Breaking News
कोलकाता ने राजस्थान को हराकर आईपीएल-11 के क्वालीफायर-2 में जगह बनाई         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने कुमारस्वामी को बधाई दी         ||           विपक्षी एकता की झलक कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह में         ||           कुमारस्वामी को राजनाथ ने दी बधाई         ||           कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री को उद्धव ठाकरे ने शुभकामनाएं दीं         ||           डिविलियर्स ने कहा मैं थक चुका हूं         ||           आस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम को नया प्रायोजक मिला         ||           रूपाणी ने कहा भाजपा 2019 में भी गुजरात की सभी लोकसभा सीटें जीतेगी         ||           मोबीस्टार ने किफायती स्मार्टफोन भारत बाजार में उतारे         ||           एबी डिविलियर्स ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा         ||           सेंसेक्स 306 अंक की गिरावट पर बंद         ||           कमल हासन ने तूतीकोरिन गोलीबारी पीड़ितों से मुलाकात की         ||           मुलायम ने बंगला खाली करने के लिए 2 वर्ष का समय मांगा         ||           कुमारस्वामी ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली         ||           स्टालिन ने पलनीस्वामी के इस्तीफे की मांग की         ||           कमलनाथ ने कहा मंडी में मौत के मुंह में समा रहे हैं किसान         ||           केंद्रीय गृह मंत्रालय ने तमिलनाडु हिंसा पर रिपोर्ट मांगी         ||           कुमारस्वामी के शपथग्रहण समारोह की तैयारियां पूरी         ||           तूतीकोरिन में तनावपूर्ण शांति, मृतकों की संख्या बढ़कर 10 हुई         ||           शपथ लेने से पहले कुमारस्वामी ने मैसूर के मंदिर में प्रार्थना की         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> मुलेठी हृदय रोग में भी गुणकारी है

मुलेठी हृदय रोग में भी गुणकारी है


admin ,Vniindia.com | Sunday May 13, 2018, 10:08:00 | Visits: 53







नई दिल्ली, 13 मई (वीएनआई)| स्वाद में मीठी मुलेठी कैल्शियम, ग्लिसराइजिक एसिड, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटीबायोटिक, प्रोटीन और वसा के गुणों से भरपूर होती है। इसका इस्तेमाल नेत्र रोग, मुख रोग, कंठ रोग, उदर रोग, सांस विकार, हृदय रोग, घाव के उपचार के लिए सदियों से किया जा रहा है। यह बात, कफ, पित्त तीनों दोषों को शांत करके कई रोगों के उपचार में रामबाण का काम करती है। 



पतंजलि आयुर्वेद हरिद्धार के आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि मुलेठी के क्वाथ से नेत्रों को धोने से नेत्रों के रोग दूर होते हैं। मुलेठी की मूल चूर्ण में बरबर मात्रा में सौंफ का चूर्ण मिलाकर एक चम्मच प्रात: सायं खाने से आंखों की जलन मिटती है तथा नेत्र ज्योति बढ़ती है। मुलेठी को पानी में पीसकर उसमें रूई का फाहा भिगोकर नेत्रों पर बांधने से नेत्रों की लालिमा मिटती है। उन्होंने कहा कि मुलेठी कान और नाक के रोग में भी लाभकारी है। मुलेठी और द्राक्षा से पकाए हुए दूध को कान में डालने से कर्ण रोग में लाभ होता है। 3-3 ग्राम मुलेठी तथा शुंडी में छह छोटी इलायची तथा 25 ग्राम मिश्री मिलाकर, क्वाथ बनाकर 1-2 बूंद नाक में डालने से नासा रोगों का शमन होता है।



मुंह के छाले मुलेठी मूल के टुकड़े में शहद लगाकर चूसते रहने से लाभ होता है। मुलेठी को चूसने से खांसी और कंठ रोग भी दूर होता है। सूखी खांसी में कफ पैदा करने के लिए इसकी 1 चम्मच मात्रा को मधु के साथ दिन में 3 बार चटाना चाहिए। इसका 20-25 मिली क्वाथ प्रात: सायं पीने से श्वास नलिका साफ हो जाती है। मुलेठी को चूसने से हिचकी दूर होती है। आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि मुलेठी हृदय रोग में भी लाभकारी है। 3-5 ग्राम तथा कुटकी चूर्ण को मिलाकर 15-20 ग्राम मिश्री युक्त जल के साथ प्रतिदिन नियमित रूप से सेवन करने से हृदय रोगों में लाभ होता है। इसके सेवन से पेट के रोग में भी आराम मिलता है। मुलेठी का क्वाथ बनाकर 10-15 मिली मात्रा में पीने से उदरशूल मिटता है। त्वचा रोग भी यह लाभकारी है। पफोड़ों पर मुलेठी का लेप लगाने से वे जल्दी पककर फूट जाते हैं। मुलेठी और तिल को पीसकर उससे घृत मिलाकर घाव पर लेप करने से घाव भर जाता है।



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें