Breaking News
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा ग्राम स्वराज अभियान घर-घर सेवा वितरण का बढ़िया उदाहरण         ||           राजनाथ सिंह ने तूतीकोरिन में लोगों की मौत पर शोक जताया         ||           सेंसेक्स 318 अंकों की तेजी पर बंद         ||           अक्षय कुमार ने कहा चर्चा शुरू करके ही बदलाव लाया जा सकता है         ||           मुगुरुजा और सेरेना का फ्रेंच ओपन के लिए प्रशिक्षण शुरू         ||           तेल की बढ़ती कीमत के विरोध में गोवा कांग्रेस नेता ने तांगा चलाया         ||           चोटिल विराट कोहली सरे के लिए नहीं खेल पाएंगे         ||           नेतन्याहू ने कहा ईरान की आक्रामकता को रोकने के लिए इजरायल के इरादे अटल         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने कहा अपना फिटनेस वीडियो जल्द साझा करूंगा         ||           फडणवीस ने कहा कई नेता भाजपा में शामिल होने के लिए कतार में         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने नीदरलैंड के प्रधानमंत्री से मुलाकात की         ||           अनुपम खेर ने कहा अच्छा सिनेमा सामाजिक बदलाव का माध्यम         ||           छत्तीसगढ़ के सुकमा में नक्सली हमले में दो जवान घायल         ||           चीन को अमेरिका के सैन्याभ्यास से बाहर का रास्ता         ||           आमिर खान ने कहा मै फिल्म उद्योग में प्रवाह की विपरीत दिशा में बहा         ||           उत्तर कोरिया ने कहा द्विपक्षीय बैठक का भविष्य अमेरिका पर निर्भर करेगा         ||           स्पेन में पटाखों में विस्फोट से 1 की मौत         ||           योगी सरकार ने कन्याओं की शादी में मदद के लिए अनुदान राशि जारी की         ||           दिल्ली के अस्पताल के पास भीषण आग लगी         ||           शेयर बाजार हरे निशान पर खुले         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> काम के घंटे लंबे होने से दिल के दौरे का खतरा

काम के घंटे लंबे होने से दिल के दौरे का खतरा


admin ,Vniindia.com | Saturday July 15, 2017, 09:28:00 | Visits: 216







खास बातें


1 दिल की धड़कन काम के घंटे लंबे होने से अनियमित होने का जोखिम हो सकता है 2 इस अवस्था को आट्रियल फाइब्रलेशन कहते हैं 3 इस शोध का प्रकाशन 'यूरोपियन हार्ट जनरल' में किया गया है

लंदन, 15 जुलाई (वीएनआई)। दिल की धड़कन काम के घंटे लंबे होने से अनियमित होने का जोखिम हो सकता है। इस अवस्था को आट्रियल फाइब्रलेशन कहते हैं। यह स्ट्रोक व हार्ट फेल्योर को बढ़ाने का काम करता है। शोध में पता चला है कि ऐसे लोग जो सप्ताह में 35 से 40 घंटे काम करते हैं, उनकी तुलना में 55 घंटे काम करने वालों में आट्रियल फाइब्रलेशन के होने की संभावना करीब 40 फीसदी होती है।



यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के प्रोफेसर मिका किविमाकी ने कहा, उन लोगों में अतिरिक्त 40 फीसदी जोखिम बढ़ना एक गंभीर खतरा है, जिन्हें पहले ही दूसरे कारकों जैसे ज्यादा उम्र, पुरुष, मधुमेह, उच्च रक्त चाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल, मोटापा धूम्रपान व शारीरिक गतिविधि नहीं करने से दिल के रोगों का ज्यादा खतरा है या जो पहले ही दिल के रोगों से पीड़ित हैं। किविमाकी ने कहा, यह उन प्रक्रियाओं में से एक हो सकता है जिसे पहले के अध्ययनों में लंबे समय तक काम करने वालों में स्ट्रोक के खतरे की संभावना बताई गई है। आट्रियल फाइब्रलेशन स्ट्रोक के विकास व स्वास्थ्य पर दूसरे प्रतिकूल असर डालता है। इसमें हार्ट फेल्योर व स्ट्रोक से जुड़े डेमेंशिया शामिल हैं। इस शोध का प्रकाशन 'यूरोपियन हार्ट जनरल' में किया गया है।



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें