Breaking News
कश्मीरी छात्रों पर हमले पर सुप्रीम कोर्ट नाराज़, केंद्र सरकार और 10 राज्यों को नोटिस         ||           आज का दिन :         ||           (भारत ऑस्ट्रेलिया सीरीज) )पीठ में खिंचाव के कारण हार्दिक पंड्या सीरीज से बाहर         ||           पुलवामा हमले के बाद केंद्र सरकार ने दी जवानों को हवाई यात्रा की सुविधा         ||           सऊदी जेलों में बंद 850 भारतीय कैदी रिहा होंगे, हज कोटा भी बढा         ||           आज का दिन :         ||           अयोध्या जमीन विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट में 26 फरवरी को सुनवाई होगी         ||           सर्वोच्च अदालत ने अनिल अंबानी को अवमानना का दोषी करार दिया         ||           भारत-सऊदी अरब के बीच 5 अहम समझौते,पीएम ने कहा "आतंकवाद समर्थक देशों पर दबाव डालेंगे"         ||           सऊदी युवराज सलमान की भारत यात्रा- आज पॉच समझौते होने की उम्मीद         ||           मोदी सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में तीन फीसदी की बढ़ोतरी         ||           सिक्किम की पुलवामा शहीदों के परिजनों को आर्थिक सहयाता और बच्चों को शिक्षा की घोषणा         ||           Sikkim CM proposes to sponsor education for kids of Pulwama martyres         ||           आज का दिन :         ||           आईपीएल कार्यक्रम         ||           संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सर्विसेज परीक्षा के लिए अधिसूचना         ||           माघ पूर्णिमा         ||           किडनी-लिवर बेचने वाले गिरोह का कानपुर पुलिस ने किया पर्दाफाश         ||           सहमति शिव सेना और बीजेपी में         ||           कुलभूषण जाधव केस मे इंटरनेशन कोर्ट में सुनवाई शुरू         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> एलएसई-भारत शिखर सम्मेलन 29 मार्च से

एलएसई-भारत शिखर सम्मेलन 29 मार्च से


user1 ,Vniindia.com | Saturday March 18, 2017, 04:05:04 | Visits: 276







नई दिल्ली, 18 मार्च (वीएनआई/आईएएनएस)| लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स (एलएसई) के दक्षिण एशिया केंद्र का वार्षिक शिखर सम्मेलन इंडिया हैबिटेट सेंटर में 29 मार्च से शुरू होगा और 31 मार्च तक चलेगा। इसमें भारत की आजादी की 70वीं वर्षगांठ का भी जश्न मनाया जाएगा। शिखर सम्मेलन में विश्वशक्ति बनने की इच्छाशक्ति से भरपूर भारत के आगे के रास्तों से जुड़े चार महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा होगी। ये मुद्दे हैं :

-नागरिकता एवं भारत का संविधान

-कॉपोर्रेट सामाजिक दायित्व

-वैश्विक शक्ति के रूप में भारत का उदय

-भारत में जल सुरक्षा

चर्चा में शामिल होने वाले विशेषज्ञों में जे.ए. (टोनी) एलन, राहुल बजाज, मुकुलिका बनर्जी, हैरी बकेर्मा, अमिता बााविस्कर, एस. गुरुमूर्ति, सुहासिनी हैदर, नीरजा गोपाल जयाल, कल्पना कन्नाबिरन, ओंकार एस कंवर, माधव खोसला, मार्कस मेंच, निरुपमा राव, मुकुंद राजन, कंवल सिब्बल, एश्ली टेलिस और हिमांशु ठक्कर शामिल हैं।

यह आयोजन भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री डेविड कैमरुन द्वारा 2015 में संयुक्त रूप से की गई घोषणा - 'भारत-ब्रिटेन संस्कृति वर्ष 2017' के तहत किया जा रहा है।

शिखर सम्मेलन के विशेष आकर्षण :

-1947 में भारतीय उपमहाद्वीप के विभाजन को दर्शाने वाली चित्र प्रदर्शनी। यह प्रदर्शनी अमृतसर स्थित पार्टीशन म्यूजियम के सहयोग से आयोजित होगी।

-अश्विनी देशपांडे (प्रोफेसर, दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स) द्वारा मात्रात्मक डेटा और विश्लेषण पर मास्टर क्लास।

-भारत के साथ लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स के 100 साल से अधिक पुराने ऐतिहासिक संबंधों पर मिक कॉक्स और रामचंद्र गुहा के बीच बातचीत।

शिखर सम्मेलन के बारे में लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स एंड पॉलिटिकल साइंस के दक्षिण एशिया केंद्र की निदेशक डॉ. मुकुलिका बनर्जी ने कहा, "आने वाले दशकों के दौरान भारत के आगे के रास्ते से जुड़े सवालों पर ईमानदार बहस और चर्चा के लिए एक प्लेटफार्म होगा। चर्चा नए शोधों, व्यावहारिक एवं तुलनात्मक ज्ञान तथा जमीनी हकीकतों के आधार पर होगी।"

ऐतिहासिक शिखर सम्मेलन की प्रायोजक कंपनी अपोलो टायर्स लिमिटेड के उपाध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नीरज कंवर ने कहा, "एलएसई शिखर सम्मेलन आजादी के बाद 70 साल पूरे करके वैश्विक आर्थिक ताकत बनने के एक नए दौर में प्रवेश करने वाले भारत के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा करने का अवसर प्रदान करेगा। हम एलएसई की इस पहल में सहयोग करके गौरव का अनुभव कर रहे हैं। इस पहल के जरिए कॉरपोरेट सामाजिक दायित्व तथा अन्य क्षेत्रों को लेकर वैचारिक चर्चा होगी तथा जानकारियों को सार्वजनिक प्रभाव के लिए उपलब्ध कराया जाएगा।

Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें