Breaking News
वित्तमंत्री जेटली कश्मीर में शांति बहाली के लिए सरकार कदम उठा रही         ||           नितिन पटेल ने कहा मूर्खो के फार्मूले को मूर्खो ने स्वीकारा         ||           सेंसेक्स 83 अंकों की तेजी पर बंद         ||           सोनम कपूर ने कहा मैं अहमियत रखने वाली चीजों पर ध्यान देती हूं         ||           सर्वोच्च न्यायालय ने कहा जेपी एसोसिएट्स 275 करोड़ रुपये जमा करे         ||           मुकुल संगमा ने कहा मेघालय के राजस्व संग्रह के आकलन में जीएसटी सक्षम नहीं         ||           दुनिया भर में शेयरइट के 1.2 अरब यूजर्स         ||           भारतीय बास्केट में कच्चे तेल की कीमत 60.95 डॉलर प्रति बैरल         ||           पीवी सिंधु हांगकांग ओपन के दूसरे दौर में पहुंची         ||           साइना नेहवाल हांगकांग ओपन के दूसरे दौर में, कश्यप और सौरभ बाहर         ||           शत्रुघ्न ने 'पद्मावती' पर मोदी, अमिताभ की चुप्पी पर उठाया सवाल         ||           योगी ने कहा संपूर्ण विकास के लिए निकायों में भी भाजपा की सरकार जरूरी         ||           हार्दिक ने कहा पाटीदार आरक्षण पर कांग्रेस का फार्मूला स्वीकार है         ||           आज का दिन :         ||           कश्मीर में तापमान शून्य से नीचे, लेह सबसे ठंडा         ||           राजधानी दिल्ली में सुबह कोहरा छाया         ||           अमेजन क्षेत्र में हत्याओं की ग्रीनपीस ने निंदा की         ||           मजीद मजीदी ने कहा भारत के पास प्रतिभा, लेकिन उनके पास मौके नहीं         ||           उप्र निकाय चुनाव में पहले चरण का मतदान जारी, योगी ने डाला वोट         ||           उप्र में तेज हवाओं ने बढ़ाई ठंड         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> झारखंड : बाबा वैद्यनाथ धाम में जलाभिषेक से पहले 'संकल्प' जरूरी

झारखंड : बाबा वैद्यनाथ धाम में जलाभिषेक से पहले 'संकल्प' जरूरी


admin ,Vniindia.com | Sunday July 16, 2017, 10:08:21 | Visits: 69







खास बातें


1 झारखंड के देवघर जिला स्थित प्रसिद्ध तीर्थस्थल वैद्यनाथ धाम है 2 ज्योर्तिलिंग 'कामना लिंग' को भगवान शंकर के द्वादश ज्योतिर्लिगों में सर्वाधिक महिमामंडित माना जाता है 3 हजारों श्रद्धालु मनोकामना पूर्ति के लिए कामना लिंग पर प्रतिदिन जलाभिषेक करने पहुंचते हैं

देवघर, 16 जुलाई | झारखंड के देवघर जिला स्थित प्रसिद्ध तीर्थस्थल वैद्यनाथ धाम स्थित ज्योर्तिलिंग 'कामना लिंग' को भगवान शंकर के द्वादश ज्योतिर्लिगों में सर्वाधिक महिमामंडित माना जाता है। मान्यता है कि यहां जलाभिषेक करने के पूर्व 'संकल्प' कराना अनिवार्य होता है। 



वैसे तो किसी भी पूजा के पूर्व संकल्प की पुरानी मान्यता है, परंतु यहां दो बार संकल्प की अनोखी परंपरा है। हजारों श्रद्धालु मनोकामना पूर्ति के लिए कामना लिंग पर प्रतिदिन जलाभिषेक करने पहुंचते हैं, परंतु भगवान शिव के सबसे प्रिय महीने सावन में यहां उनके भक्तों का हुजूम उमड़ पड़ता है। सावन महीने में प्रतिदिन यहां करीब 80 हजार भक्त आकर ज्योर्तिलिंग पर जलाभिषेक करते हैं। इनकी संख्या सोमवार के दिन और बढ़ जाती है। पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक, संकल्प के बिना कोई पूजा पूर्ण नहीं होती। वैद्यनाथ धाम के पुजारी पंडित मौनी द्वारी ने आईएएनएस बताया कि वैद्यनाथ धाम की कांवड़ यात्रा में संकल्प की परंपरा काफी पुरानी है। अन्य तीर्थस्थलों में एक बार संकल्प की परंपरा है, परंतु वैद्यनाथ धाम की कांवड़ यात्रा में दो बार संकल्प की प्रथा है। उन्होंने बताया, "सुल्तानगंज में उत्तर वाहिनी गंगा से कांवड़ में जल उठाने के समय में संकल्प करवाना भी अनिवार्य है। उसके बाद बाबा के दरबार में पहुंचने के बाद शिवगंगा में स्नान करने के बाद दोनों पात्रों में लाए गए जल का संकल्प करवाना होता है। श्रद्धालु संकल्प के बाद एक पात्र का जल यहां कामना लिंग पर जलाभिषक करते हैं और दूसरे पात्र का जल बाबा बासुकीनाथ के दरबाार में पहुंचकर उनका जलाभिषेक किया जाता है।



देवघर जिला स्थित बाबा वैद्यनाथ धाम में कांवड़ चढ़ाने का बहुत महत्व है। शिव भक्त सुल्तानगंज से उत्तर वाहिनी गंगा से जलभर कर 105 किलोमीटर की पैदल यात्रा कर यहां पहुंचते हैं और भगवान का जलाभिषेक करते हैं। कांवड़ चढ़ाने वाले इन भक्तों को 'साधारण बम' कहा जाता है। परंतु जो लोग इस यात्रा को 24 घंटे में पूरा करते हैं जिन्हे 'डाक बम' कहा जाता है। बाबा वैद्यनाथ धाम के मुख्य पुजारी दुर्लभ मिश्र भी कहते हैं कि यहां यह अनोखी प्रथा है। सुल्तानगंज में कराया गया संकल्प यात्रा निर्विघ्न पूरा होने के लिए कराया जाता है जबकि देवघर में कराया गया संकल्प मनोकामना और सुख-समृद्धि के लिए कराया जाता है। मिश्र भी कहते हैं कि किसी भी पूजा के लिए 'संकल्प' की प्रथा पुरानी है। भागलपुर के श्रद्धालु विवेकानंद भी कहते हैं कि संकल्प के बिना पूजा अधूरी मानी जाती है। उनका कहना है कि यहां पहुंचने के बाद शिवगंगा में स्नान करने और संकल्प के बाद ही श्रद्धालु पंक्तिबद्ध होते हैं और फिर जलाभिषेक के लिए अपनी बारी का इंतजार करते हैं। -आईएएनएस



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें