Breaking News
उमा भारती ने कहा मायावती पर फिर होगा लखनऊ गेस्ट हाउस जैसा हमला         ||           डीएमके सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण के खिलाफ कोर्ट पहुंची         ||           राजधानी दिल्ली में ठंड का कहर जारी, 7 लोगों की मौत         ||           कन्नौज से चुनाव लड़ सकती हैं डिंपल यादव         ||           मायावती ने कहा मैं कांशीराम की शिष्या हूँ, उन्हीं की स्टाइल में दूंगी जवाब         ||           आज का दिन : सुचित्रा सेन         ||           श्रीनगर में पुलिस टीम पर ग्रेनेड अटैक में तीन पुलिसकर्मी घायल         ||           राम माधव ने कहा राष्ट्र विरोधी ताकतों से कानूनी प्रकिया के जरिए ही निपटना होगा         ||           एन. श्रीनिवासन ने कहा बीसीसीआई में गड़बड़ी         ||           राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद गंगा पूजन के लिए प्रयागराज पहुंचे         ||           शशि थरूर ने कहा मोदी को मिला फर्जी फिलिप कोटलर अवॉर्ड पीएमओ को लौटा देना चाहिए         ||           फिल्म निर्माता ने मंदिर में की आत्महत्या         ||           पेट्रोल-डीजल आज फिर महंगा हुआ         ||           माली में आतंकवादियों के हमले में 10 लोगों की मौत         ||           एनआईए ने पश्चिम यूपी और पंजाब समेत 7 ठिकानों पर छापेमारी की         ||           दिल्ली के खयाला इलाके में हिंसा में एक की मौत, दो घायल         ||           देश के शेयर बाज़ारो के शुरूआती कारोबार में तेजी का असर         ||           दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत में ठंड कहर जारी, कई ट्रेनें लेट         ||           भाजपा अध्यक्ष अमित शाह एम्स में भर्ती, स्वाइन फ्लू की शिकायत         ||           कोहली ने कहा भारत को टेस्ट की सुपरपावर बनते देखना चाहता हूं         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> हीट स्ट्रोक जानलेवा साबित हो सकता है

हीट स्ट्रोक जानलेवा साबित हो सकता है


admin ,Vniindia.com | Monday May 14, 2018, 11:09:00 | Visits: 191







मुरादाबाद (उप्र), 14 मई (वीएनआई)| बच्चे भीषण गर्मी में सबसे ज्यादा हीट स्ट्रोक की चपेट में आ रहे हैं। बच्चों को गर्मी से होने वाली इस बीमारी से कैसे बचाया जाए, इस बारे में चिकित्सा विशेषज्ञों ने कई उपाय सुझाए हैं। 



मुरादाबाद के चाइल्ड स्पेशलिस्ट डॉ. एम. इरशाद के मुताबिक, इंसान के शरीर में पानी की कमी से डिहाइड्रेशन होने की संभावना बढ़ जाती है। गर्मी में ज्यादा देर धूप में रहने से शरीर से अधिक मात्रा में पसीना निकलने के कारण पानी की कमी हो जाती है। इससे सर में दर्द, थकान, सुस्ती, भूख का कम होना बदन में ऐंठन, उल्टी होना, पेट मे दर्द, जलन, दस्त होना, चक्कर आना साथ ही मानसिक संतुलन बिगड़ने जैसे हालात पैदा हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि इंसान का शरीर 37 डिग्री तक तापमान सहन करने में सक्षम होता है। तापमान इससे ऊपर जाने पर शरीर में कई प्रकार की दिक्कत महसूस होने लगती है, शरीर से पानी खत्म होने लगता है खून गाढ़ा हो जाता है। डॉ.इरशाद ने कहा कि सावधानी न बरतने पर बच्चे बहुत जल्दी इन बीमारियों की गिरफ्त में आ जाते हैं। बच्चे बहुत नाजुक होते हैं, उन्हें गर्मी और धूप से होने वाली बीमारी से बचाने के लिए बहुत एहतियात बरतने की जरूरत होती है। इस गर्मी में जितना हो सके बच्चों को कोल्ड ड्रिंक से दूर रखें, शिकंजी का इस्तेमाल करें साथ ही गुड़ को दही में मिला कर खिलाएं। उन्होंने कहा कि गर्मी में फूड पॉइजनिंग होने की आशंका भी बढ़ जाती है। इसलिए कटा हुआ फल न खरीदें और न ही देर से रखा हुआ खाना खाएं, बाहर खुले में बिकने वाले तले हुए खाद्य पदार्थ का सेवन न करें। कोशिश करें कि गर्मी में तरल पदार्थ का सेवन अधिक करें। बाजार में खुले रूप से बिकने वाले जूस का सेवन भी घातक हो सकता है, उससे बचें। जरूरत पड़ने पर चिकित्सक से सलाह लें। 



मुरादाबाद के ही चाइल्ड स्पेशलिस्ट डॉ. तारिक अली ने कहा कि घर से बाहर निकलते समय ढीले कपड़े पहनें, चुस्त कपड़े पहनने से परहेज करें, ताकि शरीर में बाहर की हवा लगती रहे। सूती कपड़े पहनना ज्यादा बेहतर होगा, जबकि सिंथेटिक, पोलिस्टर कपड़े पहनने से बचें। उन्होंने कहा कि घर से बाहर निकलते समय खाली पेट न जाएं, अधिक देर भूखे रहने से बचें। घर से बाहर निकलते समय शिकंजी, ठंडा शर्बत या पानी पी कर निकलें साथ ही पानी की बोतल लेकर चलें। बहुत अधिक पसीना आने पर तुरंत ठंडा पानी न पीएं, जबकि सादा पानी धीरे-धीरे कर के पीना शुरू करें, लस्सी का सेवन अधिक करें। डॉ. अली ने कहा कि इस भीषण गर्मी में बच्चों को स्कूल से लाने या ले जाने के समय तौलिया को पानी मे भीगोकर उससे ढककर ले जाएं, जिससे बच्चे का बदन ठंडा रह सके, छाते का इस्तेमाल भी बेहतर रहेगा। उन्होंने सलाह दी कि बच्चे को ऐसा कपड़ा पहनाएं, जिससे उसका शरीर पूरी तरह से ढका हुआ हो। गहरे रंग के कपड़े बच्चों को न पहनाएं। हो सके तो हल्के रंग या सफेद कपड़े ही पहनाएं। बच्चों के पेशाब का रंग चेक करते रहें, पेशाब पीला होने की दशा में ये सुनिश्चित कर लें कि बच्चे को पानी की कमी हो रही है। उसे भरपूर पानी पिलाएं और जरूरी होने पर चिकित्सक से सलाह लें। 



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें