Breaking News
हिज्बुल मुजाहिदीन का आतंकी दिल्ली में गिरफ्तार         ||           केंद्रीय मंत्री हरिभाई चौधरी ने कहा अगर आरोप सही हुए तो राजनीति छोड़ दूंगा         ||           एमसी मैरीकॉम वर्ल्ड चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में         ||           अमृतसर ब्लास्ट मामले में दो संदिग्ध छात्र बठिंडा से गिरफ्तार         ||           सचिवालय में मुख्यमंत्री केजरीवाल पर मिर्च पाउडर से हमला         ||           सेंसेक्स 300 अंक की गिरावट पर बंद         ||           सुषमा स्वराज ने कहा नहीं लड़ेंगी अगला लोकसभा चुनाव         ||           अशोक गहलोत ने कहा वसुंधरा ने जोधपुर के साथ किया सौतेला बर्ताव         ||           क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने कहा स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर पर प्रतिबंध रहेगा बरकरार         ||           शिकागो के अस्पताल में गोलीबारी मे चार लोगों की मौत         ||           बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा ने सरेंडर किया         ||           पेट्रोल-डीजल की कीमतों में गिरावट जारी है         ||           महाराष्ट्र के वर्धा में आर्मी डिपो में धमाका, 6 लोगों की मौत         ||           कांग्रेस ने वरिष्ठ नेता सत्यव्रत चतुर्वेदी को पार्टी से निकाला         ||           शोपियां में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में चार आतंकी ढेर         ||           देश के शेयर बाज़ारो के शुरूआती कारोबार में गिरावट का असर         ||           छत्तीसगढ़ मे 72 विधानसभा सीटों पर मतदान जारी         ||           ममता बनर्जी ने कहा हर कोई होगा महागठबंधन का चेहरा         ||           जम्मू कश्मीर मे सीमा पर हुए धमाके में एक जवान शहीद         ||           जोकोविच को हराकर ज्वेरेव ने अपना पहला एटीपी फाइनल्स जीता         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> जापान में दोषी धार्मिक नेता को मौत की सजा

जापान में दोषी धार्मिक नेता को मौत की सजा


admin ,Vniindia.com | Friday July 06, 2018, 04:25:00 | Visits: 58







टोक्यो, 06 जुलाई, (वीएनआई) जापान में डूम्सडे पंथ के नेता शोको असहारा को राजधानी टोक्यो के सबवे में जानलेवा सारिन गैस हमले मामले आज आज फांसी पर लटका दिया गया। साथ ही उसके 6 समर्थकों को भी फांसी पर लटका दिया गया। 



शोको अमु शिनरीक्यिो संप्रदाय से था और 1995 में उसने इस घटना को अंजाम दिया था जिसमें 13 लोग मारे गए थे और हजारों की संख्या में लोग इससे प्रभावित हुए थे। उसे मौत की सजा सुनाई गई थी। मौत की सजा होने से पहले शोको असहारा ने 22 साल जेल की सजा काटी। दृष्टिहीन शोको ने 1980 में डूम्सडे पंथ की स्थापना की। उसकी छवि ऐसे करिश्माई नेता की थी जिससे प्रभावित हो कर शिक्षित लोग यहां तक कि डॉक्टर और वैज्ञानिक तक उसके पंथ में शामिल हो गए थे। हालांकि इस पंथ को लेकर हमेशा से ही देश में शंका थी। 



एक अधिकारी ने कहा, ‘सात अमु सदस्यों को मृत्युदंड दिया गया जिसमें शोको असहारा भी शामिल है।’ नर्व एजेंट हमला मामले में फांसी की यह पहली सजा दी गई है अभी इस पंथ के 6 और सदस्यों को मौत की सजा तामील होनी बाकी है। 1995 में हुए भीषण हमले से प्रभावित लोगों ने दोषियों को फांसी दिए जाने की खबर का स्वागत किया। साल 2006 में असहारा को मौत की सजा सुनाई गई थी। 



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें