Breaking News
कौन कौन रहा अब तक फुटबॉल वर्डकप का चैंपियन         ||           आज का दिन :         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने भारत-अफगानिस्तान टेस्ट को ऐतिहासिक बताया         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने जीएसटी को ईमानदारी की जीत करार दिया         ||           उप्र के कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर मुख्यमंत्री योगी से नाराज, बोले-गर्मी बढ़ चुकी है         ||           फीफा विश्व कप 2018 : आज 11वें दिन के होने वाले मैच         ||           भारतीय हॉकी टीम ने चैंपियंस ट्रॉफी के पहले मैच में पाकिस्तान को 4-0 से हराया         ||           आईएएस पहली बार ले रहे है फि्ल्म सराहने का प्रशिक्षण         ||           अमित शाह ने कहा बीजेपी में सरकार गिरने पर 'भारत माता की जय' के नारे लगाते हैं         ||           अखिलेश यादव की सरकारी बंगले में तोड़फोड़ मामले में बढ़ सकती हैं मुश्किलें         ||           राफेल नडाल विंबलडन के लिए आत्मविश्वास से भरपूर         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने कहा शिवराज सरकार ने विकास की नई गाथा लिखी         ||           बातें फुटबॉल वर्डकप की         ||           क्या सेशल्स बहाल करेगा भरोसा?         ||           चिदंबरम ने कहा राहुल को जेहादियों, नक्सलियों से सहानुभूति रखने वाला बताना गलत         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने मप्र में सिंचाई परियोजना का डिजिटल लोकार्पण किया         ||           भाजपा अध्यक्ष अमित शाह जम्मू पहुंचे         ||           आज का दिन :         ||           प्रधानमंत्री मोदी भोपाल पहुंचे         ||           सुनिधि ने कहा रियलिटी शो की सफलता प्रतियोगियों पर निर्भर         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> निपाह वायरस से सरल उपाय कर बचें

निपाह वायरस से सरल उपाय कर बचें


admin ,Vniindia.com | Tuesday May 29, 2018, 12:08:00 | Visits: 98







नई दिल्ली, 29 मई (वीएनआई)| लोगों के दिमाग को नुकसान पहुंचाने वाले निपाह वायरस से कुछ सरल उपाय अपनाकर बचा जा सकता है। इस वायरस की चपेट में आने से केरल में लगभग 13 लोगों की मौत हो चुकी है और कम से कम 40 अन्य लोग इससे प्रभावित हैं। 



निपाह वायरस स्वाभाविक रूप से कशेरुकी जानवरों से मनुष्यों तक फैलती है। यह रोग 2001 में और फिर 2007 में पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी में भी सामने आया था। यह पुष्टि की गई है कि केरल के बाहर के लोगों को केवल तभी सावधान रहना चाहिए जब वे प्रभावित क्षेत्रों की यात्रा कर रहे हों या किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आ रहे हों। हार्ट केयर फाउंडेशन (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, "नैदानिक रूप से, निपाह वायरस के संक्रमण के लक्षणों की शुरुआत एन्सेफेलेटिक सिंड्रोम से होती है, जिसमें बुखार, सिरदर्द, म्यालगिया की अचानक शुरुआत, उल्टी, सूजन, विचलित होना और मानसिक भ्रम शामिल हैं। संक्रमित व्यक्ति 24 से 48 घंटों के भीतर कॉमेटोज हो सकता है। उन्होंने कहा, "निपाह एन्सेफेलाइटिस की मृत्यु दर 9 से 75 प्रतिशत तक है। निपाह वायरस संक्रमण के लिए कोई प्रभावी उपचार नहीं है। उपचार का मुख्य आधार बुखार और तंत्रिका संबंधी लक्षणों के प्रबंधन पर केंद्रित है। संक्रमण नियंत्रण उपाय महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि व्यक्तिगत रूप से ट्रांसमिशन हो सकता है। गंभीर रूप से बीमार व्यक्ति को गहन देखभाल की आवश्यकता है।"



डॉ. अग्रवाल ने बताया, निपाह वायरस को जैव सुरक्षा स्तर (बीएसएल) 4 एजेंट के रूप में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वर्गीकृत किया गया है। खतरनाक और विदेशी एजेंटों के साथ काम के लिए बायोसेफ्टी लेवल 4 की आवश्यकता होती है, जो एयरोसोल-संक्रमित प्रयोगशाला संक्रमण और जानलेवा बीमारी का एक उच्च व्यक्तिगत जोखिम उत्पन्न करता है। यह अक्सर घातक होता है, जिसके लिए कोई टीका या उपचार नहीं होता है। डॉ. अग्रवाल ने सुझाव देते हुए कहा, "सुनिश्चित करें कि आप जो खाना खाते हैं वह चमगादड़ या उनके मल से दूषित नहीं है। चमगादड़ के कुतरे फलों को खाने से बचें, पाम के पेड़ के पास खुले कंटेनर में बनी पीने वाली शराब पीने से बचें, बीमारी से पीड़ित किसी भी व्यक्ति से संपर्क में आने से बचें। अपने हाथों को अच्छी तरह से स्वच्छ करें और धोएं, आमतौर पर शौचालय के बाल्टी और मग, रोगी के लिए उपयोग किए जाने वाले कपड़े, बर्तन और सामान को अलग से साफ करें, निपाह बुखार के बाद मरने वाले किसी भी व्यक्ति के मृत शरीर को ले जाते समय चेहरे को कवर करना महत्वपूर्ण है। मृत व्यक्ति को गले लगाने या चुंबन करने से बचें।



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें