Breaking News
आज का दिन :         ||           पाकिस्तान में पुलिस मुठभेड़ में दंपती की मौत के खिलाफ प्रदर्शन         ||           राफेल नडाल का 11वीं बार ऑस्ट्रेलियन ओपन के क्वॉर्टर फाइनल में पहुंचे         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने कहा महागठबंधन भ्रष्टाचार का गठबंधन         ||           महिला आयोग ने मायावती पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाली भाजपा विधायक को भेजा नोटिस         ||           शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा राफेल पर चीजें छुपाओगे तो कहा ही जाएगा, चौकीदार चोर है         ||           ममता ने कहा मोदी सरकार की एक्सपायरी डेट आ गई         ||           तेजस्वी यादव ने कहा आप भले ही चौकीदार हैं लेकिन देश की जनता थानेदार है         ||           हार्दिक पटेल ने कहा सुभाष चंद्र बोस लड़े थे गोरों से, हम लड़ रहे चोरों से         ||           पटियाला हाउस कोर्ट से आईआरसीटीसी घोटाला मामले में लालू को मिली राहत         ||           डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन के बीच फरवरी में होगी मुलाकात         ||           वित्तमंत्री जेटली ने 'द हिंदू' की रिपोर्ट को झूठ से प्रेरित कहानी बताया         ||           दिल्ली-एनसीआर में बारिश होने की संभावना, 22 जनवरी से बदलेगा मौसम         ||           पाकिस्तान के नए चीफ जस्टिस बने आसिफ खोसा         ||           प्रकाश राज ने कहा एसी कमरों में बैठकर खेली जा रही है राम मंदिर की राजनीति         ||           भारत ने ऑस्ट्रेलिया को तीसरे एकदिवसीय में 7 विकेट से हराकर सीरीज 2-1 से जीती         ||           आज का दिन : कुंदन लाल सहगल         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने आज 9वें वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट का उद्धाटन किया         ||           उमा भारती ने कहा मायावती पर फिर होगा लखनऊ गेस्ट हाउस जैसा हमला         ||           डीएमके सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण के खिलाफ कोर्ट पहुंची         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> वैद्यनाथ धाम में मुंडन के बाद 'बाबा नीर' से स्नान की अनोखी परंपरा

वैद्यनाथ धाम में मुंडन के बाद 'बाबा नीर' से स्नान की अनोखी परंपरा


admin ,Vniindia.com | Sunday July 23, 2017, 10:24:00 | Visits: 438







देवघर, 23 जुलाई । झारखंड में भगवान भोलेनाथ के द्वादश ज्योतिर्लिगों में से एक ज्योतिर्लिग को वैद्यनाथ धाम के नाम से जाना जाता है। वैद्यनाथ धाम स्थित ज्योतिर्लिग 'कामना लिंग' को भगवान शंकर के द्वादश ज्योतिर्लिगों में सर्वाधिक महिमामंडित माना जाता है। वैसे तो अन्य तीर्थस्थलों की तरह यहां मंदिर परिसर में भी 'मुंडन' की प्रथा है, परंतु यहां बाल मुंडन के बाद बाबा नीर (भगवान के ज्योतिर्लिग पर जलाभिषेक किए गए जल) से स्नान करने की अनोखी परंपरा है। मान्यता है कि ऐसा करने से जहां सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं, वहीं मुंडन कराने वालों के सभी कष्ट भी दूर हो जाते हैं।



हजारों श्रद्धालु मनोकामना पूर्ति के लिए कामना लिंग पर प्रतिदिन जलाभिषेक करने पहुंचते हैं, परंतु भगवान शिव के सबसे प्रिय महीने सावन में यहां उनके भक्तों का हुजूम उमड़ पड़ता है। मान्यता है कि श्रद्धापूर्वक जो भी यहां बाबा के द्वार पहुंचता है, उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। कुछ लोग यहां अपनी मनोकामना मांगने आते हैं तो कुछ अपनी मनोकामनापूर्ण होने पर शिव का आभार प्रकट करने आते हैं। वैद्यनाथ धाम के पुजारी जय कुमार द्वारी कहते हैं, यहां मुंडन की पंरपरा काफी पुरानी है। मुंडन संस्कार कराने के लिए यहां लोगों की भारी भीड़ जुटती है। ऐसे में पौराणिक काल से ही यहां मुंडन संस्कार के बाद 'बाबा नीर' से स्नान करने की भी प्रथा है। उन्होंने कहा कि बच्चों के अलावा व्यस्क भी मनोकामना पूर्ण होने के बाद मुंडन कराने पहुंचते हैं।



वह कहते हैं, यजुर्वेद के अनुसार मुंडन संस्कार बल, आयु, आरोग्य तथा तेज की वृद्धि के लिए किया जाने वाला अति महत्वपूर्ण संस्कार है। जन्म के बाद पहले वर्ष के अंत या फिर तीसरे, पांचवें या सातवें वर्ष की समाप्ति से पहले शिशु का मुंडन संस्कार करना आमतौर पर प्रचलित है। उन्होंने बताया कि आमतौर पर मुंडन संस्कार किसी तीर्थस्थल पर इसलिए कराया जाता है, जिससे उस स्थल के दिव्य वातावरण का लाभ शिशु को मिले तथा उसके मन में सुविचारों की उत्पत्ति हो सके। ऐसे में इस बाबा दरबार की प्रसिद्धि काफी है। जयकुमार कहते हैं कि कई लोग पहले संकल्प ले लेते हैं और जब उनकी मान्यता पूरी हो जाती है तब वे वहां आकर मुंडन करवाते हैं। मुंडन कराकर लोग इसी बाबा नीर से स्नान करते हैं और तब फिर भगवान की पूजा अर्चना करते हैं।



एक अन्य पंडा मौनी द्वारी बताते हैं कि यह प्रथा यहां काफी पुरानी है। उन्होंने बताया, "प्रतिदिन हजारों लोग मंदिर के गर्भगृह में बाबा के ज्योतिर्लिग पर जलाभिषेक करते हैं। इस जलाभिषेक किए गए नीर को बाहर निकासी के लिए मंदिर प्रशासन द्वारा उचित व्यवस्था की गई है। इसी नीर से मुंडन के बाद लोग स्नान करते हैं। कई लोग तो इस बाबा नीर को प्रसाद के रूप में अपने घर ले जाना नहीं भूलते। मुंडन कराने का भाव समर्पण से माना जाता है।-आईएएनएस

 



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें