Breaking News
चेतेश्वर पुजारा टेस्ट की दोनों पारियों में रनआउट होने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बने         ||           हिना रब्बानी ने कहा दक्षिण एशिया में अराजकता फैलाने के लिए मौजूद है अमेरिका         ||           भारत में चार कैमरों वाला 'ऑनर 9 लाइट' स्मार्टफोन लॉन्च         ||           अखिलेश ने आलू मामले पर योगी सरकार पर साधा निशाना, भाजपा का पलटवार         ||           माकपा ने अचानक हज सब्सिडी खत्म करने की आलोचना की         ||           कैटरीना कैफ ने कहा 'टाइगर जिंदा है' ने बेहतरीन यादें दी हैं         ||           सेंसेक्स 311 अंकों की तेजी पर बंद         ||           ज्योति बसु को उनकी पुण्यतिथि पर ममता ने याद किया         ||           पहली बार सेंसेक्स 35000 के पार         ||           नडाल ने आस्ट्रेलियन ओपन के तीसरे दौर में प्रवेश किया         ||           सेना प्रमुख ने कहा आतंकवाद समर्थक देशों से निपटा जाना चाहिए         ||           सुखोई में रक्षामंत्री सीतारमन ने भरी उड़ान         ||           कमाल अमरोही के जन्मदिन पर         ||           आम आदमी के लिये फायदेमन्द मेवाः मूंगफली         ||           मोदी और नेतन्याहू का अहमदाबाद में रोडशो         ||           दक्षिण अफ्रीका ने दूसरा टेस्ट 135 रनो से जीतकर सीरीज पर कब्ज़ा किया         ||           आज का दिन :         ||           बेनी दयाल ने कहा गायक बनने का हमेशा से विश्वास था         ||           राजधानी दिल्ली में धुंधभरी सुबह, 13 ट्रेनें रद्द         ||           मप्र में नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव के लिए मतदान जारी         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> चीन ने भारत की एनएसजी की सदस्यता पर फिर डाली रूकावट

चीन ने भारत की एनएसजी की सदस्यता पर फिर डाली रूकावट


admin ,Vniindia.com | Friday December 08, 2017, 03:53:00 | Visits: 97







बीजिंग, 8 दिंसबर (शोभना जैन/ वीएनआई)परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) की सदस्यता के भारत के दावे पर चीन द्वारा रूकावट डाला जाना जारी है. चीन ने एक फिर वही रट लगाई है कि एनएसजी के मौजूदा सदस्य इस समूह में नए सदस्यों को शामिल करने के बारे में 'आम सहमति' बनाने का प्रयास कर रहे हैं,जबकि प्रेक्षको का मानना है कि चीन इस तरह की हरकतो से एन एस जी मे भारत के प्रवेश को रोकना चाहता है. इस समूह में 45 देश शामिल हैं जिनके लिए आपस में परमाणु सामग्री और प्रौद्योगिकी का व्यापार करना आसान है. 



चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने यहां संवाददाताओ से  बातचीत मे कहा, 'इस विषय में चीन का दृष्टिकोण पूर्ववत है.' प्रवक्ता से रूस के उप विदेश मंत्री सर्गेई रियाबकोव की इस टिप्पणी के बारे में पूछा गया था कि उनका देश एनएसजी में भारत की सदस्यता के लिए चीन से बात कर रहा है. गेंग ने कहा, 'चीन इस बात के पक्ष में है कि इस मामले में सरकारों के बीच पारदर्शी और निष्पक्ष बातचीत के जरिये आम सहमति के सिद्धांत का पालन किया जाए.' चीन एनएसजी का सदस्य है. वह भारत की सदस्यता का विरोध कर रहा प्रमुख देश है.



उसका कहना है कि भारत परमाणु अप्रसार संधि(एनपीटी) को  मानने ्को तैयार नही है . उसके विरोध के कारण भारत को सदस्यता मिलने में कठिनाई हो रही है क्योंकि यह समूह आम सहमति के सिद्धांत से चलता है. उन्होंने कहा कि एनपीटी में से बाहर के कुछ देश जो परमाणु हथियारों से मुक्त देश के रूप में इस समूह में शामिल होना चाहते हैं. इस समय ध्यान उन पर केंद्रित है. साथ ही वे अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) के व्यापक सुरक्षात्मक उपाय के समझौते (सीएसए) पर पर भी हस्ताक्षर नहीं करेंगे जो एनपीटी के तहत अनिवार्य है. ऐसे में यदि हम ऐसे अभ्यार्थियों के अवोदन पर सहमत होंगे तो  तो हम गैर एनपीटी देशों के परमाणु हथियार सम्पन्न होने को मान्यता दे रहे होंगे.



और फिर परमाणु हथियार मुक्त देशों के अलावा दूसरे देश सीएसए पर हस्ताक्षर नहीं करने का रास्ता अपनाएंगे। प्रवक्ता ने कहा कि , 'इससे एनपीटी और परमाणु अप्रसार की समूची अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था विफल हो जाएगी. चीन का सुझाव है कि एनएसजी को आगे विचार विमर्श कर ऐसा रास्ता निकालना चाहिए जो सभी पक्षों को स्वीकार हो और परमाणु अप्रसार व्यवस्था भी बनी रहे.वी एन आई



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें