Breaking News
राहुल गाँधी ने कहा प्रधानमंत्री जब भी विदेश दौरे पर जाएं, नीरव को वापस लेते आएं         ||           आप पार्टी ने कहा हमारे नेताओं, कार्यकर्ताओं से मार-पीट की गई         ||           कोहली ने आईसीसी की टेस्ट और वनडे रैंकिंग में पार किए 900 अंक         ||           विवेक अग्निहोत्री की 'द ताशकंद फाइल्स' की शूटिंग दिल्ली में         ||           दिल्ली के उपराज्यपाल से केंद्र ने रपट मांगी         ||           भारत सेंचुरियन टी-20 में सीरीज जीतने के इरादे से उतरेगा         ||           राजनाथ ने कहा दिल्ली के मुख्य सचिव पर कथित हमले से 'गहरी पीड़ा' हुई         ||           सेंसेक्स 71 अंकों की गिरावट पर बंद         ||           अभिनेता श्याम के जन्मदिन पर         ||           मोरक्को के साथ रेल सहयोग समझौते को केंद्रीय मंत्रिमंडल की मंजूरी         ||           आज का दिन :         ||           राशिद की बदौलत अफगानिस्तान ने 4-1 से जीती सीरीज         ||           अग्नि 2 मिसाइल का भारत ने परीक्षण किया         ||           सीबीआई की पीएनबी घोटाले में पूछताछ जारी         ||           जम्मू एवं कश्मीर में हल्के भूकंप के झटके         ||           तेजस्वी ने नीतीश की जापान यात्रा पर कसा तंज         ||           आप और भाजपा में दिल्ली के मुख्य सचिव के साथ 'बदसलूकी' पर तकरार         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने अरुणाचल, मिजोरम को स्थापना दिवस की बधाई दी         ||           भारतीय हॉकी टीम की सुल्तान अजलान शाह कप के लिए घोषणा         ||           ऋचा चड्ढा ने कहा मैं फिल्म की क्षमता के आधार पर ही हामी भरती हूं         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> काम के घंटे लंबे होने से दिल के दौरे का खतरा

काम के घंटे लंबे होने से दिल के दौरे का खतरा


admin ,Vniindia.com | Saturday July 15, 2017, 09:28:00 | Visits: 196







खास बातें


1 दिल की धड़कन काम के घंटे लंबे होने से अनियमित होने का जोखिम हो सकता है 2 इस अवस्था को आट्रियल फाइब्रलेशन कहते हैं 3 इस शोध का प्रकाशन 'यूरोपियन हार्ट जनरल' में किया गया है

लंदन, 15 जुलाई (वीएनआई)। दिल की धड़कन काम के घंटे लंबे होने से अनियमित होने का जोखिम हो सकता है। इस अवस्था को आट्रियल फाइब्रलेशन कहते हैं। यह स्ट्रोक व हार्ट फेल्योर को बढ़ाने का काम करता है। शोध में पता चला है कि ऐसे लोग जो सप्ताह में 35 से 40 घंटे काम करते हैं, उनकी तुलना में 55 घंटे काम करने वालों में आट्रियल फाइब्रलेशन के होने की संभावना करीब 40 फीसदी होती है।



यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के प्रोफेसर मिका किविमाकी ने कहा, उन लोगों में अतिरिक्त 40 फीसदी जोखिम बढ़ना एक गंभीर खतरा है, जिन्हें पहले ही दूसरे कारकों जैसे ज्यादा उम्र, पुरुष, मधुमेह, उच्च रक्त चाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल, मोटापा धूम्रपान व शारीरिक गतिविधि नहीं करने से दिल के रोगों का ज्यादा खतरा है या जो पहले ही दिल के रोगों से पीड़ित हैं। किविमाकी ने कहा, यह उन प्रक्रियाओं में से एक हो सकता है जिसे पहले के अध्ययनों में लंबे समय तक काम करने वालों में स्ट्रोक के खतरे की संभावना बताई गई है। आट्रियल फाइब्रलेशन स्ट्रोक के विकास व स्वास्थ्य पर दूसरे प्रतिकूल असर डालता है। इसमें हार्ट फेल्योर व स्ट्रोक से जुड़े डेमेंशिया शामिल हैं। इस शोध का प्रकाशन 'यूरोपियन हार्ट जनरल' में किया गया है।



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें