Breaking News
भारत और ऑस्ट्रेलिया टी-20         ||           मनमोहन सिंह ने राफेल मामले पर कहा दाल में कुछ काला जरूर है         ||           जम्मू कश्मीर में बात सरकार की         ||           सेंसेक्स 275 अंक की गिरावट पर बंद         ||           जम्मू एवं कश्मीर में कांग्रेस-पीडीपी और उमर मिलकर बना सकते है सरकार         ||           राहुल गाँधी से तेलंगाना के सबसे अमीर सांसद ने मुलाकात की         ||           पेंटागन ने कहा पाक को दी जाने वाली 1.66 बिलियन डॉलर की मदद पर लगी रोक         ||           आप विधायक सोमनाथ भारती ने महिला एंकर को आपत्तिजनक शब्द कहे         ||           तेलंगाना में प्राइवेट जेट क्रैश हुआ, पायलट सुरक्षित         ||           अक्षय कुमार आज पंजाब एसआईटी के सामने आज पेश होंगे         ||           केरल कांग्रेस के कार्यवाहक अध्यक्ष एमआई शानवास का निधन         ||           देश के शेयर बाज़ारो के शुरूआती कारोबार में गिरावट का असर         ||           हिज्बुल मुजाहिदीन का आतंकी दिल्ली में गिरफ्तार         ||           केंद्रीय मंत्री हरिभाई चौधरी ने कहा अगर आरोप सही हुए तो राजनीति छोड़ दूंगा         ||           एमसी मैरीकॉम वर्ल्ड चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में         ||           अमृतसर ब्लास्ट मामले में दो संदिग्ध छात्र बठिंडा से गिरफ्तार         ||           सचिवालय में मुख्यमंत्री केजरीवाल पर मिर्च पाउडर से हमला         ||           सेंसेक्स 300 अंक की गिरावट पर बंद         ||           सुषमा स्वराज ने कहा नहीं लड़ेंगी अगला लोकसभा चुनाव         ||           अशोक गहलोत ने कहा वसुंधरा ने जोधपुर के साथ किया सौतेला बर्ताव         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> एक मामूली सा पत्थर जो विरले तपस्वी के बैठते ही बन गया तीर्थ

एक मामूली सा पत्थर जो विरले तपस्वी के बैठते ही बन गया तीर्थ


Vniindia.com | Friday July 01, 2016, 12:23:36 | Visits: 865







दमोह, मध्य प्रदेश,30 जून (अनुपमाजैन/वीएनआई)क्या किसी साधारण से पत्थर की कीमत पॉच लाख हो सकती है?
दार्शनिक तपस्वी जैन संत आचार्य विद्यासागर महाराज ने विहार के दौरान जिस मामूली पत्थर को कुछ पल के लिए आसन बनाया था, वह पत्थर अब पारस का बन गया है। जैन धार्मावलम्बी पत्थर की कीमत पांच लाख रुपए तक लगा चुके हैं। जबकि इस पत्थर की कीमत महज तीस रुपए भी नही है। जिस व्यक्ति के पास यह पत्थर है वह इसे किसी भी कीमत पर नहीं बेचना चाहता। उसका कहना है कि यह पत्थर उसके लिए अनमोल है, आस्था है।
आचार्यश्री विद्यासागर महाराज दमोह से विहार कर श्रद्धालुओ के समूह के साथ पथरिया की ओर निकले थे। रास्ते में शहर से करीब नौ किलोमीटर दूर सेमरा तिराहे पर चाय की एक दुकान है। दुकान के सामने ही बरगद का पेड़ लगा है। आचार्य श्री कुछ पल के लिए बरगद के नीचे रखे पत्थर पर बैठ गए। आचार्य श्री को देख अभिभूत चाय दुकान संचालक बलराम पटेल ने आचार्य श्री के जाते ही पत्थर को सिद्ध स्थल पर रख दिया।
आचार्य श्री के आसन जमाने की बात सुनकर भक्त दुकान संचालक के पास पहुंचे। शिलाको पूजने के साथ ही वे दुकान संचालक से पत्थर दिये जाने का आग्रह करने लगे। पांच हजार रुपए से शुरू हुई कीमत पांच लाख तक पहुंच गई। लाख मनुहार करने के बाद भी दुकानदार ने पत्थर बेचने से मना कर दिया।
चाय दुकान संचालक बलराम पत्थर के लिये कुछ समय पहले जो एक एक साधारण सा पत्थर था ,वह पुज्यनीय हो गया । उसका कहना है कि जिस संत के दर्शन पाने के लिए हजारो श्रद्धालु हाथ जोड़े खड़े रहते हैं। उस संत ने स्वयं उसके यहा पहुंच कर उसे धन्य कर दिया । वह उस पत्थर को आचार्यश्री का आशीर्वाद मान पूज रहा है। एक श्रद्धालु के अनुसार आचार्यश्री के साथ ऐसे चमत्कार देखने को सुनने को मिलते रहते .है यह घटना भी कोई चमत्कार नही बल्कि इस बात की द्योतक है कि कैसे एक साधु की घोर तपस्या और ग्यान साधना के चलते एक साधु अपने जीवन काल मे ही चलता फिरता तीर्थ बन गया है एन आई

Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें