Breaking News
सेनेगल ने फीफा विश्व कप में पोलैंड को 2-1 से दी मात         ||           ओसाको के हेडर गोल से फीफा विश्व कप में जापान का विजयी आगाज         ||           महबूबा ने कहा कश्मीर में जोर-जबरदस्ती की नीति कारगर नहीं होगी         ||           राहुल गांधी का जन्मदिन कांग्रेस ने मनाया         ||           कांग्रेस ने कहा भाजपा ने कश्मीर को बर्बाद कर दिया         ||           उमर अब्दुल्ला ने कहा जम्मू-कश्मीर में सरकार बनाने का जनादेश नहीं         ||           श्रीलंका और वेस्टइंडीज के बीच सेंट लूसिया टेस्ट ड्रॉ पर समाप्त         ||           ओवैसी ने कहा राज्यपाल शासन से कश्मीर में हालात सामान्य नहीं होंगे         ||           भारतीय महिला हॉकी टीम ने जीत के साथ किया स्पेन दौरे का समापन         ||           ममता बनर्जी ने राहुल को 48वें जन्मदिन पर बधाई दी         ||           शिवसेना के स्थापना दिवस पर ममता ने उद्धव को बधाई दी         ||           उमर अब्दुल्ला राज्यपाल वोहरा से मिलने पहुंचे         ||           शिवसेना ने कहा बीजेपी-पीडीपी गठबंधन राष्ट्र विरोधी था         ||           नितिन गडकरी 'सतत विकास के लिए जल 2018-2028’ में भाग लेने के लिए ताजिकिस्तान रवाना         ||           सेंसेक्स 262 अंकों की गिरावट पर बंद         ||           जम्मू एवं कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने इस्तीफा दिया         ||           जम्मू एवं कश्मीर में पीडीपी-बीजेपी गठबंधन टूटा         ||           नेपाल के प्रधानमंत्री चीन दौरे के लिए रवाना         ||           ओली ने कहा चीन के साथ सहयोग बढ़ाने का इच्छुक नेपाल         ||           मनीष सिसोदिया और जैन को अस्पताल से छुट्टी मिली         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> वैद्यनाथ धाम में मुंडन के बाद 'बाबा नीर' से स्नान की अनोखी परंपरा

वैद्यनाथ धाम में मुंडन के बाद 'बाबा नीर' से स्नान की अनोखी परंपरा


admin ,Vniindia.com | Sunday July 23, 2017, 10:24:00 | Visits: 326







देवघर, 23 जुलाई । झारखंड में भगवान भोलेनाथ के द्वादश ज्योतिर्लिगों में से एक ज्योतिर्लिग को वैद्यनाथ धाम के नाम से जाना जाता है। वैद्यनाथ धाम स्थित ज्योतिर्लिग 'कामना लिंग' को भगवान शंकर के द्वादश ज्योतिर्लिगों में सर्वाधिक महिमामंडित माना जाता है। वैसे तो अन्य तीर्थस्थलों की तरह यहां मंदिर परिसर में भी 'मुंडन' की प्रथा है, परंतु यहां बाल मुंडन के बाद बाबा नीर (भगवान के ज्योतिर्लिग पर जलाभिषेक किए गए जल) से स्नान करने की अनोखी परंपरा है। मान्यता है कि ऐसा करने से जहां सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं, वहीं मुंडन कराने वालों के सभी कष्ट भी दूर हो जाते हैं।



हजारों श्रद्धालु मनोकामना पूर्ति के लिए कामना लिंग पर प्रतिदिन जलाभिषेक करने पहुंचते हैं, परंतु भगवान शिव के सबसे प्रिय महीने सावन में यहां उनके भक्तों का हुजूम उमड़ पड़ता है। मान्यता है कि श्रद्धापूर्वक जो भी यहां बाबा के द्वार पहुंचता है, उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। कुछ लोग यहां अपनी मनोकामना मांगने आते हैं तो कुछ अपनी मनोकामनापूर्ण होने पर शिव का आभार प्रकट करने आते हैं। वैद्यनाथ धाम के पुजारी जय कुमार द्वारी कहते हैं, यहां मुंडन की पंरपरा काफी पुरानी है। मुंडन संस्कार कराने के लिए यहां लोगों की भारी भीड़ जुटती है। ऐसे में पौराणिक काल से ही यहां मुंडन संस्कार के बाद 'बाबा नीर' से स्नान करने की भी प्रथा है। उन्होंने कहा कि बच्चों के अलावा व्यस्क भी मनोकामना पूर्ण होने के बाद मुंडन कराने पहुंचते हैं।



वह कहते हैं, यजुर्वेद के अनुसार मुंडन संस्कार बल, आयु, आरोग्य तथा तेज की वृद्धि के लिए किया जाने वाला अति महत्वपूर्ण संस्कार है। जन्म के बाद पहले वर्ष के अंत या फिर तीसरे, पांचवें या सातवें वर्ष की समाप्ति से पहले शिशु का मुंडन संस्कार करना आमतौर पर प्रचलित है। उन्होंने बताया कि आमतौर पर मुंडन संस्कार किसी तीर्थस्थल पर इसलिए कराया जाता है, जिससे उस स्थल के दिव्य वातावरण का लाभ शिशु को मिले तथा उसके मन में सुविचारों की उत्पत्ति हो सके। ऐसे में इस बाबा दरबार की प्रसिद्धि काफी है। जयकुमार कहते हैं कि कई लोग पहले संकल्प ले लेते हैं और जब उनकी मान्यता पूरी हो जाती है तब वे वहां आकर मुंडन करवाते हैं। मुंडन कराकर लोग इसी बाबा नीर से स्नान करते हैं और तब फिर भगवान की पूजा अर्चना करते हैं।



एक अन्य पंडा मौनी द्वारी बताते हैं कि यह प्रथा यहां काफी पुरानी है। उन्होंने बताया, "प्रतिदिन हजारों लोग मंदिर के गर्भगृह में बाबा के ज्योतिर्लिग पर जलाभिषेक करते हैं। इस जलाभिषेक किए गए नीर को बाहर निकासी के लिए मंदिर प्रशासन द्वारा उचित व्यवस्था की गई है। इसी नीर से मुंडन के बाद लोग स्नान करते हैं। कई लोग तो इस बाबा नीर को प्रसाद के रूप में अपने घर ले जाना नहीं भूलते। मुंडन कराने का भाव समर्पण से माना जाता है।-आईएएनएस

 



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें