Breaking News
ऑस्ट्रेलिया के संघर्ष पर आश्विन की फिरकी ने फेरा पानी, भारत ने पहला टेस्ट 31 रन से जीता         ||           भारत ने सार्क सम्मेलन में पीओके मंत्री के विरोध में किया वॉक आउट         ||           दिल्ली के मयूर विहार में बाइक सवार की गोली मारकर हत्या         ||           राजधानी दिल्ली में धुंध की चादर की बीच प्रदूषण का प्रकोप जारी         ||           कटासराज मंदिर के लिए भारत से 139 श्रद्धालुओं का जत्था पाकिस्तान रवाना         ||           रामदास आठवले ने कहा कार्यक्रम में सुरक्षा इंतजाम नहीं थे पर्याप्त         ||           ब्राजील में बैंक लूट के प्रयास में 14 लोगो की मौत         ||           टीएमसी कार्यकर्ताओं ने भाजपा की रैली के बाद गंगाजल से मैदान का शुद्धिकरण किया         ||           पेट्रोल-डीजल फिर सस्ता हुआ         ||           श्रीनगर में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में पांच जवान घायल, दो आतंकी ढेर         ||           जीतू फौजी........         ||           आज का दिन :         ||           new Chief economic adviser         ||           आज का दिन :         ||           पंश्चिम बंगाल में बी.जे.पी की रथ यात्रा         ||           अश्विन .... विन... विन         ||           ज्वाला गुट्टा वोट नहीं डाल पाईं         ||           आर्मी जवान पर इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या का शक:         ||           कुछ आसान हो जायेगा ऑनलाइन ट्रान्सेक्शन         ||           पुजारा की जोरदार पारी .......         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> चुनाव आयोग ने कहा कमलनाथ ने सुप्रीम कोर्ट में जमा किए फर्जी दस्तावेज

चुनाव आयोग ने कहा कमलनाथ ने सुप्रीम कोर्ट में जमा किए फर्जी दस्तावेज


admin ,Vniindia.com | Friday October 05, 2018, 01:51:00 | Visits: 71







नई दिल्ली, 05 अक्टूबर, (वीएनआई) चुनाव आयोग ने सर्वोच्च न्यायलय में दावा किया कि वोटर लिस्ट में डुप्लीकेसी से जुड़े मामले में  कांग्रेस नेता कमलनाथ ने फर्जी दस्तावेज अदालत में जमा किए। 



चुनाव आयोग ने कहा कि मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के संबंध में कमलनाथ द्वारा दायर याचिका में फर्जी दस्तावेज दायर कर अनुकूल परिणाम पाने और चुनाव आयोग की छवि खराब करने के प्रयास किए गए। कांग्रेस ने मध्य प्रदेश और राजस्थान में बड़ी संख्या में वोटर लिस्ट में डुप्लीकेसी का आरोप लगाया था। चुनाव आयोग की तरफ से मामले पर बहस करते हुए वरिष्ठ वकील विकास सिंह ने जस्टिस एके सिकरी की अगुवाई वाली खंडपीठ को बताया कि पार्टी शीर्ष अदालत को गुमराह करने की कोशिश कर रही थी। वकील ने कहा कि इसके लिए याचिकाकर्ताओं को दंडित किया जाना चाहिए। इसके लिए भारतीय दंड संहिता की धारा 193  है और इसकी गंभीरता से पूछताछ होनी चाहिए। अदालत के समक्ष पेश की गई लिस्ट में तस्वीरें और नाम हैं। विकास सिंह ने कहा कि ईसी की वेबसाइट पर वोटर लिस्ट में मतदाताओं की तस्वीरें नहीं हैं।



सर्वोच्च न्यायलय ने आयोग के दावों पर आपत्ति जताई और चेतावनी दी कि उस कंपनी को बुलाया जा सकता है जिसने कथित रूप से मतदाताओं के आंकड़े सार्वजनिक किए हैं। वहीं, कोर्ट में चुनाव आयोग के दावों को कांग्रेस ने खारिज किया। पूरे मामले पर कांग्रेस के मध्य प्रदेश प्रमुख कमलनाथ ने कहा कि हम अपनी बातों पर अडिग हैं जो सबूत हमने कोर्ट में जमा किए हैं। कमलनाथ की ओर से वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि इसमें कुछ भी गलत नहीं है क्योंकि आंकड़े सार्वजनिक तौर पर उपलब्ध हैं और याचिकाकर्ता ने इसे रावत को भी दिया है। वहीं खंडपीठ ने सिंह से मुख्य चुनाव आयोग के कार्यालय से निर्देश मांगने और 8 अक्टूबर को उत्तर देने के लिए कहा। 



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें