Breaking News
अभिनेता श्याम के जन्मदिन पर         ||           मोरक्को के साथ रेल सहयोग समझौते को केंद्रीय मंत्रिमंडल की मंजूरी         ||           आज का दिन :         ||           राशिद की बदौलत अफगानिस्तान ने 4-1 से जीती सीरीज         ||           अग्नि 2 मिसाइल का भारत ने परीक्षण किया         ||           सीबीआई की पीएनबी घोटाले में पूछताछ जारी         ||           जम्मू एवं कश्मीर में हल्के भूकंप के झटके         ||           तेजस्वी ने नीतीश की जापान यात्रा पर कसा तंज         ||           आप और भाजपा में दिल्ली के मुख्य सचिव के साथ 'बदसलूकी' पर तकरार         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने अरुणाचल, मिजोरम को स्थापना दिवस की बधाई दी         ||           भारतीय हॉकी टीम की सुल्तान अजलान शाह कप के लिए घोषणा         ||           ऋचा चड्ढा ने कहा मैं फिल्म की क्षमता के आधार पर ही हामी भरती हूं         ||           हरदीप पुरी ने कहा स्मार्ट सिटीज योजना देश के शहरों में बदलाव की शुरुआत         ||           बाहुबली महामस्तकाभिषेक के प्रथम कलश की अलौकिक अनुभूति और जन कल्याण...         ||           शीर्ष न्यायालय पीएनबी घोटाले में बैंक उच्च अधिकारियों की भूमिका पर करेगा सुनवाई         ||           सीबीआई की रोटोमैक मामले में छापेमारी जारी         ||           पेरू के पूर्व राष्ट्रपति पर फिर चलेगा मुकदमा         ||           राजधानी दिल्ली में सुबह हल्का कोहरा छाया         ||           शेयर बाजार हरे निशान पर खुले         ||           मिस्र को इजरायल का गैस निर्यात के लिए करार         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> वसायुक्त यकृत से लंबे समय में यकृत कैंसर का डर

वसायुक्त यकृत से लंबे समय में यकृत कैंसर का डर


admin ,Vniindia.com | Thursday August 17, 2017, 11:17:57 | Visits: 170







नई दिल्ली, 17 अगस्त (वीएनआई/आईएएनएस)| इंडियन मेडिकल एसोसिएशन का कहना है कि वसायुक्त यकृत से पीड़ित लोगों की संख्या में खतरनाक रूप में वृद्धि हो रही है। यदि ठीक से इलाज न हो तो वसायुक्त यकृत से लंबे समय में यकृत कैंसर भी हो सकता है। 



उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक, भारत में हर पांच में से एक व्यक्ति के जिगर या यकृत में अधिक वसा मौजूद होती है और हर 10 में से एक व्यक्ति में फैटी लिवर रोग होता है। यह चिंता का एक कारण है, क्योंकि ठीक से जांच और इलाज न हो तो वसायुक्त यकृत से यकृत को क्षति पहुंच सकती है और यकृत कैंसर भी हो सकता है। आईएमए के अनुसार, गैर-एल्कोहल फैटी लिवर रोग (एनएएफएलडी) वाले 20 प्रतिशत लोगों में 20 वर्षो के अंदर लिवर सिरोसिस होने का खतरा रहता है। यह आंकड़ा शराबियों के समान है। आईएमए के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, "एनएएफएलडी सिरोसिस और कभी-कभी तो क्रिप्टोजेनिक सिरोसिस की भी वजह बन सकता है। अधिक वजन वाले लोगों में प्रतिदिन दो ड्रिंक और मोटे लोगों में प्रतिदिन एक ड्रिंक लेने से हिपेटिक इंजरी हो सकती है। एनएफएलडी के चलते सिरोसिस के कारण लिवर कैंसर हो जाता है और ऐसी कंडीशन में अक्सर हृदय रोग से मौत हो जाती है।



डॉ. अग्रवाल ने कहा, "एनएफएफडीएल अल्कोहल की वजह से तो नहीं होता, लेकिन इसकी खपत अधिक होने पर स्थिति जरूर खराब हो सकती है। प्रारंभिक अवस्था में यह रोग खत्म हो सकता है या वापस भी लौट सकता है। एक बार सिरोसिस बढ़ जाए तो लिवर ठीक से काम नहीं कर पाता है। ऐसा होने पर, फ्लुइड रिटेंशन, मांसपेशियों में नुकसान, आंतरिक रक्तस्राव, पीलिया और लिवर की विफलता जैसे लक्षण पैदा हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि एनएएफएलडी के लक्षणों में प्रमुख हैं- थकान, वजन घटना या भूख की कमी, कमजोरी, मितली, सोचने में परेशानी, दर्द, जिगर का बढ़ जाना और गले या बगल में काले रंग के धब्बे। आईएमए अध्यक्ष ने बताया, "एनएएफएलडी का अक्सर तब पता चल पाता है जब लिवर की कार्य प्रणाली ठीक न पाई जाए, हेपेटाइटिस न होने की पुष्टि हो जाए। हालांकि, लिवर ब्लड टैस्ट सामान्य होने पर भी एनएएफएलडी मौजूद हो सकता है। किसी भी बीमारी को और अधिक गंभीर स्तर तक आगे बढ़ने से रोकने के लिए कुछ हद तक जीवनशैली में परिवर्तन करने की जरूरत होती है। यहां कुछ सरल जीवनशैली परिवर्तन सुझाए जा रहे हैं जो इस स्थिति से बचाव में कारगर हो सकते हैं :



* वजन संतुलित रखें 



* फलों व सब्जियों का खूब सेवन करें



* हर दिन न्यूनतम 30 मिनट शारीरिक व्यायाम करें



* शराब का सेवन सीमित करें या इसे लेने से बचें



* केवल आवश्यक दवाएं ही लेनी चाहिए और परहेज पर ध्यान दें। 



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें