Breaking News
रविशंकर प्रसाद ने कहा आतंक और कट्टरता के लिए न हो सोशल मीडिया का इस्तेमाल         ||           रानिल विक्रमसिंघे ने कहा पारदर्शिता साइबर स्पेस का अभिन्न अंग         ||           नागपुर टेस्ट में एक बार फिर पिच के तेज गेंदबाजों के अनुकूल होने की उम्मीद         ||           सेंसेक्स 27 अंकों की तेजी पर बंद         ||           फिल्म 'पद्मावती' को ब्रिटेन में 1 दिसंबर को रिलीज करने की मंजूरी         ||           एशेज टेस्ट में विंस और स्टोनमैन के अर्धशतकों के बाद आस्ट्रेलियाई गेंदबाजों की वापसी         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने श्रीलंका के प्रधानमंत्री से मुलाकात की         ||           राष्ट्रपति कोविंद ने दिवालियापन संहिता अध्यादेश को दी मंजूरी         ||           भारतीय बास्केट में कच्चे तेल की कीमत 61.54 डॉलर प्रति बैरल         ||           पीवी सिंधु हांगकांग ओपन के क्वार्टर फाइनल में         ||           अब गुजरात विधानसभा चुनाव में होगी 'मन की बात, चाय के साथ'         ||           उप्र के अल्पसंख्यक मंत्री मोहसिन रजा का निकाह पंजीकरण रद्द         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने कहा सुनिश्चित करना होगा, विरोधी ताकतें डिजिटल स्पेस को खेल का मैदान न बनाएं         ||           श्री केनेथ इयॉन जस्टर ने संभाला भारत मे अमरीका के राजदूत का कार्यभार         ||           शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा मानुषी छिल्लर ने हमें गौरवान्वित किया         ||           कंगना रनौत 'मणिकर्णिका' के सेट पर घायल हुईं         ||           मिस्र की वायु सेना ने हथियारों से लदे 10 वाहन नष्ट किए         ||           परिणीति चोपड़ा ने कहा हमेशा से 'मास एंटरटेनर' का हिस्सा बनना चाहती थी         ||           कश्मीर में पहली बार पथराव करने वालों के खिलाफ एफआईआर वापस होगी         ||           उप्र में तेज धूप, कोहरे और ठंड से राहत         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> एनएसजी सदस्यता-चीन के निरंतर विरोध के बीच अमरीका फिर भारत के साथ

एनएसजी सदस्यता-चीन के निरंतर विरोध के बीच अमरीका फिर भारत के साथ


Vniindia.com | Tuesday June 21, 2016, 11:25:13 | Visits: 302







वाशिंगटन,21 जून (अनुपमाजैन/वीएनआई) चीन द्वारा परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में भारत की सदस्यता के लगातर विरोध के बीच अमरीका एक बार फिर इस 48 सदस्यीय विशिष्ट समूह के लिये भारत की सदस्यता के समर्थन मे आगे आया है. अमेरिका ने एनएसजी के सदस्यों से कल कहा कि वे सोल में शुरू होने वाली अपनी बैठक के दौरान एनएसजी में शामिल होने संबंधी भारत के आवदेन पर विचार करें और उसे समर्थन दें. व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जोश अर्नेस्ट ने नियमित संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘ पिछले कुछ समय से अमेरिका की यही नीति रही है कि भारत सदस्यता के लिए तैयार है. अमेरिका एन एस जी देशो से अपील करता है कि वे एनएसजी की पूर्ण बैठक में भारत के आवेदन को समर्थन दें.''यह बैठक फिलहाल दक्षिण कोरिया की राजधानी सोल मे चल रही है जिसमे भारत की तमाम उम्मीदो पर पानी फेरते हुए चीन ने फिर भारत के खिलाफ लामबंदी की है.चीन ने कहा है कि दक्षिण कोरिया के सोल में हो रही परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह यानी एनएसजी की बैठक के एजेंडे में भारत को इसकी सदस्यता देने का मुद्दा शामिल नहीं है. चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता होवा चुनिइंग ने कहा कि एनएसजी की वार्षिक बैठक में नये सदस्यों को शामिल किया जाना एजेंडे में कभी नहीं रहा. उन्होंने कहा कि बिना परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर किये भारत को इसकी सदस्यता नहीं मिलनी चाहिए और अगर उसे इसकी सदस्यता मिलती है तो अन्य दूसरे देशों जिन्होंने परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर नहीं किये हैं उन्हें भी सदस्यता मिलनी चाहिए.

अर्नेस्ट ने कहा, ‘‘ किसी भी आवेदक को समूह में शामिल करने के लिए भाग लेने वाली सरकारों को सर्वसम्मति से निर्णय पर पहुंचने की आवश्यकता होगी और अमेरिका भारत की सदस्यता की निश्चित रुप से वकालत करेगा.'' अर्नेस्ट का बयान ऐसे समय में आया है जब चीन ने कहा है कि भारतीय की सदस्यता का मामला एनएसजी की बैठक के एजेंडे में नहीं है. अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने प्रवक्ता जॉन किर्बी ने भी एक अन्य संवाददाता सम्मेलन में अर्नेस्ट की बात दोहराई.वी एन आई

Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें