Breaking News
प्रीति जिंटा ने कहा आज की स्वीटू, कल की मीटू हो सकती है         ||           पुणे पुलिस ने कहा नक्सलियों के साथ दिग्विजय सिंह की कॉल का लिंक मिला         ||           प्रधानमंत्री टेरिसा मे ने ब्रेग्जिट पर बागियों को चेतावनी दी         ||           मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा अमृतसर ब्लास्ट के संदिग्ध की जानकारी देने वाले को 50 लाख का इनाम         ||           राजस्थान में बीजेपी ने सचिन पायलट के खिलाफ यूनुस खान को उतारा         ||           एचएस फुल्का अपने बयान से पलटे, कहा मेरी बातों का गलत मतलब निकाला गया         ||           प्रधानमंत्री मोदी आज कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन करेंगे         ||           एचएस फुल्‍का ने कहा अमृतसर धमाके में सेनाध्‍यक्ष का हाथ हो सकता है         ||           देश के शेयर बाज़ारो के शुरूआती कारोबार में तेजी का असर         ||           आज का दिन :         ||           भारत में बना प्राइवेट सैटेलाइट पहली बार लॉन्च होगा         ||           रवि शास्त्री ने कहा ऑस्ट्रेलिया में भारत को खलेगी हार्दिक पंड्या की कमी         ||           उत्तराखंड में बस खाई में गिरने से 12 यात्रियों की मौत         ||           गृहमंत्री राजनाथ ने अमृतसर हमले में पंजाब के मुख्यमंत्री से सख्त कदम उठाने को कहा         ||           अमृतसर में बम धमाका में तीन लोगो की मौत, 15 लोग घायल         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कांग्रेस ने लोगों की आंखों में धूल झोंका और झूठे वादे किए         ||           सेनापति अमित शाह पहुंचे रणभूमि छत्तीसगढ़         ||           बोली हरमनप्रीत ......         ||           इंग्लैंड क्रिकेट टीम ने श्रीलंका में बड़ा कारनामा किया         ||           मनोहर खट्टर ने रेप पर कहा पहले साथ घूमते हैं फिर अनबन होती है तो शिकायत दर्ज करवा देते हैं         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> मुलेठी हृदय रोग में भी गुणकारी है

मुलेठी हृदय रोग में भी गुणकारी है


admin ,Vniindia.com | Sunday May 13, 2018, 10:08:00 | Visits: 181







नई दिल्ली, 13 मई (वीएनआई)| स्वाद में मीठी मुलेठी कैल्शियम, ग्लिसराइजिक एसिड, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटीबायोटिक, प्रोटीन और वसा के गुणों से भरपूर होती है। इसका इस्तेमाल नेत्र रोग, मुख रोग, कंठ रोग, उदर रोग, सांस विकार, हृदय रोग, घाव के उपचार के लिए सदियों से किया जा रहा है। यह बात, कफ, पित्त तीनों दोषों को शांत करके कई रोगों के उपचार में रामबाण का काम करती है। 



पतंजलि आयुर्वेद हरिद्धार के आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि मुलेठी के क्वाथ से नेत्रों को धोने से नेत्रों के रोग दूर होते हैं। मुलेठी की मूल चूर्ण में बरबर मात्रा में सौंफ का चूर्ण मिलाकर एक चम्मच प्रात: सायं खाने से आंखों की जलन मिटती है तथा नेत्र ज्योति बढ़ती है। मुलेठी को पानी में पीसकर उसमें रूई का फाहा भिगोकर नेत्रों पर बांधने से नेत्रों की लालिमा मिटती है। उन्होंने कहा कि मुलेठी कान और नाक के रोग में भी लाभकारी है। मुलेठी और द्राक्षा से पकाए हुए दूध को कान में डालने से कर्ण रोग में लाभ होता है। 3-3 ग्राम मुलेठी तथा शुंडी में छह छोटी इलायची तथा 25 ग्राम मिश्री मिलाकर, क्वाथ बनाकर 1-2 बूंद नाक में डालने से नासा रोगों का शमन होता है।



मुंह के छाले मुलेठी मूल के टुकड़े में शहद लगाकर चूसते रहने से लाभ होता है। मुलेठी को चूसने से खांसी और कंठ रोग भी दूर होता है। सूखी खांसी में कफ पैदा करने के लिए इसकी 1 चम्मच मात्रा को मधु के साथ दिन में 3 बार चटाना चाहिए। इसका 20-25 मिली क्वाथ प्रात: सायं पीने से श्वास नलिका साफ हो जाती है। मुलेठी को चूसने से हिचकी दूर होती है। आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि मुलेठी हृदय रोग में भी लाभकारी है। 3-5 ग्राम तथा कुटकी चूर्ण को मिलाकर 15-20 ग्राम मिश्री युक्त जल के साथ प्रतिदिन नियमित रूप से सेवन करने से हृदय रोगों में लाभ होता है। इसके सेवन से पेट के रोग में भी आराम मिलता है। मुलेठी का क्वाथ बनाकर 10-15 मिली मात्रा में पीने से उदरशूल मिटता है। त्वचा रोग भी यह लाभकारी है। पफोड़ों पर मुलेठी का लेप लगाने से वे जल्दी पककर फूट जाते हैं। मुलेठी और तिल को पीसकर उससे घृत मिलाकर घाव पर लेप करने से घाव भर जाता है।



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें