Breaking News
कैप्टन अमरिंदर ने कहा पाकिस्तानी जनरल से सिद्धू की झप्पी के पक्ष में नहीं         ||           पहलवान सुशील कुमार एशियन गेम्स से बाहर         ||           सेना ने पाकिस्तान की घुसपैठ का प्रयास नाकाम किया, एक आतंकी ढेर         ||           भारत की पहली पारी 329 पर सिमटी, भोजन कल तक इंग्लैंड ने 46/0 रन बनाये         ||           अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां बेटी ने गंगा में विसर्जित की         ||           हार्दिक पटेल अनशन से पहले समर्थकों सहित हिरासत में लिए गए         ||           एशियाई खेलो में अपूर्वी चंदेला और रवि कुमार की जोड़ी ने दिलाया भारत को पहला पदक         ||           मुख्यमंत्री योगी ने बकरीद पर शांति व्यवस्था के लिए दिए निर्देश         ||           लंदन पुलिस ने दाउद इब्राहिम के फाइनेंस मैनेजर को हिरासत में लिया         ||           आज का दिन : मास्टर विनायक         ||           अटल बिहारी वाजपेयी का अस्थि विसर्जन आज हरिद्वार में         ||           केरल में खत्म हुआ रेड अलर्ट, राहत कार्य में तेजी         ||           विराट और रहाणे ने पारी को संभाला, भारत ने पहले दिन बनाये 307/6 रन         ||           एसबीआई ने दो करोड़ रुपये देकर केरल बाढ़ पीड‍़‍ितों की मदद की         ||           बीजेपी ने कहा सिद्धू का बाजवा के गले मिलना जघन्य अपराध है, राहुल गांधी सफाई दें         ||           अखिलेश यादव के होटल निर्माण पर हाईकोर्ट ने लगाई रोक         ||           पूर्व संयुक्त राष्ट्र महासचिव कोफी अन्‍नान का 80 वर्ष की आयु में निधन         ||           इसो एलबेन ने साइकिलिंग चैम्पियनशिप में इतिहास रचते हुए भारत को पहला पदक दिलाया         ||           प्रियंका चोपड़ा का निक जोनस साथ हुआ रोका         ||           इंग्लैंड ने टॉस जीता, भारत को पहले बल्लेबाज़ी का न्योता         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> सूखे बुंदेलखंड का नादिया गांव हरा-भरा

सूखे बुंदेलखंड का नादिया गांव हरा-भरा


admin ,Vniindia.com | Sunday April 22, 2018, 09:20:00 | Visits: 105







टीकमगढ़, 22 अप्रैल | मध्यप्रदेश के हिस्से वाले बुंदेलखंड क्षेत्र में यूं तो कई किलोमीटर तक धरती खाली और वीरान खेत नजर आते हैं, मगर टीकमगढ़ जिले के नादिया गांव में अमरचंद प्रजापति के खेतों में हरियाली नजर आती है। यह ऐसा किसान है, जो एक एकड़ में पपीता और सब्जियां उगाकर सालाना पांच लाख रुपये से ज्यादा कमाई में सफल हो रहा है। 



अमरचंद प्रजापति और नाथूराम कुशवाहा मिलकर एक एकड़ जमीन पर पपीता, मिर्ची, टमाटर, बैगन वगैरह की खेती कर खुशहाली की मिसाल बन गए हैं। ये किसान बहुत कम पानी का उपयोग कर अपनी आजीविका चलाने में कामयाब हो रहे हैं। अमरचंद बताते हैं कि उन्होंने एक एकड़ क्षेत्र में 20 से ज्यादा कतारों में पपीता लगाए हैं, वहीं बीच के हिस्से में मिर्ची, टमाटर और बैगन को उगाया है, इससे उन्हें सालाना पांच लाख से ज्यादा की आमदनी हो जाती है। इतना ही नहीं, वे यह सारी फसल बहुत कम पानी का उपयोग कर उगाते हैं। नाथूराम के मुताबिक, वे दिनभर में इन फसलों की मुश्किल से आठ सौ लीटर पानी से सिंचाई करते हैं। उनके ट्यूबवेल में पानी बहुत कम है, इसके बावजूद डिप सिंचाई का उन्हें भरपूर लाभ मिल रहा है। कम पानी में भी वे अच्छी फसल ले रहे हैं।



अमरचंद के खेत में पहुंचकर दूर से पपीते के पेड़ नजर आते हैं और जमीन में काली पॉलीथिन बिछी नजर आती है। पॉलीथिन के नीचे मिट्टी की क्यारी बनी हुई है और उस पर ट्यूब बिछी हुई है। इस ट्यूब से हर पेड़ के करीब पानी का रिसाव होता है, जिससे मिट्टी में नमी बनी रहती है और ऊपर पॉलीथिन होने के कारण पानी वाष्पीकृत होकर उड़ नहीं पाता। लिहाजा, कम पानी में ही पेड़ों की जरूरत पूरी हो जाती है। नाथूराम की मानें तो पपीता की अच्छी पैदावार हो तो एक कतार से ही 50 हजार रुपये का पपीता सालभर में निकल आता है। एक एकड़ में बीस कतार हैं, इस तरह अच्छी पैदावार होने पर सिर्फ पपीता से ही 10 लाख रुपये कमाए जा सकते हैं। इसके अलावा अन्य सब्जियों से होने वाली आय अलग है। अमरचंद और नाथूराम एक तरफ जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'वन ड्रॉप मोर क्रॉप' के संदेश को सफल बनाने में लगे हैं, वहीं जैविक खाद का उपयोग करने में भी पीछे नहीं हैं। इन दो किसानों की जोड़ी की तरह अन्य किसान भी कम पानी और डिप एरिगेशन को अपनाएं तो सूखे बुंदेलखंड में किसानों में खुशहाली आ सकती है। 



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें