Breaking News
भारत ने अंडर-19 विश्व कप में जिम्बाब्वे को 10 विकेट से हराया         ||           पाकिस्तानी गोलीबारी में जम्मू एवं कश्मीर में दो की मौत         ||           भारत-इजराइल : नई संभावनाओं का सफर         ||           बॉलीवुड हस्तियों का दिल नेतन्याहू ने जीता         ||           एलएफडब्ल्यू फिनाले की शो स्टॉपर बनेंगी करीना         ||           राजधानी दिल्ली में घना कोहरा, वायु गुणवत्ता अत्यधिक खराब स्तर पर         ||           प्रिंस हैरी और मेगन पहले अधिकारिक वेल्स दौरे पर         ||           शेयर बाजार के शुरुआती कारोबार में हल्की बढ़त असर         ||           यूरोप दौरे पर जाएंगे रेक्स टिलरसन         ||           टैक्सी चालकों की गोवा में एकदिनी हड़ताल         ||           अमोनिया गैस का टैंकर गोवा में पलटा, दो लोग अस्पताल में भर्ती         ||           अमेरिकी डॉलर में गिरावट का असर         ||           अमेरिकी शेयर बाजार गिरावट के साथ बंद         ||           जोकोविक आस्ट्रेलियन ओपन के तीसरे दौर में पहुंचे         ||           कांग्रेस ने कहा मोदी और सुषमा ने डोकलाम पर राष्ट्र को गुमराह किया         ||           राहुल गाँधी से अमरिंदर ने मुलाकात की         ||           योगी ने कहा मदरसों को बंद करना समस्या का हल नहीं         ||           आईसीसी के साल के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेट खिलाड़ी बने कोहली         ||           'पद्मावत' पर 3 राज्यों में लगा प्रतिबंध सर्वोच्च न्यायालय ने हटाया         ||           देश में निर्मित अग्नि-वी मिसाइल का सफल परीक्षण         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> देश भर मे मकर संक्रांति, पोंगल,बीहू, उत्तरायण की धूम - गंगासागर मे लगभग 20 लाख श्रद्धालुओ का स्नान

देश भर मे मकर संक्रांति, पोंगल,बीहू, उत्तरायण की धूम - गंगासागर मे लगभग 20 लाख श्रद्धालुओ का स्नान


admin ,Vniindia.com | Sunday January 14, 2018, 04:23:00 | Visits: 79







नई दिल्ली/कोलकाता, 14 जनवरी (वीएनआई) भारत सहित दुनिया के कुछ और देशो आज मकर संक्रांति का त्योहार पारंपरिक हर्ष और उल्लास से मनाया जा रहा है. भारत के अलग-अलग हिस्सों के अलावा नेपाल, भूटान और बांग्लादेश से करीब 20 लाख श्रद्धालु आज मकर संक्राति के मौके पर बंगाल की खाड़ी स्थित गंगा नदी के संगम में पुण्य स्नान के लिए एकत्रित हो चुके हैं. हर साल मकर संक्रांति के मौके पर श्रद्धालु मोक्ष की कामना में सागर-संगम में डुबकी लगाने पहुंचे हैं.इस के अलावा देश भर की नदियो पर भी श्रद्धालुओं ने सुबह से ही ढंड की परवाह नही करते हुए डुबकियॉ लगाई और स्नान के बाद पूजा अर्चना और दान दिया. 



आज असम मे बीहू और तमिलनाडु और दक्षिण भारत मे पोंगल का पर्व मनाया जा रहा हैं.हिन्दू मान्यता के मुताबिक साल की 12 संक्रांत‌ियों में मकर संक्रांत‌ि का सबसे महत्व ज्यादा है. इस द‌िन सूर्य मकर राश‌ि में आते हैं और इसके साथ देवताओं का द‌िन शुरु हो जाता है, जो देवशयनी एकादशी से सुप्त हो जाते हैं. मकर संक्रांति को तमिलनाडु में पोंगल, गुजरात में उत्तरायण, असम में बिहू और पश्चिम बंगाल में पौष संक्रांति के नाम से जाना जाता है.भारत के अलावा श्री लंका और थाईलेंड जैसे देशो मेभी यह त्यौहार मनाया जाता है. मकर संक्रांति से पहले शुरू होने वाला गंगासागर का मेला नौ जनवरी से चल रहा है, जो आज खत्म हो जाएगा. मोटे अनुमान के अनुसार  अभी तक करीब 20 लाख लोग यहां पर पहुंच चुके हैं.पिछले साल करीब 15 लाख श्रद्धालु गंगासागर आए थे. इस वर्ष यह आंकड़ा काफी ज्यादा है. 



इस प्रसिद्ध तीर्थस्थल पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. यहां पर राज्य सरकार ने करीब तीन हजार पुलिस कर्मियों की तैनाती की है और रविवार को पुण्य स्नान करने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा पर नजर रखने के लिए सात ड्रोन सेवा में लगाए हैं. असल में पहली बार राज्य सरकार ने गंगासागर मेले में निर्बाध संचार सुनिश्चित करने के लिए अपने अधिकारियों को सैटेलाइट फोन से लैस किया है. गंगासागर मेला की चर्चा हिन्दू धर्मग्रन्थों में मोक्षधाम के तौर पर की जाती है. यह मेला पश्चिम बंगाल में गंगा के सागर से मिलन के स्थान पर लगता है, इसलिए इस स्थान को गंगासागर कहा जाता है. इस मेले में मकर संक्रांति के मौके पर दुनिया भर से लाखों श्रद्धालु मोक्ष की कामना में सागर-संगम में डुबकी लगाते हैं. श्रद्धालुओ मे गंगा सागर की बहुत महत्ता है.गंगासागर के बारे में एक कहावत है कि, 'सब तीरथ बार-बार, गंगासागर एक बार' मतलब साफ है कि गंगासागर की तीर्थयात्रा को सैकड़ों तीर्थयात्राओं के बराबर माना जाता.



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें