Breaking News
पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र ने राजस्‍थान में दिया बीजेपी को झटका         ||           विलेज रॉकस्टार्स भारत की तरफ से जाएगी ऑस्कर्स         ||           भाजपा ने राफेल डील पर कांग्रेस पर किया पलटवार         ||           रोहित शर्मा ने कहा पाक के खिलाफ भी ऐसा ही प्रदर्शन दोहराना चाहेंगे         ||           राहुल गांधी का राफेल को लेकर मोदी पर हमला, कहा आपने देश की आत्मा से विश्वासघात किया         ||           पेट्रोल के दाम में 12 पैसे की बढ़ोतरी, डीजल में कोई बदलाव नहीं         ||           आज का दिन : माइकल फैराडे         ||           दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत में तीन दिनों तक हो सकती है तेज बारिश         ||           पाकिस्तान ने कहा विदेश मंत्रियों की बैठक को रद्द करना दुर्भाग्यापूर्ण         ||           अमेरिका ने कहा पाकिस्तान अब भी आतंक का स्वर्ग         ||           पाकिस्‍तान ने कहा बीएसएफ जवान की हत्‍या में हमारा कोई हाथ नहीं         ||           रोहित की कप्तानी पारी की बदौलत भारत ने बांग्लादेश को 7 विकेट से हराया         ||           अमित शाह ने छत्तीसगढ़ में कहा अबकी बार जड़ से उखाड़ फेकेंगे कांग्रेस को         ||           भारत ने टॉस जीता, बांग्लादेश को पहले बल्लेबाज़ी का न्योता         ||           सेंसेक्स 280 अंक की गिरावट पर बंद         ||           राहुल गांधी ने पश्चिम बंगाल कांग्रेस में किया बड़ा बदलाव         ||           राजीव गांधी खेलरत्न पुरस्कार         ||           डोनाल्ड ट्रंप ने सहारा रेगिस्तान पर स्पेन को दीवार बनाने को कहा था         ||           जेडीयू ने अयोध्या में राम मंदिर को लेकर दिया बड़ा बयान         ||           अमेरिका ने भारत-पाक के विदेश मंत्रियों की बैठक को शानदार बताया         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> एक मामूली सा पत्थर जो विरले तपस्वी के बैठते ही बन गया तीर्थ

एक मामूली सा पत्थर जो विरले तपस्वी के बैठते ही बन गया तीर्थ


Vniindia.com | Friday July 01, 2016, 12:23:36 | Visits: 838







दमोह, मध्य प्रदेश,30 जून (अनुपमाजैन/वीएनआई)क्या किसी साधारण से पत्थर की कीमत पॉच लाख हो सकती है?
दार्शनिक तपस्वी जैन संत आचार्य विद्यासागर महाराज ने विहार के दौरान जिस मामूली पत्थर को कुछ पल के लिए आसन बनाया था, वह पत्थर अब पारस का बन गया है। जैन धार्मावलम्बी पत्थर की कीमत पांच लाख रुपए तक लगा चुके हैं। जबकि इस पत्थर की कीमत महज तीस रुपए भी नही है। जिस व्यक्ति के पास यह पत्थर है वह इसे किसी भी कीमत पर नहीं बेचना चाहता। उसका कहना है कि यह पत्थर उसके लिए अनमोल है, आस्था है।
आचार्यश्री विद्यासागर महाराज दमोह से विहार कर श्रद्धालुओ के समूह के साथ पथरिया की ओर निकले थे। रास्ते में शहर से करीब नौ किलोमीटर दूर सेमरा तिराहे पर चाय की एक दुकान है। दुकान के सामने ही बरगद का पेड़ लगा है। आचार्य श्री कुछ पल के लिए बरगद के नीचे रखे पत्थर पर बैठ गए। आचार्य श्री को देख अभिभूत चाय दुकान संचालक बलराम पटेल ने आचार्य श्री के जाते ही पत्थर को सिद्ध स्थल पर रख दिया।
आचार्य श्री के आसन जमाने की बात सुनकर भक्त दुकान संचालक के पास पहुंचे। शिलाको पूजने के साथ ही वे दुकान संचालक से पत्थर दिये जाने का आग्रह करने लगे। पांच हजार रुपए से शुरू हुई कीमत पांच लाख तक पहुंच गई। लाख मनुहार करने के बाद भी दुकानदार ने पत्थर बेचने से मना कर दिया।
चाय दुकान संचालक बलराम पत्थर के लिये कुछ समय पहले जो एक एक साधारण सा पत्थर था ,वह पुज्यनीय हो गया । उसका कहना है कि जिस संत के दर्शन पाने के लिए हजारो श्रद्धालु हाथ जोड़े खड़े रहते हैं। उस संत ने स्वयं उसके यहा पहुंच कर उसे धन्य कर दिया । वह उस पत्थर को आचार्यश्री का आशीर्वाद मान पूज रहा है। एक श्रद्धालु के अनुसार आचार्यश्री के साथ ऐसे चमत्कार देखने को सुनने को मिलते रहते .है यह घटना भी कोई चमत्कार नही बल्कि इस बात की द्योतक है कि कैसे एक साधु की घोर तपस्या और ग्यान साधना के चलते एक साधु अपने जीवन काल मे ही चलता फिरता तीर्थ बन गया है एन आई

Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें