Breaking News
ईशा गुप्ता ईरानी फिल्म पर काम कर रही हैं         ||           सेंसेक्स 342 अंकों की तेजी पर बंद         ||           दिल्ली उच्च न्यायालय पहुंचे आप के अयोग्य विधायक         ||           भारत जोहानसबर्ग टेस्ट में सम्मान की लड़ाई लड़ने उतरेगा         ||           रैना ने कहा भारतीय टीम में जल्द वापसी की उम्मीद         ||           2019 में शिवसेना अकेले चुनाव लड़ेगी         ||           आस्ट्रेलिया अंडर-19 विश्व कप के सेमीफाइनल में         ||           बाबोस-बोपन्ना की जोड़ी आस्ट्रेलियन ओपन के क्वार्टर फाइनल में         ||           जद (यू) का लालू के काव्यात्मक ट्वीट पर शायराना अंदाज में पलटवार         ||           राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजलि दी         ||           आज का दिन :         ||           भारत, पाकिस्तान सीमा स्थिति पर गुटेरेस की नजर         ||           Anupma's Dining Table : Orange Almond Pudding         ||           Students find 'Study of NON-VIOLENCE & JAINISM', an enlightening experience         ||           भारत की इजरायल-फिलिस्तीन कूटनीति         ||           चीन में रिलीज होगी 'बजरंगी भाईजान'         ||           जापान में ज्वालामुखी भड़कने के बाद हिमस्खलन से 15 घायल         ||           राजधानी दिल्ली में बदली छाई, बारिश की संभावना         ||           कनाडा के प्रधानमंत्री त्रुदो अगले माह भारत में-रिश्ते और मजबूत होंगे         ||           उप्र में तेज धूप और तापमान में इजाफा         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> कथक साम्राज्ञी सितारा देवी के सम्मान में गूगल ने बनाया डूडल

कथक साम्राज्ञी सितारा देवी के सम्मान में गूगल ने बनाया डूडल


admin ,Vniindia.com | Wednesday November 08, 2017, 11:23:00 | Visits: 114







नई दिल्ली, 8 नवंबर (वीएनआई)| दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल ने आज 'नृत्य साम्राज्ञी' सितारा देवी की 97वीं जयंती के मौके पर उनके सम्मान में डूडल बनाया। 



डूडल में कथक नृत्यांगना गुलाबी रंग के परिधान में नृत्य की मुद्रा में नजर आ रही हैं। उनकी तस्वीर और उसके आसपास वाद्य यंत्र - घुंघरू, तबला और सितार मिलकर 'गूगल' शब्द को पूरा कर रहे हैं। विख्यात शास्त्रीय नृत्यांगना का जन्म 1920 में कोलकाता (उस समय कलकत्ता) में रहने वाले बनारस के एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनके पिता सुखदेव महाराज एक स्कूल शिक्षक थे लेकिन वह कथक भी करते थे। सितारा देवी ने 10 साल की उम्र से अकेले प्रस्तुति देना शुरू कर दिया था। 



जब उनका परिवार बंबई (अब मुंबई) में स्थानांतरितहुआ, तो उन्होंने आतिया बेगम पैलेस में कथक की प्रस्तुति दी, जो केवल चुनिंदा दर्शकों के लिए ही था। इस कार्यक्रम में नोबेल पुरस्कार विजेता रवींद्रनाथ टैगोर, स्वतंत्रता सेनानी सरोजिनी नायडू और पारसी परोपकारी सर कोवासजी जहांगीर शामिल थे। केवल 16 की उम्र में सितारा देवी ने अपनी प्रस्तुति से दर्शकों का दिल जीत लिया था। वहां बैठे टैगोर ने उनकी प्रस्तुति से प्रभावित होकर उन्हें 'नृत्य साम्राज्ञी' की उपाधि दे दी।

 सितारा देवी ने लंदन के रॉयल अल्बर्ट हॉल और न्यूयॉर्क के कार्नेगी हॉल जैसे अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर कथक प्रस्तुति दी।



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें