Breaking News
पनामा फीफा विश्व कप में आज पदार्पण करने उतरेगी         ||           ट्रक मालिकों की डीजल की बढ़ी कीमतों के विरोध में राष्ट्रव्यापी हड़ताल         ||           सीरिया में सैन्य ठिकानों पर हवाई हमले         ||           राजधानी दिल्ली में आंशिक बदली छाई, बारिश के आसार         ||           नौसेना के जहाज में लगी आग बुझाई गई         ||           शेयर बाजार लाल निशान पर खुले         ||           कोलंबिया के नए राष्ट्रपति बनेंगे इवान डुक         ||           जापान में तेज भूकंप के झटके         ||           स्वीडन और द. कोरिया में फीफा विश्व कप में आज भिड़ंत         ||           फीफा विश्व कप में नहीं चला नेमार का जादू, ब्राजील ने स्विट्जरलैंड से खेला ड्रॉ         ||           फीफा विश्व कप 2018 : आज पांचवे दिन के होने वाले मैच         ||           अभिनेता मोती लाल की पुण्य तिथि पर         ||           आज का दिन :         ||           केंद्र सरकार का जम्मू एवं कश्मीर में संघर्षविराम में विस्तार से इनकार         ||           मेसी को आइसलैंड के खिलाफ पेनाल्टी से चूकने का अफसोस         ||           भारतीय महिला हॉकी टीम को चौथे मैच में स्पेन ने 4-1 से हराया         ||           दक्षिण कोरिया का प्योंगयांग से सीमा पर से तोपें हटाने का आग्रह         ||           नीति आयोग की गर्वनिंग काउंसिल बैठक शुरू         ||           गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री प्रताप सिंह राणे अस्पताल में भर्ती         ||           तिलहनों का रकबा खरीफ सीजन में बढ़ने की उम्मीद         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> दलाई लामा महाबोधि मंदिर का नियंत्रण बौद्धों को सौंपने का आग्रह करें

दलाई लामा महाबोधि मंदिर का नियंत्रण बौद्धों को सौंपने का आग्रह करें


admin ,Vniindia.com | Friday January 05, 2018, 09:43:00 | Visits: 258







पटना, 5 जनवरी (वीएनआई)| महाबोधि मंदिर को बौद्धों के नियंत्रण में सौंपे जाने की मुहिम चला रहे एक बौद्ध भिक्षु ने तिब्बती धर्म गुरु दलाई लामा से आग्रह किया है कि वह इस मांग को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सामने रखें। 



भंते आनंद ने आज कहा, दलाई लामा को इस मुद्दे पर अपनी चुप्पी तोड़नी चाहिए और बोध गया में महाबोधि मंदिर का नियंत्रण बौद्धों को सौंपने की मांग करनी चाहिए..उन्होंने इस उचित मांग को अभी तक नहीं उठाकर निराश किया है। आनंद अखिल भारतीय भिक्षु महासंघ (एबीबीएम) के अध्यक्ष हैं। वह बोध गया मुक्ति आंदोलन समिति के भी अध्यक्ष हैं। आनंद ने कहा, यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि दलाई लामा ने खुद को एक से अधिक बार बेपर्दा किया है कि उनके लिए मंदिर पर बौद्धों का नियंत्रण कोई मायने नहीं रखता। वह दशकों से अपनी राजनीति कर रहे हैं। वह अपने एजेंडे में व्यस्त हैं..। आनंद बौद्ध धर्म के जन्मस्थल माने जाने वाले महाबोधि मंदिर को हिंदू नियंत्रण से मुक्त कराना चाहते हैं। उन्होंने कहा, "बोध गया मंदिर पर हिंदुओं का नियंत्रण क्यों होना चाहिए? यह दुनिया में अकेला ऐसा पवित्र स्थान है जहां एक धर्म का सर्वाधिक पवित्र तीर्थ एक दूसरे धर्म के लोगों के हाथ में है।" ऐसी मान्यता है कि जहां मंदिर है, वहीं पर भगवान गौतम बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी।



आनंद ने कहा कि बिहार सरकार को महाबोधि मंदिर प्रबंधन कानून 1949 में संशोधन करना चाहिए। मंदिर का प्रबंधन बिहार सरकार की तरफ से एक नौ सदस्यीय समिति करती है जिसके मुखिया जिलाधिकारी होते हैं। राज्य सरकार के मंदिर प्रबंधन कानून के मुताबिक, केवल एक हिंदू ही प्रबंध समिति का प्रमुख हो सकता है। समिति में बौद्ध व हिंदू समुदाय के चार-चार प्रतिनिधि तीन साल के कार्यकाल के लिए नियुक्त होते हैं। गया के जिलाधिकारी इसके पदेन चेयरमैन होते हैं और शंकराचार्य मठ के महंत पदेन हिंदू सदस्य होते हैं। जिलाधिकारी के गैर हिंदू होने की स्थिति में राज्य सरकार किसी हिंदू को नामित करती है। महाबोधि मंदिर को यूनेस्को ने 2002 में विश्व धरोहर घोषित किया था। हर साल यहां हजारों पर्यटक आते हैं जिनमें अधिकांश बौद्ध होते हैं।



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें