Breaking News
वार्नर ने कहा स्टोक्स ने कई लोगों की उम्मीदों को तोड़ा है         ||           अनंत कुमार ने कहा संसद के शीतकालीन सत्र की घोषणा जल्द         ||           विराट कोहली टेस्ट रैंकिंग में पांचवें स्थान पर पहुंचे         ||           राष्ट्रपति कोविंद हड़ताल के बीच मणिपुर पहुंचे         ||           सेंसेक्स 118 अंकों की तेजी पर बंद         ||           प्रियरंजन दासमुंशी के निधन पर विजय मल्होत्रा ने शोक जताया         ||           योगी आदित्यनाथ ने कहा राहुल गांधी वंशवाद की परम्परा को ही आगे बढ़ाएंगे         ||           कांग्रेस ने कहा गुजरात चुनाव के कारण संसद से बच रही है सरकार         ||           आज का दिन:         ||           छिल्लर की जीत पर शिवसेना ने भाजपा पर तंज कसे         ||           ममता ने कहा आधार संख्या जोड़ना समस्याओं से भरा         ||           भारतीय बास्केट में कच्चे तेल की कीमत 60.86 डॉलर प्रति बैरल         ||           माजिद मजीदी ने कहा अपने देश से ज्यादा भारत में मशहूर हूं         ||           पुतिन ने सीरिया युद्ध पर चर्चा के लिए असद से मुलाकात की         ||           इटली फुटबाल संघ के अध्यक्ष का इस्तीफा         ||           नौसेना का आरपीए विमान दुर्घटनाग्रस्त         ||           राजद अध्यक्ष के रूप में लालू की 10वीं बार ताजपोशी         ||           जद (यू) गुजरात में 50 से ज्यादा सीटों पर लड़ेगी चुनाव         ||           आसियान के साथ चीन सहयोग बढ़ाने के लिए तैयार         ||           लीबिया में अगवा डॉक्टर की रिहाई की डब्ल्यूएचओ ने अपील की         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> एसोचैम ने कहा कॉरपोरेट जगत निजी क्षेत्र में आरक्षण के खिलाफ

एसोचैम ने कहा कॉरपोरेट जगत निजी क्षेत्र में आरक्षण के खिलाफ


admin ,Vniindia.com | Monday November 13, 2017, 05:02:11 | Visits: 24







नई दिल्ली, 13 नवंबर (वीएनआई)| भारतीय कॉरपोरेट जगत ने निजी क्षेत्र में आरक्षण लाने के किसी भी कदम का विरोध करने का फैसला किया है और कहा है कि इससे निवेश के माहौल पर असर पड़ेगा तथा विश्व बैंक द्वारा ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में देश की रैकिंग बढ़ाने से जो धारणा में बदलाव हुआ है और उसे भी नकार देगा। एक शीर्ष उद्योग संगठन ने सोमवार को यह बात कही। 



एसोसिएट चेंबर ऑफ कॉमर्स (एसोचैम) के महासचिव डी. एस. रावत ने कहा, ऐसे समय में भारतीय अर्थव्यवस्था दुबारा तेजी हासिल करने के लिए सकारात्मक ट्रिगर्स की मांग कर रहे हैं, निजी क्षेत्र में आरक्षण को लेकर किसी राजनीतिक मांग से इसे झटका लगेगा। उद्योग पहले से ही वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू करने की चुनौतियों से निपट रहा है, साथ ही नोटबंदी के अल्पकालिक असर का भी सामना कर रहा है। उन्होंने कहा, "राजनीतिक दलों को इसकी बजाए कि वे घरेलू और वैश्विक निवेशकों को गलत संकेत दें, ऐसा वातावरण बनाने पर ध्यान देना चाहिए, जिससे देश के आर्थिक गति को मदद मिले और निजी और सरकारी दोनों ही क्षेत्रों में लाखों नौकरियां पैदा हो।"



उन्होंने आगे कहा, एसोचैम हमेशा समाज के पिछड़े तबकों के लिए प्रभावी कदम उठाने पर जोर देता है। ऐसा ही विचार देश भर के भारतीय कारोबारी जगत का है, जो राष्ट्र निर्माण और आर्थिक वृद्धि में अमूल्य योगदान दे रहे हैं। हम अपने सदस्यों से स्थानीय उम्मीदवारों को रखने में वरीयता देने, उन्हें प्रशिक्षित करने की सलाह देते हैं। उन्होंने आगे कहा, "भारत बहुराष्ट्रीय कंपनियों का प्रमुख गंतव्य है और यहां व्यापार का वातारवण दोस्ताना बनाए रखने के लिए सभी उपाय करने चाहिए।



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें