Breaking News
भारत की 4 रन से हार         ||           भारत और ऑस्ट्रेलिया टी-20         ||           मनमोहन सिंह ने राफेल मामले पर कहा दाल में कुछ काला जरूर है         ||           जम्मू कश्मीर में बात सरकार की         ||           सेंसेक्स 275 अंक की गिरावट पर बंद         ||           जम्मू एवं कश्मीर में कांग्रेस-पीडीपी और उमर मिलकर बना सकते है सरकार         ||           राहुल गाँधी से तेलंगाना के सबसे अमीर सांसद ने मुलाकात की         ||           पेंटागन ने कहा पाक को दी जाने वाली 1.66 बिलियन डॉलर की मदद पर लगी रोक         ||           आप विधायक सोमनाथ भारती ने महिला एंकर को आपत्तिजनक शब्द कहे         ||           तेलंगाना में प्राइवेट जेट क्रैश हुआ, पायलट सुरक्षित         ||           अक्षय कुमार आज पंजाब एसआईटी के सामने आज पेश होंगे         ||           केरल कांग्रेस के कार्यवाहक अध्यक्ष एमआई शानवास का निधन         ||           देश के शेयर बाज़ारो के शुरूआती कारोबार में गिरावट का असर         ||           हिज्बुल मुजाहिदीन का आतंकी दिल्ली में गिरफ्तार         ||           केंद्रीय मंत्री हरिभाई चौधरी ने कहा अगर आरोप सही हुए तो राजनीति छोड़ दूंगा         ||           एमसी मैरीकॉम वर्ल्ड चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में         ||           अमृतसर ब्लास्ट मामले में दो संदिग्ध छात्र बठिंडा से गिरफ्तार         ||           सचिवालय में मुख्यमंत्री केजरीवाल पर मिर्च पाउडर से हमला         ||           सेंसेक्स 300 अंक की गिरावट पर बंद         ||           सुषमा स्वराज ने कहा नहीं लड़ेंगी अगला लोकसभा चुनाव         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> दिनाकरण ने कहा खंडित आदेश से हम निराश नहीं

दिनाकरण ने कहा खंडित आदेश से हम निराश नहीं


admin ,Vniindia.com | Thursday June 14, 2018, 05:44:00 | Visits: 70







चेन्नई, 14 जून (वीएनआई)| अन्नाद्रमुक से दरकिनार नेता टी.टी.वी. दिनाकरण ने आज कहा कि एआईएडीएमके के 18 बागी विधायकों को अयोग्य ठहराने के मामले में मद्रास उच्च न्यायालय के खंडित आदेश से वह निराश नहीं हैं। 



मद्रास उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश इंदिरा बनर्जी ने आज तमिलनाडु विधानसभा के अध्यक्ष पी. धनपाल द्वारा 18 विधायकों को अयोग्य ठहराए जाने के फैसले को बरकरार रखने के आदेश दिए, वहीं पीठ के अन्य न्यायाधीश एम. सुंदर ने विधानसभा अध्यक्ष के निर्णय को अवैध बताया। न्यायमूर्ति बनर्जी ने कहा कि विरोधाभाषी निर्णय की वजह से, इस मामले को अन्य पीठ को स्थांतरित किया जाएगा। दिनाकरण ने मीडिया से कहा, जन-विरोधी सरकार को कुछ और महीने का विस्तार मिल गया है। यह हमारे लिए निराशा नहीं है। हमने 50 प्रतिशत विजय प्राप्त कर ली है।



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें