Breaking News
संगीतकार गायक पंकज मालिक की पुण्य तिथि पर         ||           हार्दिक पटेल ने कहा देश तोड़ने की राजनीति करने वालों से राष्ट्रभक्ति का सार्टिफिकेट नहीं चाहिए         ||           करण जौहर की 'रणभूमि' 2020 में दिवाली पर होगी रिलीज         ||           रोजर फेडरर एटीपी रैंकिंग में नडाल को पछाड़कर शीर्ष पर पहुंचे         ||           रीता जोशी ने कहा उप्र की नई पर्यटन नीति से लोगों को मिलेगा रोजगार         ||           ड्युम्नी ने कहा साझेदारी की कमी से हारे         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने कहा भारत प्रौद्योगिकी का फायदा उठाने की बेहतर स्थिति में         ||           सेंसेक्स 236 अंकों की गिरावट पर बंद         ||           मालदीव के राष्ट्रपति ने आपातकाल के विस्तार के लिए कहा         ||           मप्र में भाजपा के राज्यमंत्री छेड़छाड़ मामले में फंसे, पार्टी ने किया निलंबित         ||           गुंडप्पा विश्वनाथ ने कहा कोहली तोड़ सकते हैं सारे रिकॉर्ड         ||           एक खुबसूरत द्वीप सिर्फ महिलाओ के लिये, लेकिन कीमत भी है भारी भरकम !         ||           वेंकैया नायडू ने कहा विभिन्न जाति, संप्रदाय, धर्म, लिंग के बावजूद, भारत एक है         ||           आज का दिन :         ||           जेडीयू ने कहा भ्रष्टाचार की विरासत संभालने के लिए 'दंडवत' हो रहे तेजस्वी         ||           भाजपा ने गोरखपुर से उपेंद्र शुक्ल, फूलपुर से कौशलेंद्र पटेल को उम्मीदवार बनाया         ||           पाकिस्तानी विदेश मंत्री ख्वाजा रूस दौरे पर जाएंगे         ||           कतर ओपन जीतीं क्वितोवा, शीर्ष-10 में होगी वापसी         ||           हार्दिक पटेल मप्र में भाजपा के लिए मुसीबत बनेंगे         ||           मलेशिया में केबल कारों में फंसे 89 पर्यटकों को सकुशल निकाला गया         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> टाइप-2 डायबिटीज से पीड़ित बुजुर्गो को फ्रैक्चर का जोखिम ज्यादा

टाइप-2 डायबिटीज से पीड़ित बुजुर्गो को फ्रैक्चर का जोखिम ज्यादा


admin ,Vniindia.com | Friday September 22, 2017, 11:15:19 | Visits: 140







नई दिल्ली, 22 सितंबर (वीएनआई/आईएएनएस)| एक अध्ययन से पता चला है कि टाइप-2 डायबिटीज वाले उम्रदराज लोगांे और बुजुर्गो की कॉर्टिकल हड्डी कमजोर हो जाती है, जिससे उन्हें फ्रैक्चर होने का खतरा बढ़ जाता है। हड्डी की घनी बाहरी परत को कॉर्टिकल कहते हैं, जो अंदरूनी भाग की रक्षा करती है। टाइप-2 डायबिटीज से वृद्धों की इस हड्डी की बनावट बदल सकती है और फ्रैक्चर का जोखिम पैदा हो सकता है। 



इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने कहा कि टाइप-2 डायबिटीज एक गंभीर पब्लिक हैल्थ समस्या है। बुजुर्गो की आबादी बढ़ने के साथ साथ यह समस्या भी बढते जाने की संभावना है। मधुमेह वाले अधिकांश लोग टाइप-2 डायबिटीज वाले हैं। इसके रोगियों में इंसुलिन तो बनता है, लेकिन कोशिकाएं इसका इस्तेमाल नहीं कर पाती हैं। इसी को इंसुलिन प्रतिरोध कहा जाता है।  आईएमए के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, "टाइप-2 डायबिटीज आमतौर पर खाने-पीने की खराब आदतों, मोटापे और शारीरिक कसरत न करने की वजह से उत्पन्न होती है। चूंकि शरीर ग्लूकोज को कोशिकाओं तक पहुंचाने में इंसुलिन का प्रभावी ढंग से उपयोग नहीं कर पाता, इसलिए यह ऊतकों, मांसपेशियों और अंगों में वैकल्पिक ऊर्जा स्रोतों पर निर्भर करता है। यह एक चेन रिएक्शन की तरह होती है और कई लक्षणों के साथ बढ़ती जाती है।"



डॉ. अग्रवाल ने कहा, "टाइप-2 डायबिटीज समय के साथ धीरे-धीरे विकसित होती जाती है और शुरुआत में इसके लक्षण बहुत हल्के फुल्के होते हैं। जीवनशैली के मुद्दों के अलावा, ऐसे अन्य कारक भी हैं जो इस विकार के विकास में योगदान कर सकते हैं। कुछ लोगों के लीवर में बहुत अधिक ग्लूकोज पैदा होता है। कुछ लोगों में टाइप-2 डायबिटीज की आनुवांशिक स्थिति भी हो सकती है। मोटापा इंसुलिन प्रतिरोध के खतरे को बढ़ाता है। उन्होंने कहा कि टाइप-2 डायबिटीज के शुरुआती लक्षणों में प्रमुख हैं- लगातार भूख लगते रहना, ऊर्जा की कमी, थकान, वजन घटना, अत्यधिक प्यास लगना, बार बार मूत्र करना, मुंह सूख जाना, त्वचा में खुजली और दृष्टि धुंधलाना। चीनी के स्तर में वृद्धि से यीस्ट का संक्रमण हो सकता है, घाव भरने में ज्यादा समय लगता है, त्वचा पर काले पैच पड़ जाते हैं, पैर में तकलीफ और हाथों में सुन्नपन पैदा हो सकती है।



डॉ. अग्रवाल ने कहा, "पत्तेदार सब्जियां, ताजे फल, साबुत अनाज, मछली और बादाम जैसे नट्स के साथ स्वस्थ आहार लेने से, टाइप-2 डायबिटीज के मरीज में जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है। सस्ते, कैलोरी से भरे, कम पोषक तत्वों वाले भोजन की अधिकता से टाइप-2 डायबिटीज की दुनिया भर में बढ़त जारी है। सब्जियां, ताजे फल, साबुत अनाज और असंतृप्त वसा से इस रोग का खतरा कम होता है, इसलिए जरूरत इस बात की है कि इन चीजों को किफायती दरों पर आसानी से अधिकाधिक उपलब्ध कराया जाए।"



टाइप-2 डायबिटीज के प्रबंधन में मदद कर के कुछ टिप्स :



* अपने आहार में फाइबर और स्वस्थ कार्बोहाइड्रेट से युक्त खाद्य पदार्थो को शामिल करें। फल, सब्जियां और साबुत अनाज खाने से रक्त शर्करा का स्तर स्थिर रहने में मदद मिलेगी।



* नियमित अंतराल पर खाएं और भूख लगने पर ही खाएं। 



* अपना वजन नियंत्रित रखें और अपना दिल स्वस्थ रखें। इसका मतलब है कि रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट, मिठाई और एनीमल फैट कम से कम खाएं। 



* अपने दिल को स्वस्थ बनाए रखने में मदद के लिए रोजाना आधा घंटा तक एरोबिक व्यायाम करें। व्यायाम भी रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में मदद करता है।



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें