Breaking News
अमित शाह ने कहा मोदी देश के सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री         ||           रोहिंग्या मामले मे भारत की भूमिका         ||           देवेंद्र फडणवीस ने ऑडियो क्लिप में अपनी आवाज स्वीकारी         ||           जेटली ने कहा राजग सरकार ने बदली देश की दशा-दिशा         ||           मायावती और अखिलेश ने मोदी सरकार बुरी तरह विफल बताया         ||           राहुल गाँधी ने कहा भाजपा सरकार कई मोर्चो पर विफल         ||           तेजस्वी यादव ने कहा 4 साल मोदी सरकार, सस्ता विकास महंगा प्रचार         ||           जादू संगीत का         ||           बल्लेबाजों ने लंदन टेस्ट में पाकिस्तान को मजबूत स्थिति में पहुंचाया         ||           मिथारवाल आईएसएसएफ विश्व कप के फाइनल में सातवें पायदान पर रहे         ||           फिल्म 'परमाणु..' ने पहले दिन 4.82 करोड़ रुपये की कमाई की         ||           अमित शाह ने कहा भाजपा ने तुष्टिकरण की राजनीति को विकास की राजनीति से बदला         ||           संयुक्त राष्ट्र अर्थशास्त्री ने कहा भारत संभावित व्यापार तनाव से निपटने की बेहतर स्थिति में         ||           आज का दिन         ||           पुतिन ने कहा रूस, चीन भागीदारी सर्वश्रेष्ठ स्तर पर         ||           पेले फीफा विश्व कप के लिए रूस जाएंगे         ||           दीपिका पादुकोण का नया जुनून दौड़ना         ||           शिल्पा शेट्टी ने बेटे के जन्मदिन पर आयोजित की शुगर-फ्री पार्टी         ||           राजधानी दिल्ली में लू का कहर जारी रहने की संभावना         ||           मोदी ने सरकार के 4 साल पूरा होने पर कहा, 'भारत सबसे पहले'         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> नार्वे के खोजकर्ता फ्रिटजॉफ को गूगल ने डूडल के जरिए दी श्रद्धांजलि

नार्वे के खोजकर्ता फ्रिटजॉफ को गूगल ने डूडल के जरिए दी श्रद्धांजलि


admin ,Vniindia.com | Tuesday October 10, 2017, 12:48:00 | Visits: 225







नई दिल्ली, 10 अक्टूबर (वीएनआई)| नार्वे के दिग्गज खोजकर्ता फ्रिटजॉफ नानसेन की जयंती पर गूगल ने आज उन्हें डूडल बनाकर श्रद्धांजलि दी।  नार्वे के ओस्लो में 1861 में जन्मे नानसेन 1888 में बर्फ से ढके ग्रीनलैंड पहुंचने वाले अभियान का नेतृत्व करने वाले पहले व्यक्ति बने। इसके कुछ साल बाद ही नानसेन ने उत्तरी ध्रुव तक पहुंचने वाले पहले व्यक्ति बनने का प्रयास भी किया। 



गूगल ने कहा, हालांकि, वह अभियान असफल रहा था, लेकिन वह उस समय के किसी अन्य खोजकर्ता के मुकाबले उत्तर के अक्षांश में कहीं ज्यादा आगे तक गए थे। वर्ष 1914 में प्रथम विश्व युद्ध छिड़ने पर नानसेन ने घर पर शोध कार्य करने पर ध्यान केंद्रित किया।  साल 1920 तक उनका ध्यान अंतर्राष्ट्रीय भूभागों को समझने से हटकर अंतर्राष्ट्रीय राजनीतिक माहौल को प्रभावति करने की ओर आकर्षित हो गया। उन्होंने 'नानसेन' पासपोर्ट बनाया, जो एक ऐसा यात्रा दस्तावेज था जो शरणार्थियों को दूसरे देशों में आश्रय लेने और बसने की अनुमति देता था। नानसेन को 1922 में नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया।  नानसेन का 13 मई 1930 को निधन हो गया। 



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें