉसद, विधायक पुलवामा शहीद परिवारों के लिये अपने एक माह का वेतन/पैंशन"दें - वयोवृद्ध की मार्मिक अपील         ||           कन्हैया कुमार बेगूसराय से लेफ्ट उम्मीदवार के तौर पर लड़ेंगे चुनाव         ||           नवजोत सिंह सिद्धू ने मोदी पर साधा निशाना, बोले कोई और करे तो कैरेक्टर ढीला         ||           लोकसभा चुनाव में सपा के लिए प्रचार नहीं करेंगे मुलायम सिंह यादव         ||           थाईलैंड में सैन्य तख्तापलट के बाद से पहली बार मतदान         ||           शीला दीक्षित ने कहा मुझसे या राहुल गांधी से केजरीवाल ने नहीं की बात         ||           अखिलेश यादव आजमगढ़ से लड़ेंगे चुनाव         ||           शाहनवाज हुसैन का भागलपुर से टिकट कटने पर छलका दर्द         ||           स्‍मृति ईरानी ने कहा 'भाग राहुल भाग' सिंहासन खाली करो         ||           अरविंद केजरीवाल दिल्ली पुलिस पर बरसे, मोदी पर साधा निशाना         ||           कांग्रेस ने 38 लोकसभा सीटों के लिए किया उम्मीदवारों का ऐलान         ||           चेन्नई ने आरसीबी को 7 विकेट से हराकर आईपीएल में जीत से आगाज किया         ||           भाजपा ने उमा भारती को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया         ||           भाजपा ने लोकसभा चुनाव के लिए 46 उम्मीदवारों की पांचवी लिस्ट जारी की         ||           आज का दिन : भगत सिंह ,राजगुरु और सुखदेव         ||           जेडीएस ने कहा तुमकुर से लड़ेंगे एचडी देवगौड़ा         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> बच्चों को बादाम, मछली, सोयाबीन रखेंगे दमा से दूर

बच्चों को बादाम, मछली, सोयाबीन रखेंगे दमा से दूर


admin ,Vniindia.com | Thursday December 07, 2017, 10:06:00 | Visits: 387







लंदन, 7 दिसंबर (वीएनआई)| आप अपने बच्चों के आहार में बादाम, मछली जैसे सैलमॉन, पटसन के बीज व सोयाबीन तेल में मौजूद जरूरी पॉलीअनसेचुरेटेड वसा अम्ल शामिल कर उन्हें एलर्जी संबंधी बीमारियों से दूर रखेंगे। इनका सेवन आपके बच्चे को खास तौर से दमा (अस्थमा) व नाक में जलन व श्लेष्मा झिल्ली में सूजन के जोखिम को रोकने में कारगर होगा। 



दमा व नाक के एलर्जी संबंधी रोग से बच्चों के बचपन पर असर पड़ता है। इसकी वजह या तो आनुवांशिक होती है या पर्यावरणीय कारकों का असर होता है।शोध के परिणाम बताते हैं कि पॉलीअनसेचुरेटेड वसा अम्लों की रक्त में बढ़ी मात्रा बच्चों में एलर्जी संबंधी रोगों के जोखिम को कम करने से जुड़ी हुई है। पॉलीअनसेचुरेड वसीय अम्ल में ओमेगा-3 व ओमेगा-6 वसा अम्ल आते हैं, जिन्हें एराकिडोनिक अम्ल कहते हैं। ऐसे बच्चों में, जिनमें आठ साल की उम्र में ओमेगा 3 का उच्च रक्त स्तर होता है, उनमें 16 साल की उम्र में दमा या नाक में जलन या श्लेष्मा झिल्ली में एलर्जी के विकसित होने की संभावना कम होती है। उच्चस्तर वाले ओमेगा-6 वसा अम्ल जिसे एराकिडोनिक अम्ल कहते हैं, यह 16 साल की उम्र में दमा के कम जोखिम से जुड़ा हुआ है। स्वीडेन के कारोलिंस्का इंस्टीट्यूट की शोधकर्ता एना बर्गस्ट्रोम ने कहा, "चूंकि एलर्जी की अक्सर शुरुआत बचपन के दौरान होती है, ऐसे में इस शोध का मकसद पर्यावरण व जीवनशैली का एलर्जी संबंधी बीमारियों पर असर देखना था।" 



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें