Breaking News
विदेशी पूंजी भंडार देश में 1.82 अरब डॉलर घटा         ||           राहुल गांधी ने केरल बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने बाढ़ प्रभावित केरल को 500 करोड़ रुपये की मदद का ऐलान किया         ||           आज का दिन : एशियन गेम्स         ||           नवजोत सिंह सिद्धू पाक आर्मी चीफ से मिले गले         ||           इमरान खान ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की शपथ ली         ||           कर्नाटक में बाढ़ जैसे हालात, तीन लोगों की मौत         ||           गुजरात में ट्रक-ऑटो की टक्कर से 5 लोगों की मौत         ||           इमरान खान आज पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे         ||           प्रधानमंत्री मोदी बाढ़ के हालात का जायजा लेने देर रात केरल पहुंचे         ||           बॉलिवुड स्टार केरल बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आए         ||           अलविदा अटलजी : कर्तव्य पथ         ||           किम जोंग-उन ने कहा ‘शत्रुतापूर्ण ताकतें’ कोरियाई जनता को बर्बाद करना चाहती है         ||           इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह के लिए नवजोत सिंह सिद्धू पाकिस्तान रवाना         ||           पंचतत्व में विलीन हो गए अटल बिहारी वाजपेयी         ||           सेंसेक्स 284 अंक की तेजी पर बंद         ||           अटल बिहारी को ज्योतिरादित्य सिंधिया ने माथा टेककर किया नमन         ||           पाकिस्तान में भी वाजपेयी के निधन से दुख की लहर         ||           वीरेंद्र सहवाग और मोहम्मद कैफ केरल में बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आए         ||           अटल बिहारी वाजपेयी की बायॉपिक बन रही है 'युगपुरुष अटल'         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> काम के घंटे लंबे होने से दिल के दौरे का खतरा

काम के घंटे लंबे होने से दिल के दौरे का खतरा


admin ,Vniindia.com | Saturday July 15, 2017, 09:28:00 | Visits: 232







खास बातें


1 दिल की धड़कन काम के घंटे लंबे होने से अनियमित होने का जोखिम हो सकता है 2 इस अवस्था को आट्रियल फाइब्रलेशन कहते हैं 3 इस शोध का प्रकाशन 'यूरोपियन हार्ट जनरल' में किया गया है

लंदन, 15 जुलाई (वीएनआई)। दिल की धड़कन काम के घंटे लंबे होने से अनियमित होने का जोखिम हो सकता है। इस अवस्था को आट्रियल फाइब्रलेशन कहते हैं। यह स्ट्रोक व हार्ट फेल्योर को बढ़ाने का काम करता है। शोध में पता चला है कि ऐसे लोग जो सप्ताह में 35 से 40 घंटे काम करते हैं, उनकी तुलना में 55 घंटे काम करने वालों में आट्रियल फाइब्रलेशन के होने की संभावना करीब 40 फीसदी होती है।



यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के प्रोफेसर मिका किविमाकी ने कहा, उन लोगों में अतिरिक्त 40 फीसदी जोखिम बढ़ना एक गंभीर खतरा है, जिन्हें पहले ही दूसरे कारकों जैसे ज्यादा उम्र, पुरुष, मधुमेह, उच्च रक्त चाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल, मोटापा धूम्रपान व शारीरिक गतिविधि नहीं करने से दिल के रोगों का ज्यादा खतरा है या जो पहले ही दिल के रोगों से पीड़ित हैं। किविमाकी ने कहा, यह उन प्रक्रियाओं में से एक हो सकता है जिसे पहले के अध्ययनों में लंबे समय तक काम करने वालों में स्ट्रोक के खतरे की संभावना बताई गई है। आट्रियल फाइब्रलेशन स्ट्रोक के विकास व स्वास्थ्य पर दूसरे प्रतिकूल असर डालता है। इसमें हार्ट फेल्योर व स्ट्रोक से जुड़े डेमेंशिया शामिल हैं। इस शोध का प्रकाशन 'यूरोपियन हार्ट जनरल' में किया गया है।



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें