Breaking News
मायावती ने कहा भाजपा सरकार के दलित-विरोधी रवैये का परिणाम है कालपी की घटना         ||           कांग्रेस ने बीएचयू मामले में मोदी-योगी का पुतला फूंका, सिर मुंड़ाया         ||           मोदी और शाह ने बीएचयू की घटना पर योगी से बात की         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने कहा भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ाई जारी, मेरा कोई रिश्तेदार नहीं         ||           बीएचयू मामले में सपाई गिरफ्तार, अखिलेश ने कहा 'डंडे मातरम'         ||           चोटिल एश्टन भारत के खिलाफ जारी वनडे सीरीज से बाहर हुए         ||           भारतीय बास्केट में कच्चे तेल की कीमत 55.77 डॉलर प्रति बैरल         ||           सेंसेक्स 296 अंकों की गिरावट पर बंद         ||           भारत दौरे के लिए न्यूजीलैंड टीम की घोषणा, नीशम और ब्रूम बाहर         ||           बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने अर्थव्यवस्था की प्रशंसा की, राहुल गाँधी पर बोला हमला         ||           नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक रूप में राजीव महर्षि ने शपथ ली         ||           पीवी सिंधु पद्म भूषण, पहलवान जाधव पद्म श्री के लिए नामांकित         ||           आज का दिन :         ||           अंतर्राष्ट्रीय संसदों को पत्र भेजकर उत्तर कोरिया ने डोनाल्ड ट्रंप की निंदा की         ||           डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया सहित 8 देशों पर यात्रा प्रतिबंध लगाया         ||           पूर्व पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ पाकिस्तान लौटे         ||           तृणमूल से मुकुल रॉय 6 साल के लिए निलंबित         ||           मुकुल रॉय ने तृणमूल कांग्रेस छोड़ने का ऐलान किया         ||           कांग्रेस ने बीएचयू हिंसा पर मोदी की चुप्पी पर उठाए सवाल         ||           मुलायम ने कहा अखिलेश मेरा बेटा है, लेकिन उसके निर्णयों से सहमत नहीं         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> एनएसजी सदस्यता-चीन के निरंतर विरोध के बीच अमरीका फिर भारत के साथ

एनएसजी सदस्यता-चीन के निरंतर विरोध के बीच अमरीका फिर भारत के साथ


Vniindia.com | Tuesday June 21, 2016, 11:25:13 | Visits: 271







वाशिंगटन,21 जून (अनुपमाजैन/वीएनआई) चीन द्वारा परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में भारत की सदस्यता के लगातर विरोध के बीच अमरीका एक बार फिर इस 48 सदस्यीय विशिष्ट समूह के लिये भारत की सदस्यता के समर्थन मे आगे आया है. अमेरिका ने एनएसजी के सदस्यों से कल कहा कि वे सोल में शुरू होने वाली अपनी बैठक के दौरान एनएसजी में शामिल होने संबंधी भारत के आवदेन पर विचार करें और उसे समर्थन दें. व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जोश अर्नेस्ट ने नियमित संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘ पिछले कुछ समय से अमेरिका की यही नीति रही है कि भारत सदस्यता के लिए तैयार है. अमेरिका एन एस जी देशो से अपील करता है कि वे एनएसजी की पूर्ण बैठक में भारत के आवेदन को समर्थन दें.''यह बैठक फिलहाल दक्षिण कोरिया की राजधानी सोल मे चल रही है जिसमे भारत की तमाम उम्मीदो पर पानी फेरते हुए चीन ने फिर भारत के खिलाफ लामबंदी की है.चीन ने कहा है कि दक्षिण कोरिया के सोल में हो रही परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह यानी एनएसजी की बैठक के एजेंडे में भारत को इसकी सदस्यता देने का मुद्दा शामिल नहीं है. चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता होवा चुनिइंग ने कहा कि एनएसजी की वार्षिक बैठक में नये सदस्यों को शामिल किया जाना एजेंडे में कभी नहीं रहा. उन्होंने कहा कि बिना परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर किये भारत को इसकी सदस्यता नहीं मिलनी चाहिए और अगर उसे इसकी सदस्यता मिलती है तो अन्य दूसरे देशों जिन्होंने परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर नहीं किये हैं उन्हें भी सदस्यता मिलनी चाहिए.

अर्नेस्ट ने कहा, ‘‘ किसी भी आवेदक को समूह में शामिल करने के लिए भाग लेने वाली सरकारों को सर्वसम्मति से निर्णय पर पहुंचने की आवश्यकता होगी और अमेरिका भारत की सदस्यता की निश्चित रुप से वकालत करेगा.'' अर्नेस्ट का बयान ऐसे समय में आया है जब चीन ने कहा है कि भारतीय की सदस्यता का मामला एनएसजी की बैठक के एजेंडे में नहीं है. अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने प्रवक्ता जॉन किर्बी ने भी एक अन्य संवाददाता सम्मेलन में अर्नेस्ट की बात दोहराई.वी एन आई

Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें