Breaking News
प. बंगाल में सांतरागाछी रेलवे स्टेशन पर भगदड़ से 2 लोगो की मौत         ||           योगी आदित्यनाथ ने कहा देश में आपदा आती है तो इटली भाग जाते हैं राहुल गांधी         ||           आज का दिन : तुलसी दास जी         ||           जम्मू कश्मीर के पुंछ सेक्टर में सेना के ब्रिगेड हेडक्वार्टर में धमाका         ||           सेंसेक्स 287 अंक की गिरावट पर बंद         ||           रमन सिंह ने योगी आदित्यनाथ के पैर छूकर भरा पर्चा         ||           मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के आवास की बढ़ेगी सुरक्षा         ||           कन्हैया कुमार ने कहा भाजपा मेरे खिलाफ मां दुर्गा का कर रही है इस्तेमाल         ||           दिवाली पर शर्तो के साथ बिकेंगे पटाखे         ||           पेट्रोल और डीजल आज फिर हुआ सस्ता         ||           विश्व चैंपियनशिप में पहलवान बजरंग को मिला रजत पदक         ||           भारत और पाकिस्‍तान के बीच डीजीएमओ स्‍तर की वार्ता आज         ||           त्रिपुरा में सड़क हादसे में 29 जवान घायल         ||           देश के शेयर बाज़ारो के शुरूआती कारोबार में गिरावट का असर         ||           छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री रमन सिंह को कांग्रेस की तरफ से अटल बिहारी वाजपेयी की भतीजी देंगी चुनौती         ||           राहुल गांधी ने कहा छत्तीसगढ़ के किसानों का कर्ज माफ करके रहूंगा         ||           आज का दिन : कादर खान         ||           सेंसेक्स 182 अंक की गिरावट पर बंद         ||           सर्वोच्च न्यायलय ने मी टू मामले पर तत्काल सुनवाई से किया इनकार         ||           अमृतसर रेल हादसे पर पुलिस कमिश्नर ने कहा जांच के लिए गठित की गई एसआईटी         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> सुप्रीम कोर्ट विवाद - बार काउंसिल सुप्रीम कोर्ट के सभी जजों से मिल सकते है

सुप्रीम कोर्ट विवाद - बार काउंसिल सुप्रीम कोर्ट के सभी जजों से मिल सकते है


admin ,Vniindia.com | Saturday January 13, 2018, 08:31:00 | Visits: 173








नई दिल्‍ली, 13 जनवरी (वीएनआई) सुप्रीम कोर्ट के चार न्यायधीशों द्वारा प्रधान न्यायाधीश के काम काज के तरीको पर असहमति व्य्क्त करने के लिये प्रेस कॉफ्रेंस बुलाये जाने पर आज बार एसोसिएशन ने एक प्रस्ताव पारित कर के कहा कि सुप्रीम कोर्ट के जजों का अंदरूनी मामला है, चीफ जस्टिस फुल कोर्ट मीटिंग बुलाकर इस मामले को सुलझाएं. सभी जनहित याचिकाएं चाहे वो नई या लंबित, सभी को पांच वरिष्ठ जजों की बेंच ही सुने.



इस मामले में आगे का रास्‍ता क्‍या हो, इसे तय करने के लिए शनिवार को सुप्रीम कोर्ट बार काउंसिल की बैठक हुई. बैठक के बाद बार काउंसिल के सदस्‍य ने बताया कि वो सुप्रीम कोर्ट के अन्‍य 23 जजों से मिलना चाहते हैं, जिनमें से अधिकांश चर्चा के लिए तैयार हैं. उसके बाद वो चारों असहमत जजों के मिलेंगे और अंत में मुख्‍य न्‍यायाधीश से. ये बैठकें रविवार से शुरू होंगी.



कल सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जज देश के इतिहास में पहली बार मीडिया के सामने आए और कहा कि सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन ठीक तरह से काम नहीं कर रहा है, और यदि संस्था को ठीक नहीं किया गया, तो लोकतंत्र खत्म हो जाएगा. सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के बाद वरिष्ठतम न्यायाधीश जस्टिस जे. चेलामेश्‍वर ने जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ के साथ मीडिया से कहा, हम चारों मीडिया का शुक्रिया अदा करना चाहते हैं. किसी भी देश के कानून के इतिहास में यह बहुत बड़ा दिन, अभूतपूर्व घटना है, क्‍योंकि हमें यह ब्रीफिंग करने के लिए मजबूर होना पड़ा है. उन्‍होंने कहा कि हमने यह प्रेस कॉन्‍फ्रेंस इसलिए की, ताकि हमें कोई यह न कह सके कि हमने आत्मा को बेच दिया है. बार काउंसिल के सूत्रों ने कहा कि जजों को फुल कोर्ट मीटिंग बुलानी चाहिए और अगर मुख्‍य न्‍यायाधीश उनकी चिंताओं को दूर करने में सक्षम नहीं हैं तो उन्‍हें राष्‍ट्रपति से संपर्क करना चाहिए.




Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें