Breaking News
भारत ने अंडर-19 विश्व कप में जिम्बाब्वे को 10 विकेट से हराया         ||           पाकिस्तानी गोलीबारी में जम्मू एवं कश्मीर में दो की मौत         ||           भारत-इजराइल : नई संभावनाओं का सफर         ||           बॉलीवुड हस्तियों का दिल नेतन्याहू ने जीता         ||           एलएफडब्ल्यू फिनाले की शो स्टॉपर बनेंगी करीना         ||           राजधानी दिल्ली में घना कोहरा, वायु गुणवत्ता अत्यधिक खराब स्तर पर         ||           प्रिंस हैरी और मेगन पहले अधिकारिक वेल्स दौरे पर         ||           शेयर बाजार के शुरुआती कारोबार में हल्की बढ़त असर         ||           यूरोप दौरे पर जाएंगे रेक्स टिलरसन         ||           टैक्सी चालकों की गोवा में एकदिनी हड़ताल         ||           अमोनिया गैस का टैंकर गोवा में पलटा, दो लोग अस्पताल में भर्ती         ||           अमेरिकी डॉलर में गिरावट का असर         ||           अमेरिकी शेयर बाजार गिरावट के साथ बंद         ||           जोकोविक आस्ट्रेलियन ओपन के तीसरे दौर में पहुंचे         ||           कांग्रेस ने कहा मोदी और सुषमा ने डोकलाम पर राष्ट्र को गुमराह किया         ||           राहुल गाँधी से अमरिंदर ने मुलाकात की         ||           योगी ने कहा मदरसों को बंद करना समस्या का हल नहीं         ||           आईसीसी के साल के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेट खिलाड़ी बने कोहली         ||           'पद्मावत' पर 3 राज्यों में लगा प्रतिबंध सर्वोच्च न्यायालय ने हटाया         ||           देश में निर्मित अग्नि-वी मिसाइल का सफल परीक्षण         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> सुप्रीम कोर्ट विवाद - बार काउंसिल सुप्रीम कोर्ट के सभी जजों से मिल सकते है

सुप्रीम कोर्ट विवाद - बार काउंसिल सुप्रीम कोर्ट के सभी जजों से मिल सकते है


admin ,Vniindia.com | Saturday January 13, 2018, 08:31:00 | Visits: 73








नई दिल्‍ली, 13 जनवरी (वीएनआई) सुप्रीम कोर्ट के चार न्यायधीशों द्वारा प्रधान न्यायाधीश के काम काज के तरीको पर असहमति व्य्क्त करने के लिये प्रेस कॉफ्रेंस बुलाये जाने पर आज बार एसोसिएशन ने एक प्रस्ताव पारित कर के कहा कि सुप्रीम कोर्ट के जजों का अंदरूनी मामला है, चीफ जस्टिस फुल कोर्ट मीटिंग बुलाकर इस मामले को सुलझाएं. सभी जनहित याचिकाएं चाहे वो नई या लंबित, सभी को पांच वरिष्ठ जजों की बेंच ही सुने.



इस मामले में आगे का रास्‍ता क्‍या हो, इसे तय करने के लिए शनिवार को सुप्रीम कोर्ट बार काउंसिल की बैठक हुई. बैठक के बाद बार काउंसिल के सदस्‍य ने बताया कि वो सुप्रीम कोर्ट के अन्‍य 23 जजों से मिलना चाहते हैं, जिनमें से अधिकांश चर्चा के लिए तैयार हैं. उसके बाद वो चारों असहमत जजों के मिलेंगे और अंत में मुख्‍य न्‍यायाधीश से. ये बैठकें रविवार से शुरू होंगी.



कल सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जज देश के इतिहास में पहली बार मीडिया के सामने आए और कहा कि सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन ठीक तरह से काम नहीं कर रहा है, और यदि संस्था को ठीक नहीं किया गया, तो लोकतंत्र खत्म हो जाएगा. सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के बाद वरिष्ठतम न्यायाधीश जस्टिस जे. चेलामेश्‍वर ने जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ के साथ मीडिया से कहा, हम चारों मीडिया का शुक्रिया अदा करना चाहते हैं. किसी भी देश के कानून के इतिहास में यह बहुत बड़ा दिन, अभूतपूर्व घटना है, क्‍योंकि हमें यह ब्रीफिंग करने के लिए मजबूर होना पड़ा है. उन्‍होंने कहा कि हमने यह प्रेस कॉन्‍फ्रेंस इसलिए की, ताकि हमें कोई यह न कह सके कि हमने आत्मा को बेच दिया है. बार काउंसिल के सूत्रों ने कहा कि जजों को फुल कोर्ट मीटिंग बुलानी चाहिए और अगर मुख्‍य न्‍यायाधीश उनकी चिंताओं को दूर करने में सक्षम नहीं हैं तो उन्‍हें राष्‍ट्रपति से संपर्क करना चाहिए.




Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें