Breaking News
केजरीवाल ने कहा पहले कांग्रेस ने घोटाले किए, अब भाजपा कर रही         ||           अभिनेत्री मनोरमा की याद में         ||           भारत की नजरें जोहान्सबर्ग टी-20 में अब एक और ऐतिहासिक जीत पर         ||           यश चोपड़ा मेमोरियल अवॉर्ड से आशा भोंसले सम्मानित         ||           स्वामी प्रसाद मौर्य के भतीजे सहित कई दिग्गज सपा में शामिल         ||           कोहली ने कहा अभी मुझमें 8-9 साल की क्रिकेट बाकी है         ||           जे.कृष्णामूर्ति :         ||           अरविंदर सिंह लवली की कांग्रेस में वापसी         ||           फिलिस्तीन और इजराइल संतुलन के साथ प्रगाढ़ता         ||           मोदी और रूहानी ने द्विपक्षीय सहयोग और क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा की         ||           ईरान के राष्ट्रपति से सुषमा स्वराज ने मुलाकात की         ||           मेघना नायडू लंबे अर्से बाद बांग्ला फिल्म से जुड़ीं         ||           उप्र में सुबह तेज धूप निकली         ||           शेयर बाजार बीते सप्ताह सपाट बंद (साप्ताहिक समीक्षा)         ||           भंसाली ने कहा जौहर दृश्य भावनात्मक रूप से ज्यादा चुनौतीपूर्ण था         ||           अलगाववादियों के विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर श्रीनगर में प्रतिबंध         ||           राजधानी दिल्ली में सुबह धुंध छाई         ||           फ्लोरिडा गवर्नर ने कहा एफबीआई निदेशक को इस्तीफा देना चाहिए         ||           डोनाल्ड ट्रंप फ्लोरिडा अस्पताल में घायलों से मिले         ||           मेक्सिको में भूकंप के तेज झटके         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> एनएसजी सदस्यता-चीन के निरंतर विरोध के बीच अमरीका फिर भारत के साथ

एनएसजी सदस्यता-चीन के निरंतर विरोध के बीच अमरीका फिर भारत के साथ


Vniindia.com | Tuesday June 21, 2016, 11:25:13 | Visits: 342







वाशिंगटन,21 जून (अनुपमाजैन/वीएनआई) चीन द्वारा परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में भारत की सदस्यता के लगातर विरोध के बीच अमरीका एक बार फिर इस 48 सदस्यीय विशिष्ट समूह के लिये भारत की सदस्यता के समर्थन मे आगे आया है. अमेरिका ने एनएसजी के सदस्यों से कल कहा कि वे सोल में शुरू होने वाली अपनी बैठक के दौरान एनएसजी में शामिल होने संबंधी भारत के आवदेन पर विचार करें और उसे समर्थन दें. व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जोश अर्नेस्ट ने नियमित संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘ पिछले कुछ समय से अमेरिका की यही नीति रही है कि भारत सदस्यता के लिए तैयार है. अमेरिका एन एस जी देशो से अपील करता है कि वे एनएसजी की पूर्ण बैठक में भारत के आवेदन को समर्थन दें.''यह बैठक फिलहाल दक्षिण कोरिया की राजधानी सोल मे चल रही है जिसमे भारत की तमाम उम्मीदो पर पानी फेरते हुए चीन ने फिर भारत के खिलाफ लामबंदी की है.चीन ने कहा है कि दक्षिण कोरिया के सोल में हो रही परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह यानी एनएसजी की बैठक के एजेंडे में भारत को इसकी सदस्यता देने का मुद्दा शामिल नहीं है. चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता होवा चुनिइंग ने कहा कि एनएसजी की वार्षिक बैठक में नये सदस्यों को शामिल किया जाना एजेंडे में कभी नहीं रहा. उन्होंने कहा कि बिना परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर किये भारत को इसकी सदस्यता नहीं मिलनी चाहिए और अगर उसे इसकी सदस्यता मिलती है तो अन्य दूसरे देशों जिन्होंने परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर नहीं किये हैं उन्हें भी सदस्यता मिलनी चाहिए.

अर्नेस्ट ने कहा, ‘‘ किसी भी आवेदक को समूह में शामिल करने के लिए भाग लेने वाली सरकारों को सर्वसम्मति से निर्णय पर पहुंचने की आवश्यकता होगी और अमेरिका भारत की सदस्यता की निश्चित रुप से वकालत करेगा.'' अर्नेस्ट का बयान ऐसे समय में आया है जब चीन ने कहा है कि भारतीय की सदस्यता का मामला एनएसजी की बैठक के एजेंडे में नहीं है. अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने प्रवक्ता जॉन किर्बी ने भी एक अन्य संवाददाता सम्मेलन में अर्नेस्ट की बात दोहराई.वी एन आई

Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें