Breaking News
भारत ने अंडर-19 विश्व कप में जिम्बाब्वे को 10 विकेट से हराया         ||           पाकिस्तानी गोलीबारी में जम्मू एवं कश्मीर में दो की मौत         ||           भारत-इजराइल : नई संभावनाओं का सफर         ||           बॉलीवुड हस्तियों का दिल नेतन्याहू ने जीता         ||           एलएफडब्ल्यू फिनाले की शो स्टॉपर बनेंगी करीना         ||           राजधानी दिल्ली में घना कोहरा, वायु गुणवत्ता अत्यधिक खराब स्तर पर         ||           प्रिंस हैरी और मेगन पहले अधिकारिक वेल्स दौरे पर         ||           शेयर बाजार के शुरुआती कारोबार में हल्की बढ़त असर         ||           यूरोप दौरे पर जाएंगे रेक्स टिलरसन         ||           टैक्सी चालकों की गोवा में एकदिनी हड़ताल         ||           अमोनिया गैस का टैंकर गोवा में पलटा, दो लोग अस्पताल में भर्ती         ||           अमेरिकी डॉलर में गिरावट का असर         ||           अमेरिकी शेयर बाजार गिरावट के साथ बंद         ||           जोकोविक आस्ट्रेलियन ओपन के तीसरे दौर में पहुंचे         ||           कांग्रेस ने कहा मोदी और सुषमा ने डोकलाम पर राष्ट्र को गुमराह किया         ||           राहुल गाँधी से अमरिंदर ने मुलाकात की         ||           योगी ने कहा मदरसों को बंद करना समस्या का हल नहीं         ||           आईसीसी के साल के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेट खिलाड़ी बने कोहली         ||           'पद्मावत' पर 3 राज्यों में लगा प्रतिबंध सर्वोच्च न्यायालय ने हटाया         ||           देश में निर्मित अग्नि-वी मिसाइल का सफल परीक्षण         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> प्रख्यात साहित्यकार एवं जनवादी लेखक दूधनाथ सिंह का निधन

प्रख्यात साहित्यकार एवं जनवादी लेखक दूधनाथ सिंह का निधन


admin ,Vniindia.com | Friday January 12, 2018, 11:33:00 | Visits: 69







लखनऊ/इलाहाबाद, 12 जनवरी (वीएनआई)| प्रसिद्ध कथाकार दूधनाथ सिंह का बीते गुरुवार देर रात निधन हो गया। पिछले कई दिनों से वह इलाहाबाद के फीनिक्स अस्पताल में भर्ती थे। कैंसर से पीड़ित दूधनाथ सिंह को बुधवार रात दिल का दौरा पड़ा था। उन्हें वेंटीलेटर पर शिफ्ट कर दिया गया था जहां उन्होंने गुरुवार देर रात 12 बजे अंतिम सांस ली। 



उनके परिजनों के अनुसार पिछले साल अक्तूबर माह में तकलीफ बढ़ने पर दूधनाथ सिंह को नई दिल्ली अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में दिखाया गया। जांच में प्रोस्टेट कैंसर की पुष्टि होने पर उनका वहीं इलाज चला। 26 दिसंबर को उन्हें इलाहाबाद लाया गया। दो-तीन दिन बाद तबीयत बिगड़ने पर उन्हें फीनिक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था। तब से उनका वहीं इलाज चल रहा था। दो साल पहले उनकी पत्नी निर्मला ठाकुर का निधन हो गया था। दूधनाथ सिंह अपने पीछे दो बेटे-बहू, बेटी-दामाद और नाती-पोतों से भरा परिवार छोड़ गए हैं। 



गौरतलब है कि मूल रूप से बलिया के रहने वाले दूधनाथ सिंह ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से एमए किया और यहीं वह हिंदी के अध्यापक नियुक्त हुए। 1994 में सेवानिवृत्ति के बाद से लेखन और संगठन में निरंतर सक्रिय रहे। निराला, पंत और महादेवी के प्रिय रहे दूधनाथ सिंह का आखिरी कलाम 'लौट आओ घर' था। 'सपाट चेहरे वाला आदमी', 'यमगाथा', 'धर्मक्षेत्रे-कुरुक्षेत्रे' उनकी प्रसिद्ध रचनाएं थीं। उन्हें उत्तर प्रदेश के सर्वोच्च साहित्यिक सम्मान भारत भारती व मध्य प्रदेश सरकार के शिखर सम्मान मैथिलीशरण गुप्त से सम्मानित किया गया था।



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें