Breaking News
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा किसानों की आय बढ़ रही         ||           रेखा 20 साल बाद आईफा 2018 में लाइव परफॉर्म करेंगी         ||           दिनेश चंडीमल पर बॉल टेम्परिंग मामले में एक मैच का प्रतिबंध         ||           छत्तीसगढ़ के अतिरिक्त मुख्य सचिव का जम्मू एवं कश्मीर तबादला         ||           रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने शहीद औरंगजेब के परिवार से मुलाकात की         ||           नेपाल और चीन ने 2.24 अरब डॉलर के 8 समझौते किए         ||           दुनिया का सर्वश्रेष्ठ रेस्तरां इटली का ओस्टेरिया फ्रांसेस्काना         ||           जम्मू एवं कश्मीर में राज्यपाल शासन लागू         ||           फिल्म 'पानीपत' की शूटिंग नवंबर में शुरू होगी         ||           सऊदी अरब फीफा विश्व कप में मजबूत डिफेंस के साथ आज उरुग्वे से भिड़ेगी         ||           मोरक्को फीफा विश्व कप में मजबूत पुर्तगाल से जीत छीनने उतरेगा         ||           इंग्लैंड का नॉटिंघम वनडे में रिकार्ड स्कोर, आस्ट्रेलिया का सबसे बड़ी हार         ||           राजधानी दिल्ली में धूपभरी सुबह         ||           शेयर बाजार हरे निशान पर खुले         ||           तेल की कीमतों में ओपेक की बैठक से पहले गिरावट         ||           लंदन ट्यूब ट्रेन स्टेशन पर विस्फोट में 5 लोग घायल         ||           यूएनएचआरसी से अमेरिका अलग हुआ, गुटेरेस ने निंदा की         ||           जम्मू एवं कश्मीर मुठभेड़ में तीन आतंकवादी ढेर         ||           फीफा विश्व कप 2018 : आज सातवें दिन के होने वाले मैच         ||           सेनेगल ने फीफा विश्व कप में पोलैंड को 2-1 से दी मात         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> गोयल ने कहा हमने कोयले की बेहतर गुणवत्ता सुनिश्चित की

गोयल ने कहा हमने कोयले की बेहतर गुणवत्ता सुनिश्चित की


admin ,Vniindia.com | Monday June 11, 2018, 05:56:00 | Visits: 30







नई दिल्ली, 11 जून (वीएनआई)| कोयला मंत्री पीयूष गोयल ने आज कहा कि केंद्र सरकार ने ग्राहकों के लिए उच्च गुणवत्ता के कोयले की आपूर्ति के साथ ही बिजली की लागत को कम करने पर ध्यान केंद्रित किया है। 



गोयल ने मोदी सरकार की उपलब्धियों की चर्चा करते हुए कहा कि वाणिज्यिक खनन की अनुमति सहित कोयला क्षेत्र में किए गए ऐतिहासिक सुधारों से देश की ऊर्जा क्षमता और ईंधन दक्षता में वृद्धि हुई है। मंत्री ने कहा कि इस समय कोयले के उत्पादन में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है, गुणवत्ता सुधार के प्रयासों से देश में प्रति यूनिट बिजली के निर्माण में कोयले की मात्रा घटी है। उन्होंने कहा, मंत्रालय ने तीसरे पक्ष द्वारा नमूना प्रक्रियाओं को अमल में लाकर कोयले की गुणवत्ता सुनिश्चित की है। कोयले की निगरानी प्रक्रिया में पारदर्शिता और दक्षता सुनिश्चित करने के लिए उत्तम एप लांच किया गया है। उन्होंने कहा, कोयला नियंत्रक द्वारा कोल इंडिया और सिंगारेनी कोलियरी की सभी खदानों का पुनर्मूल्यांकन किया गया है।



उन्होंने मीडिया से कहा, कम लागत और उच्चतर गुणवत्ता के माध्यम से बिजली की कीमत कम करने पर ध्यान दिया जा रहा है..और पिछले चार सालों में एक यूनिट बिजली के उत्पादन में खपत होनेवाले कोयले की मात्रा में 8 फीसदी की कमी की गई है। मंत्री ने यह भी कहा कि सरकारी खनन कंपनी कोल इंडिया ने पिछले चार सालों में 10.5 करोड़ टन का उत्पादन बढ़ाया है, जबकि वित्त वर्ष 2013-14 से पहले इतना उत्पादन बढ़ाने में सात साल लगे थे।  वित्त वर्ष 2013-14 में कोल इंडिया ने 46.2 करोड़ टन कोयले का उत्पादन किया था, जबकि पिछले वित्त वर्ष (2017-18) में यह बढ़कर 56.7 करोड़ टन हो गया। उन्होंने दोहराया कि वाणिज्यिक कोयला खनन इस क्षेत्र का 'सबसे महत्वाकांक्षी' सुधार है।



गोयल ने कहा कि करीब 89 कोयला खदानों की नीलामी की गई है और कोयला खदानों से मिला सारा राजस्व राज्यों को आवंटित किया गया है। बिजली संयंत्रों के लिए 'कोयले की कमी' के मुद्दे पर उन्होंने कहा, "जाहिर है कि कोयले के उत्पादन के लिए भूमि अधिग्रहण की आवश्यकता होती है, जरूरी मशीनें लगानी पड़ती है और इसका एक समूचा चक्र होता है। पिछले 8-9 महीनों में मांग तेजी से बढ़ी है, और तथाकथित (कोयले की) कमी की भावना आई है। कोयला और रेलवे मंत्रालय साथ मिलकर यह सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं कि किसी भी वक्त किसी को भी कोयले की उपलब्धता की कमी के कारण बिजली पैदा करने में परेशानी ना हो। सरकारी खनन कंपनी ने हाल में ही कहा था कि बिजली क्षेत्र के लिए कोयले की आपूर्ति चालू वित्त वर्ष के अप्रैल-मई अवधि में 15 फीसदी बढ़ेगी। 



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें