Breaking News
संगीतकार गायक पंकज मालिक की पुण्य तिथि पर         ||           हार्दिक पटेल ने कहा देश तोड़ने की राजनीति करने वालों से राष्ट्रभक्ति का सार्टिफिकेट नहीं चाहिए         ||           करण जौहर की 'रणभूमि' 2020 में दिवाली पर होगी रिलीज         ||           रोजर फेडरर एटीपी रैंकिंग में नडाल को पछाड़कर शीर्ष पर पहुंचे         ||           रीता जोशी ने कहा उप्र की नई पर्यटन नीति से लोगों को मिलेगा रोजगार         ||           ड्युम्नी ने कहा साझेदारी की कमी से हारे         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने कहा भारत प्रौद्योगिकी का फायदा उठाने की बेहतर स्थिति में         ||           सेंसेक्स 236 अंकों की गिरावट पर बंद         ||           मालदीव के राष्ट्रपति ने आपातकाल के विस्तार के लिए कहा         ||           मप्र में भाजपा के राज्यमंत्री छेड़छाड़ मामले में फंसे, पार्टी ने किया निलंबित         ||           गुंडप्पा विश्वनाथ ने कहा कोहली तोड़ सकते हैं सारे रिकॉर्ड         ||           एक खुबसूरत द्वीप सिर्फ महिलाओ के लिये, लेकिन कीमत भी है भारी भरकम !         ||           वेंकैया नायडू ने कहा विभिन्न जाति, संप्रदाय, धर्म, लिंग के बावजूद, भारत एक है         ||           आज का दिन :         ||           जेडीयू ने कहा भ्रष्टाचार की विरासत संभालने के लिए 'दंडवत' हो रहे तेजस्वी         ||           भाजपा ने गोरखपुर से उपेंद्र शुक्ल, फूलपुर से कौशलेंद्र पटेल को उम्मीदवार बनाया         ||           पाकिस्तानी विदेश मंत्री ख्वाजा रूस दौरे पर जाएंगे         ||           कतर ओपन जीतीं क्वितोवा, शीर्ष-10 में होगी वापसी         ||           हार्दिक पटेल मप्र में भाजपा के लिए मुसीबत बनेंगे         ||           मलेशिया में केबल कारों में फंसे 89 पर्यटकों को सकुशल निकाला गया         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> जीएसटी लागू करने से आई 'अस्थायी मंदी' : एसोचैम-ईवाई सर्वेक्षण

जीएसटी लागू करने से आई 'अस्थायी मंदी' : एसोचैम-ईवाई सर्वेक्षण


admin ,Vniindia.com | Sunday November 12, 2017, 04:48:45 | Visits: 49







नई दिल्ली, 12 नवंबर | इस साल जुलाई में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू करने से कारोबार में 'अस्थायी मंदी' आई है। हालांकि सरकार ने इस पर विचार किया है और व्यापार में सुधार के लिए कई कदम उठाए हैं। एसोचैम-ईवाई के संयुक्त अध्ययन में यह जानकारी दी गई है। 



एसोचैम और ईवाई द्वारा संयुक्त रूप से किए गए अध्ययन 'चिंतन, परिवर्तन, कार्यान्वयन : भारत में निवेश' शीर्षक रिपोर्ट में कहा गया, "लेकिन एक आम सहमति यह है कि भारत आनेवाले समय में सतत विकास के पथ पर अग्रसर है। इसमें कहा गया कि जीएसटी लागू होने के बाद राज्यों के बीच के कई जांच बैरियर हट गए हैं और केंद्रीय बिक्री कर (सीएसटी) की लागत नहीं लगती, राज्यों के बीच माल की आवाजाही आसान हुई है। इस अध्ययन में यह भी कहा गया कि जीएसटी ने देश में कारोबार के सभी पहलुओं पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाला है, जिसमें आपूर्ति श्रृंखला और वितरण निर्णयों, माल सूची लागत और नकदी का प्रवाह, कीमत निर्धारण नीति, लेखा और लेनदेन प्रबंधन शामिल है।



इसमें आगे कहा गया कि जीएसटी, जीएसटी-पूर्व शासन के तहत तय किए गए अनुबंधों की कीमतों पर असर डालेगा और जीएसटी-शासन के तहत उन अनुबंधों पर आंशिक या पूरी तरह क्रियान्वयन होने का प्रस्ताव है। इसमें कहा गया, "साथ ही, जीएसटी के लागू होने से कर के कम लागत के कारण समग्र प्रक्रिया में कमी आनी चाहिए। एसोचैम-ईवाई रिपोर्ट में सलाह दी गई है कि केंद्र और राज्य सरकारों को निवेश की संभावनाओं को और मजबूत करने के लिए निवेशकों के अनुकूल नीतियां बनानी चाहिए। इसमें कहा गया, "सरकार लगातार देश में कारोबार का वातावरण सुधारने पर ध्यान दे रही है। लेकिन निवेश को आकर्षित करने के लिए इसमें महत्वपूर्ण सुधार की जरूरत है। इसमें कहा गया कि निवेशकों को जटिल कानूनी ढांचे से परेशानी होती है, इसलिए सरकार को न्यायिक सुधार करना चाहिए। -आईएएनएस



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें