Breaking News
मेक्सिको में फिर आए भूकंप में चार लोगो की मौत         ||           जम्मू एवं कश्मीर में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में आतंकवादी ढेर         ||           राजधानी दिल्ली में सुबह बदली छाई         ||           उप्र में मुठभेड़ में 4 लुटेरे गिरफ्तार, 2 फरार         ||           मेक्सिको में भूकंप से मरने वालों की संख्या 305 हुई         ||           भारत इंदौर वनडे में सीरीज जीतने के इरादे से उतरेगा         ||           वार्नर ने कहा हमारे खिलाड़ी स्पिनरों को खेल सकते हैं         ||           अखिलेश ने कहा बनावटी समाजवादियों से सावधान रहें, नेताजी हमारे साथ         ||           मारिन, वेई और एक्सेलसेन जापान ओपन फाइनल में         ||           कांग्रेस ने कहा चांडी को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करें         ||           अनुपम खेर ने कहा शेखर कपूर मेरे सच्चे मित्र         ||           जद(यू) ने कहा कर्मो का फल भोग रहे हैं लालू         ||           प्रणव-सिक्की की जोड़ी जापान ओपन के सेमीफाइनल में हारी         ||           बिहार में सिरफिरे आशिक ने चाकू गोदकर लड़की की हत्या की         ||           प्रधानमंत्री मोदी मेरे लिए पूजा के समान है स्वच्छता         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने उप्र में पशुधन आरोग्य मेले का उद्घाटन किया         ||           बिहार में मौसम साफ         ||           राजधानी दिल्ली में आज जारी रहेगी बारिश         ||           उप्र में बादल छाए, बारिश से तापमान में गिरावट         ||           अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तानी गोलीबारी में बीएसएफ के दो जवानों सहित पांच घायल         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> वसायुक्त यकृत से लंबे समय में यकृत कैंसर का डर

वसायुक्त यकृत से लंबे समय में यकृत कैंसर का डर


admin ,Vniindia.com | Thursday August 17, 2017, 11:17:57 | Visits: 59







नई दिल्ली, 17 अगस्त (वीएनआई/आईएएनएस)| इंडियन मेडिकल एसोसिएशन का कहना है कि वसायुक्त यकृत से पीड़ित लोगों की संख्या में खतरनाक रूप में वृद्धि हो रही है। यदि ठीक से इलाज न हो तो वसायुक्त यकृत से लंबे समय में यकृत कैंसर भी हो सकता है। 



उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक, भारत में हर पांच में से एक व्यक्ति के जिगर या यकृत में अधिक वसा मौजूद होती है और हर 10 में से एक व्यक्ति में फैटी लिवर रोग होता है। यह चिंता का एक कारण है, क्योंकि ठीक से जांच और इलाज न हो तो वसायुक्त यकृत से यकृत को क्षति पहुंच सकती है और यकृत कैंसर भी हो सकता है। आईएमए के अनुसार, गैर-एल्कोहल फैटी लिवर रोग (एनएएफएलडी) वाले 20 प्रतिशत लोगों में 20 वर्षो के अंदर लिवर सिरोसिस होने का खतरा रहता है। यह आंकड़ा शराबियों के समान है। आईएमए के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, "एनएएफएलडी सिरोसिस और कभी-कभी तो क्रिप्टोजेनिक सिरोसिस की भी वजह बन सकता है। अधिक वजन वाले लोगों में प्रतिदिन दो ड्रिंक और मोटे लोगों में प्रतिदिन एक ड्रिंक लेने से हिपेटिक इंजरी हो सकती है। एनएफएलडी के चलते सिरोसिस के कारण लिवर कैंसर हो जाता है और ऐसी कंडीशन में अक्सर हृदय रोग से मौत हो जाती है।



डॉ. अग्रवाल ने कहा, "एनएफएफडीएल अल्कोहल की वजह से तो नहीं होता, लेकिन इसकी खपत अधिक होने पर स्थिति जरूर खराब हो सकती है। प्रारंभिक अवस्था में यह रोग खत्म हो सकता है या वापस भी लौट सकता है। एक बार सिरोसिस बढ़ जाए तो लिवर ठीक से काम नहीं कर पाता है। ऐसा होने पर, फ्लुइड रिटेंशन, मांसपेशियों में नुकसान, आंतरिक रक्तस्राव, पीलिया और लिवर की विफलता जैसे लक्षण पैदा हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि एनएएफएलडी के लक्षणों में प्रमुख हैं- थकान, वजन घटना या भूख की कमी, कमजोरी, मितली, सोचने में परेशानी, दर्द, जिगर का बढ़ जाना और गले या बगल में काले रंग के धब्बे। आईएमए अध्यक्ष ने बताया, "एनएएफएलडी का अक्सर तब पता चल पाता है जब लिवर की कार्य प्रणाली ठीक न पाई जाए, हेपेटाइटिस न होने की पुष्टि हो जाए। हालांकि, लिवर ब्लड टैस्ट सामान्य होने पर भी एनएएफएलडी मौजूद हो सकता है। किसी भी बीमारी को और अधिक गंभीर स्तर तक आगे बढ़ने से रोकने के लिए कुछ हद तक जीवनशैली में परिवर्तन करने की जरूरत होती है। यहां कुछ सरल जीवनशैली परिवर्तन सुझाए जा रहे हैं जो इस स्थिति से बचाव में कारगर हो सकते हैं :



* वजन संतुलित रखें 



* फलों व सब्जियों का खूब सेवन करें



* हर दिन न्यूनतम 30 मिनट शारीरिक व्यायाम करें



* शराब का सेवन सीमित करें या इसे लेने से बचें



* केवल आवश्यक दवाएं ही लेनी चाहिए और परहेज पर ध्यान दें। 



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें