Breaking News
वित्तमंत्री जेटली कश्मीर में शांति बहाली के लिए सरकार कदम उठा रही         ||           नितिन पटेल ने कहा मूर्खो के फार्मूले को मूर्खो ने स्वीकारा         ||           सेंसेक्स 83 अंकों की तेजी पर बंद         ||           सोनम कपूर ने कहा मैं अहमियत रखने वाली चीजों पर ध्यान देती हूं         ||           सर्वोच्च न्यायालय ने कहा जेपी एसोसिएट्स 275 करोड़ रुपये जमा करे         ||           मुकुल संगमा ने कहा मेघालय के राजस्व संग्रह के आकलन में जीएसटी सक्षम नहीं         ||           दुनिया भर में शेयरइट के 1.2 अरब यूजर्स         ||           भारतीय बास्केट में कच्चे तेल की कीमत 60.95 डॉलर प्रति बैरल         ||           पीवी सिंधु हांगकांग ओपन के दूसरे दौर में पहुंची         ||           साइना नेहवाल हांगकांग ओपन के दूसरे दौर में, कश्यप और सौरभ बाहर         ||           शत्रुघ्न ने 'पद्मावती' पर मोदी, अमिताभ की चुप्पी पर उठाया सवाल         ||           योगी ने कहा संपूर्ण विकास के लिए निकायों में भी भाजपा की सरकार जरूरी         ||           हार्दिक ने कहा पाटीदार आरक्षण पर कांग्रेस का फार्मूला स्वीकार है         ||           आज का दिन :         ||           कश्मीर में तापमान शून्य से नीचे, लेह सबसे ठंडा         ||           राजधानी दिल्ली में सुबह कोहरा छाया         ||           अमेजन क्षेत्र में हत्याओं की ग्रीनपीस ने निंदा की         ||           मजीद मजीदी ने कहा भारत के पास प्रतिभा, लेकिन उनके पास मौके नहीं         ||           उप्र निकाय चुनाव में पहले चरण का मतदान जारी, योगी ने डाला वोट         ||           उप्र में तेज हवाओं ने बढ़ाई ठंड         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> टाइप-2 डायबिटीज से पीड़ित बुजुर्गो को फ्रैक्चर का जोखिम ज्यादा

टाइप-2 डायबिटीज से पीड़ित बुजुर्गो को फ्रैक्चर का जोखिम ज्यादा


admin ,Vniindia.com | Friday September 22, 2017, 11:15:19 | Visits: 76







नई दिल्ली, 22 सितंबर (वीएनआई/आईएएनएस)| एक अध्ययन से पता चला है कि टाइप-2 डायबिटीज वाले उम्रदराज लोगांे और बुजुर्गो की कॉर्टिकल हड्डी कमजोर हो जाती है, जिससे उन्हें फ्रैक्चर होने का खतरा बढ़ जाता है। हड्डी की घनी बाहरी परत को कॉर्टिकल कहते हैं, जो अंदरूनी भाग की रक्षा करती है। टाइप-2 डायबिटीज से वृद्धों की इस हड्डी की बनावट बदल सकती है और फ्रैक्चर का जोखिम पैदा हो सकता है। 



इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने कहा कि टाइप-2 डायबिटीज एक गंभीर पब्लिक हैल्थ समस्या है। बुजुर्गो की आबादी बढ़ने के साथ साथ यह समस्या भी बढते जाने की संभावना है। मधुमेह वाले अधिकांश लोग टाइप-2 डायबिटीज वाले हैं। इसके रोगियों में इंसुलिन तो बनता है, लेकिन कोशिकाएं इसका इस्तेमाल नहीं कर पाती हैं। इसी को इंसुलिन प्रतिरोध कहा जाता है।  आईएमए के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, "टाइप-2 डायबिटीज आमतौर पर खाने-पीने की खराब आदतों, मोटापे और शारीरिक कसरत न करने की वजह से उत्पन्न होती है। चूंकि शरीर ग्लूकोज को कोशिकाओं तक पहुंचाने में इंसुलिन का प्रभावी ढंग से उपयोग नहीं कर पाता, इसलिए यह ऊतकों, मांसपेशियों और अंगों में वैकल्पिक ऊर्जा स्रोतों पर निर्भर करता है। यह एक चेन रिएक्शन की तरह होती है और कई लक्षणों के साथ बढ़ती जाती है।"



डॉ. अग्रवाल ने कहा, "टाइप-2 डायबिटीज समय के साथ धीरे-धीरे विकसित होती जाती है और शुरुआत में इसके लक्षण बहुत हल्के फुल्के होते हैं। जीवनशैली के मुद्दों के अलावा, ऐसे अन्य कारक भी हैं जो इस विकार के विकास में योगदान कर सकते हैं। कुछ लोगों के लीवर में बहुत अधिक ग्लूकोज पैदा होता है। कुछ लोगों में टाइप-2 डायबिटीज की आनुवांशिक स्थिति भी हो सकती है। मोटापा इंसुलिन प्रतिरोध के खतरे को बढ़ाता है। उन्होंने कहा कि टाइप-2 डायबिटीज के शुरुआती लक्षणों में प्रमुख हैं- लगातार भूख लगते रहना, ऊर्जा की कमी, थकान, वजन घटना, अत्यधिक प्यास लगना, बार बार मूत्र करना, मुंह सूख जाना, त्वचा में खुजली और दृष्टि धुंधलाना। चीनी के स्तर में वृद्धि से यीस्ट का संक्रमण हो सकता है, घाव भरने में ज्यादा समय लगता है, त्वचा पर काले पैच पड़ जाते हैं, पैर में तकलीफ और हाथों में सुन्नपन पैदा हो सकती है।



डॉ. अग्रवाल ने कहा, "पत्तेदार सब्जियां, ताजे फल, साबुत अनाज, मछली और बादाम जैसे नट्स के साथ स्वस्थ आहार लेने से, टाइप-2 डायबिटीज के मरीज में जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है। सस्ते, कैलोरी से भरे, कम पोषक तत्वों वाले भोजन की अधिकता से टाइप-2 डायबिटीज की दुनिया भर में बढ़त जारी है। सब्जियां, ताजे फल, साबुत अनाज और असंतृप्त वसा से इस रोग का खतरा कम होता है, इसलिए जरूरत इस बात की है कि इन चीजों को किफायती दरों पर आसानी से अधिकाधिक उपलब्ध कराया जाए।"



टाइप-2 डायबिटीज के प्रबंधन में मदद कर के कुछ टिप्स :



* अपने आहार में फाइबर और स्वस्थ कार्बोहाइड्रेट से युक्त खाद्य पदार्थो को शामिल करें। फल, सब्जियां और साबुत अनाज खाने से रक्त शर्करा का स्तर स्थिर रहने में मदद मिलेगी।



* नियमित अंतराल पर खाएं और भूख लगने पर ही खाएं। 



* अपना वजन नियंत्रित रखें और अपना दिल स्वस्थ रखें। इसका मतलब है कि रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट, मिठाई और एनीमल फैट कम से कम खाएं। 



* अपने दिल को स्वस्थ बनाए रखने में मदद के लिए रोजाना आधा घंटा तक एरोबिक व्यायाम करें। व्यायाम भी रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में मदद करता है।



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें