Breaking News
सेनेगल ने फीफा विश्व कप में पोलैंड को 2-1 से दी मात         ||           ओसाको के हेडर गोल से फीफा विश्व कप में जापान का विजयी आगाज         ||           महबूबा ने कहा कश्मीर में जोर-जबरदस्ती की नीति कारगर नहीं होगी         ||           राहुल गांधी का जन्मदिन कांग्रेस ने मनाया         ||           कांग्रेस ने कहा भाजपा ने कश्मीर को बर्बाद कर दिया         ||           उमर अब्दुल्ला ने कहा जम्मू-कश्मीर में सरकार बनाने का जनादेश नहीं         ||           श्रीलंका और वेस्टइंडीज के बीच सेंट लूसिया टेस्ट ड्रॉ पर समाप्त         ||           ओवैसी ने कहा राज्यपाल शासन से कश्मीर में हालात सामान्य नहीं होंगे         ||           भारतीय महिला हॉकी टीम ने जीत के साथ किया स्पेन दौरे का समापन         ||           ममता बनर्जी ने राहुल को 48वें जन्मदिन पर बधाई दी         ||           शिवसेना के स्थापना दिवस पर ममता ने उद्धव को बधाई दी         ||           उमर अब्दुल्ला राज्यपाल वोहरा से मिलने पहुंचे         ||           शिवसेना ने कहा बीजेपी-पीडीपी गठबंधन राष्ट्र विरोधी था         ||           नितिन गडकरी 'सतत विकास के लिए जल 2018-2028’ में भाग लेने के लिए ताजिकिस्तान रवाना         ||           सेंसेक्स 262 अंकों की गिरावट पर बंद         ||           जम्मू एवं कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने इस्तीफा दिया         ||           जम्मू एवं कश्मीर में पीडीपी-बीजेपी गठबंधन टूटा         ||           नेपाल के प्रधानमंत्री चीन दौरे के लिए रवाना         ||           ओली ने कहा चीन के साथ सहयोग बढ़ाने का इच्छुक नेपाल         ||           मनीष सिसोदिया और जैन को अस्पताल से छुट्टी मिली         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> म्यांमार में आम चुनावो के नतीजे आज

म्यांमार में आम चुनावो के नतीजे आज


Vniindia.com | Monday November 09, 2015, 08:21:09 | Visits: 343







यांगून 9 नवंबर (वीएनआई) म्यांमार में 25 साल के लंबे अंतराल के बाद हुए ऐतिहासिक आम चुनाव के लिए कल (रविवार) को हुई वोटिंग के बाद आज दोपहर या शाम तक चरणबद्ध तरीके से आधिकारिक तौर पर नतीजों की घोषणा ्हो जाएगी। हालांकि चुनाव में 90 से ज्यादा दल लड़ रहे हैं, लेकिन मुख्य मुकाबला सू की की नेशनल लीग फोर डेमोक्रेसी पार्टी और वर्ष 2011 से सत्तारूढ़ यूनियन सोलिडेरिटी डेवलपमेंट पार्टी के बीच है जिसे सेना का समर्थन प्राप्त है, पर इस बार उम्मीद की जा रही है कि कई साल तक नजरबंद रहीं विपक्ष की नेता आंग सान सू की की पार्टी के इस चुनाव में जीत हासिल करेगी।
गौरतलब है कि सेना द्वारा बनाए गए संविधान के अनुसार राष्ट्रपति या उपराष्ट्रपति पद का चुनाव कोई ऐसा व्यक्ति नहीं लड़ सकता जिसके बच्चे विदेशी नागरिकता वाले हों इसलिये इस व्यवस्था के तहत ही विपक्ष की नेता आंग सान सूकी राष्ट्रपति या उपराष्ट्रपति का चुनाव नहीं लड़ सकतीं । सू की ने कहा, "यदि हम जीतते हैं और एनएलडी सरकार बनाती है तो मैं राष्ट्रपति से भी ऊपर रहूंगी। यह बहुत ही सामान्य संदेश है।"
उन्होने इस तरह की व्यवस्था से संविधान का उल्लंघन होने के आरोपों को भी उन्होंने नकार दिया है। सू की के ानुसार संविधान में राष्ट्रपति से ऊपर रहने वाले व्यक्ति के बारे में कुछ भी नहीं कहा गया है। विदेशी पति या पत्नी या बच्चों वाले नागरिक राष्ट्रपति पद के योग्य नहीं होंगे। म्यांमार की मीडिया के मुताबिक चुनाव जीतने पर निचले सदन के अध्यक्ष और एनएलडी के वरिष्ठ नेता या फिर सू की के निजी डॉक्टर राष्ट्रपति बन सकते हैं। हालांकि, सू की ने इसे सिरे से खारिज किया है।
म्यांमार की सत्तारूढ़ यूनियन सॉलिडेरिटी एंड डेवलपमेंट पार्टी से निष्कासित पूर्व जनरल श्वे मान ने संसद में सू की के साथ मिलकर काम करने की बात कही है। संसद में उनका खासा प्रभाव माना जाता है। सू की के साथ नजदीकी रिश्तों के चलते पार्टी से निकाले जा चुके मान ने कहा कि अगली संसद में भी उन दोनों के बीच सहयोग जारी रहेगा। मतलब यह है कि चुनाव में पर्याप्त बहुमत नहीं मिलने पर वह सू की की पार्टी का समर्थन करेंगे।
उल्लेखनीय है कि म्यांमार में तकरीबन तीन करोड मतदाता हैं ,यह चुनाव संसद की केवल 75 फीसदी सीटों के लिए कराया गया, एक चौथाई सीटें गैर निर्वाचित सैनिक अधिकारियों के नॉमिनेशन के जरिए भरी जाएंगी। संसद आैर क्षेत्रीय असेंबली की एक हजार सीटों के लिए राजनीतिक दलों के कुल 6038 आैर 310 निर्दलीय उम्मीदवारों ने चुनाव लडा है।चूंकि चुनाव में 40 लाख वोटर्स अपने अधिकार का इस्तेमाल नहीं कर पाए इससे इस चुनाव के निष्पक्षता को लेकर कुछ सवाल ्भी हैं। एनएलडी ने मतदान से पहले आरोप लगाया था कि कुछ इलाकों में भारी संख्या में अतिरिक्त वोटिंग टिकट जारी किए गए। फिर भी माना जा रहा है कि 80 फीसदी नागरिकों ने मतदान किया है और इसे सैन्य शासन पर लोकतंत्र की जीत के के लिये शुभ संकेत माना हा रहा है


Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें