Breaking News
ईशा गुप्ता ईरानी फिल्म पर काम कर रही हैं         ||           सेंसेक्स 342 अंकों की तेजी पर बंद         ||           दिल्ली उच्च न्यायालय पहुंचे आप के अयोग्य विधायक         ||           भारत जोहानसबर्ग टेस्ट में सम्मान की लड़ाई लड़ने उतरेगा         ||           रैना ने कहा भारतीय टीम में जल्द वापसी की उम्मीद         ||           2019 में शिवसेना अकेले चुनाव लड़ेगी         ||           आस्ट्रेलिया अंडर-19 विश्व कप के सेमीफाइनल में         ||           बाबोस-बोपन्ना की जोड़ी आस्ट्रेलियन ओपन के क्वार्टर फाइनल में         ||           जद (यू) का लालू के काव्यात्मक ट्वीट पर शायराना अंदाज में पलटवार         ||           राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजलि दी         ||           आज का दिन :         ||           भारत, पाकिस्तान सीमा स्थिति पर गुटेरेस की नजर         ||           Anupma's Dining Table : Orange Almond Pudding         ||           Students find 'Study of NON-VIOLENCE & JAINISM', an enlightening experience         ||           भारत की इजरायल-फिलिस्तीन कूटनीति         ||           चीन में रिलीज होगी 'बजरंगी भाईजान'         ||           जापान में ज्वालामुखी भड़कने के बाद हिमस्खलन से 15 घायल         ||           राजधानी दिल्ली में बदली छाई, बारिश की संभावना         ||           कनाडा के प्रधानमंत्री त्रुदो अगले माह भारत में-रिश्ते और मजबूत होंगे         ||           उप्र में तेज धूप और तापमान में इजाफा         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> रोहिंग्या पर अत्याचारों का म्यांमार सेना ने खंडन किया

रोहिंग्या पर अत्याचारों का म्यांमार सेना ने खंडन किया


admin ,Vniindia.com | Tuesday November 14, 2017, 12:27:00 | Visits: 25







नेपीथा, 14 नवंबर (वीएनआई)| रखाइन प्रांत में म्यांमार की सेना ने अभियान चलाने के दौरान रोहिंग्या मुसलमानों की हत्या करने, महिलाओं के साथ दुष्कर्म और अत्याचार करने के आरोपों से आज फिर इनकार किया है। 



समाचार एजेंसी के मुताबिक, अगस्त में रोहिंग्या विद्रोहियों के एक समूह द्वारा पुलिस चौकियों पर हमला किए जाने के बाद हालिया सैन्य अभियान की शुरुआत हुई, जिसके चलते अल्पसंख्यक समुदाय के 614,000 से अधिक लोगों को बांग्लादेश भागना पड़ा। सैन्य अभियान की कई संगठनों ने निंदा की और संयुक्त राष्ट्र मानव अधिकार उच्चायुक्त ने इसे 'जनजातीय सफाया' करने वाला कदम बताया। वहीं, सेना की ओर से जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि सेना ने हमेशा इस बात को सुनिश्चित किया है कि सुरक्षा बल कानून के मुताबिक काम करें और निर्दोष नागरिकों की हत्या नहीं हो।  रिपोर्ट में कहा गया, "सुरक्षा बलों ने नागरिकों को गिरफ्तार नहीं किया। उन्हें नहीं मारा-पीटा और उनकी हत्या नहीं की। उन्होंने संपत्ति नहीं लूटी या नष्ट नहीं की..किसी ग्रामीण को धमकाया या डराया नहीं।" 



सेना ने कहा कि उसकी रिपोर्ट 3,217 रोहिंग्या ग्रामीणों से बातचीत पर आधारित है, जिन्हें देश के (म्यांमार) नागरिक के रूप में नागरिकता नहीं मिली है और रिपोर्ट में उन्हें बांग्लादेशी कहा गया है।  वरिष्ठ जनरल मिन आंग ह्लेइंग के फेसबुक पेज पर प्राकशित रिपोर्ट के मुताबिक, 376 विद्रोहियों और सुरक्षा बलों के 13 सदस्यों की मौत की मौत संघर्ष में हुई है, जिन्हें 'बंगाली आतंकवादी' कहा गया है। साथ ही हुई है।  रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि पलायन कर रहे लोगों को एक भी गोली नहीं मारी गई और विद्रोहियों को जिनेवा समझौते के प्रावधानों के अनुसार ही गिरफ्तार किया गया।मानवाधिकार संगठन एमेनस्टी इंटरनेशनल (एआई) ने इस रिपोर्ट को म्यांमार सेना द्वारा मानवता के खिलाफ अपराध को छुपाने के रूप में वर्णित किया है। 



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें