Breaking News
विदेशी पूंजी भंडार देश में 1.82 अरब डॉलर घटा         ||           राहुल गांधी ने केरल बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने बाढ़ प्रभावित केरल को 500 करोड़ रुपये की मदद का ऐलान किया         ||           आज का दिन : एशियन गेम्स         ||           नवजोत सिंह सिद्धू पाक आर्मी चीफ से मिले गले         ||           इमरान खान ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की शपथ ली         ||           कर्नाटक में बाढ़ जैसे हालात, तीन लोगों की मौत         ||           गुजरात में ट्रक-ऑटो की टक्कर से 5 लोगों की मौत         ||           इमरान खान आज पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे         ||           प्रधानमंत्री मोदी बाढ़ के हालात का जायजा लेने देर रात केरल पहुंचे         ||           बॉलिवुड स्टार केरल बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आए         ||           अलविदा अटलजी : कर्तव्य पथ         ||           किम जोंग-उन ने कहा ‘शत्रुतापूर्ण ताकतें’ कोरियाई जनता को बर्बाद करना चाहती है         ||           इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह के लिए नवजोत सिंह सिद्धू पाकिस्तान रवाना         ||           पंचतत्व में विलीन हो गए अटल बिहारी वाजपेयी         ||           सेंसेक्स 284 अंक की तेजी पर बंद         ||           अटल बिहारी को ज्योतिरादित्य सिंधिया ने माथा टेककर किया नमन         ||           पाकिस्तान में भी वाजपेयी के निधन से दुख की लहर         ||           वीरेंद्र सहवाग और मोहम्मद कैफ केरल में बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आए         ||           अटल बिहारी वाजपेयी की बायॉपिक बन रही है 'युगपुरुष अटल'         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> जूनागढ़ किला: तपते रेगिस्तान में 'बादल महल' की ठंडी हवाएं...

जूनागढ़ किला: तपते रेगिस्तान में 'बादल महल' की ठंडी हवाएं...


Vniindia.com | Sunday September 13, 2015, 12:21:12 | Visits: 4769







बीकानेर 29 अक्टूबर (साधनाअग्रवाल,वीएनआई) मरूभूमि राजस्थान की तपती दोपहरी... बीकानेर का जूनागढ़ किला...एक भव्य किला जो अपराजेय शक्ति के साथ स्वाभिमान ्के साथ खड़ा है. इसी किले मे भरी दोपहरी मे किले के भ्रमण के दौरान पसीने से तरबतर अचानक बादलो के दर्शन होते है, महल के उंचाई पर पहुंचते ही अचानक ठंडी हवा के झकोरे आपको तरोताजा कर देते है, एक बेहद सुखद एहसास. यह है बीकानेर के जूनागढ़ किले का 'बादल महल'. जूनागढ किला आज भी गर्व से यह किला अपना इतिहास बयान करता है और कहता है कि मुझे कभी कोई शासक हरा नहीं पाया। कहते है इतिहास में सिर्फ एक बार किसी गैर शासक द्वारा इस भव्य किले पर कब्जा किए जाने के प्रयास का जिक्र होता है। कहा जाता है कि मुगल शासक कामरान जूनागढ़ की गद्दी हथियाने और किले पर फतह करने में कामयाब हो गया था। लेकिन 24 घंटे के अंदर ही उसे सिंहासन छोड़ना पड़ा। इसके अलावा कहीं कोई उल्लेख नहीं मिलता कि जूनागढ़ को किसी शासक ने फतेह करने के मंसूबे बनाए हों और वह कामयाब हुआ हो।
बरसात को तरसते रेगिस्तानी राजस्थान, खास तौर पर उस पुराने दौर मे जब बारिश राजस्थान के लिये त्योहार होती थी, उस दौर मे राज्य के शाही किलो मे बादल महल बना कर बरसात का एहसास राजा महाराजा किया करते थे, जयपुर, नागौर किलो सहित अनेक किलो मे बने बादल महल इसका उदाहरण है .लेकिन बीकानेढ के जूनागढ किला खास तौर पर बने बादल महल के लिये काफी चर्चित है जूनागढ़ दुर्ग परिसर में खासी उंचाई पर बने इस भव्य महल को किले में सबसे ऊंचाई पर स्थित होने के कारण बादल महल कहा जाता है। महल में पहुंचकर वाकई लगता है जैसे आप आसमान के किसी बादल पर आ गए हों। नीले रंग के बादलो से सजी दीवारे, बर्खा की फुहरो का अहसास दिलाती है, यहां बहने वाली ताजा हवा पर्यटकों की सारी थकान छू कर देती है। इस शानदार महल की स्थापत्य कला अद्भुत है। महल की दीवारों पर प्राकृतिक रंगों से शानदार पेंटिंग की गई है। कई सदियां गुजर जाने के बाद भी इन रं तरसतेगों की ताजगी और खूबसूरती दिल से महसूस की जा सकती है। महल की पेंटिंग्स बारिश के मौसम में राधा और कृष्ण के प्रेम की अधीरता और पूर्णता को एक साथ बयान करने में सक्षम है। इस महल में राजा अपनी रानी के साथ खास समय बिताते थे। यहां की ।पांच शताब्दी से अधिक प्राचीन बीकानेर के जूनागढ किले को सर्वश्रेष्ठ दुर्ग मानते हुए अमेरिका की प्रतिष्ठित ट्रेवल एजेन्सी ’’ट्रिप एडवाइजर’’ ने ’’ हाल ही मे सर्टिफिकेट ऑफ एक्सीलेन्स-2015’’ सम्मान से सम्मानित किया है। पर्यटन ु्क्षेत्र से जुड़े विशेषज्ञो के अनुसार जूनागढ़ को सम्मान मिलने पर बीकानेर ही नहीं राजस्थान व भारत का गौरव बढ़ा है ।
महाराजा राय सिंह ट्रस्ट की ओर से संचालित जूनागढ़ किले को ट्रिप एडवाइजर’’ ने अनेक मानदंडों के आधार पर यह सम्मान प्रदान किया है। इनमें पर्यटकों को मिलने वाली मेहमानबाजी, आधारभूत सुविधा, प्राचीनता, स्थापत्य कला आदि को ध्यान में रखते हुए देश के विभिन्न किलो के सर्वे के बाद इसे पुरस्कार से नवाजा है।
किले को मिली इस उपलब्धि पर पूर्व राजमाता सुशीला कुमारी,राजकुमारी सिद्धी सिंह,राज्य् श्री सिंह जन प्रतिनिधियों, पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोगों, तथा ्स्थानीय नागरिकों ने खुशी जाहिर करते हुए इसे बीकानेर के पर्यटन विकास में महत्वपूर्ण उपलŽिध बताया है। जूनागढ़ के विकास में महाराजा राय सिंह ट्रस्ट के साथ स्थानीय जिला प्रशासन व पर्यटन विभाग ने समय-समय पर महत्वपूर्ण योगदान दिया है। पर्यटको के लिये विशेष तौर पर ऑडियो गाइड हिन्दी, अंग्रेजी, जर्मन व फ्रैंच भाषा में जूनागढ़ के वैभव की जानकारी देता है।
बीकानेर के छठे शासक राजा रायसिंह ने नया दुर्ग चिंतामणि (वर्तमान जूनागढ़) को ईस्वी सन् 1589-1593 के बीच बनवाया। पूर्व में बीकानेर रियासत के राजाओं का बीकानेर में ही प्रवास रहता था। बीकानेर रियासत के अब तक हुए 24 राजाओं में से ज्यादातर सभी राजाओं ने इसके विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।जूनागढ़ किला बीकानेर का एक बड़ा आकर्षण है। इसे महाराजा राय सिंह ने बनवाया था। इतिहास इस पूरे किले से बहुत गहरी जड़ों तक जुड़ा है इसलिए सैलानी इसकी ओर बहुत आकर्षित होते हैं। यह किला पूरी तरह से थार रेगिस्तान के लाल बलुआ पत्थरों से बना है। हालांकि इसके भीतर संगमरमर का काम किया गया है। इस किले में देखने लायक कई शानदार चीजे़ं हैं। यहां राजा की समृद्ध विरासत के साथ उनकी कई हवेलियां और कई मंदिर भी हैं। यहां के कुछ महलों में बादल महल सहित गंगा महल, फूल महल, आदि शामिल हैं। इस किले में एक संग्रहालय भी है जिसमें ऐतिहासिक महत्व के कपड़े, चित्र और हथियार भी हैं। यह संग्रहालय सैलानियों के लिए राजस्थान के खास आकर्षणों में से एक है। यहां आपको संस्कृत और फारसी में लिखी गई कई पांडुलिपियां भी मिल जाएंगी।


जूनागढ़ किले के अंदर बना संग्रहालय बीकानेर और राजस्थान में सैलानियों के लिए सबसे बड़ा आकर्षण है। इस किला संग्रहालय में कुछ बहुत ही दुर्लभ चित्र, गहने, हथियार, पहले विश्व युद्ध के बाइप्लेन आदि हैैं
इतिहासकारो के अनुसार इस दुर्ग के पाये की नींव 30 जनवरी 1589 को गुरुवार के दिन डाली गई। इसकी आधारशिला 17फरवरी 1589को रखी गई। इसका निर्माण 17 जनवरी 1594 गुरुवार को पूरा हुआ। स्थापत्य, पुरातत्व व ऐतिहासिक दृष्टि से महत्वपूर्ण इस किले के निर्माण में तुर्की की शैली अपनागई गई, जिसमें दीवारें अंदर की तरफ झुकी हुई होती हैं। दुर्ग में निर्मित महल दिल्ली, आगरा व लाहौर स्थिति महलों की भी झलक मिलती है।
दुर्ग चतुष्कोणीय आकार में है जो 1078 गज की परिधि में निर्मित है तथा इसमें औसतन 40 फीट ऊंचाई तक के 37 बुर्ज हैं जो चारों तरफ से दीवार से घिरे हुए हैं। इस दुर्ग के दो प्रवेश द्वार हैं करण प्रोल व चांद प्रोल। करण पोल पूर्व दिशा में बनी है जिसमें चार द्वार हैं तथा चांद पोल पश्चिम दिशा में बनी हैजो एक मात्र द्वार धु्रव पोल से संरक्षित है। सभी पोलों का नामकरण बीकानेर के शाही परिवार के प्रमुख शासकों एवं राजकुमारों के नाम पर किया गया है। इसमें से कई प्रोल ऐसी हैं जो दुर्ग को संरक्षित करती हैं। पुराने जमाने में कोई भी युद्घ तब तक जीता हुआ नहीं माना जाता था जब तक कि वहां के दुर्गपर विजय प्राप्त न कर ली जाती । शत्रुओं को गहरी खाई को पार करना पड़ता था, उसके बाद मजबूत दीवारों को पार करना होता थज्ञ। तब कहीं जाकर दुर्ग में प्रवेश करने के लिए ्पोलों को अपने क्बजे में लेना होता था। प्रोलों के दरवाजे बहुत ही भारी व मजबूत लकड़ी के बने हुए है इसमें ठोस लोहे की भाले नुमा कीलें लगी हुई है ।
दुर्ग के सूरजप्रोल मुख्य द्वार रही है इसका निर्माण महाराजा गजसिंह के शासन काल में किया गया। प्रोल के निर्माण के लिए पत्थर जैसलमेर से लाया गया। सूरज प्रोल आकर्षक मेहराबदार बड़े कमरे के आकार में बनी है जो दोनों तरफ खुलती है । इस प्रोल के पास भगवान गणेशजी का मंदिर होने के कारण इसको गणेश प्रोल के नाम से जाना जाता है। प्रोल से निकलते ही देवी द्वारा है जिसे देवी नवदुर्गा मंदिर भी कहा जाता है। देवी द्वारे के पिछवाड़े जनानी ड्योढ़ी एवं पीपलियों का चौक है। जनानी ड्योढ़ी से अतीत से आज धूमधाम से गणगौर व तीजमाता की सवारी निकलती है। इसके अलावा मर्दानी ड्योढ़ी, हुजूर की पैड़ी अपने आप में इतिहास व अतीत की अनेक घटनाओं का स्मरण दिलाती है।
बीकानेरी दुलमेरा के लाल पत्थर से निर्मित तीन मंजिला दलेल निवास का निर्माण महाराजा गंगासिंह ने करवाया था। महाराजा दलेल सिंह , महाराजा गंगासिंह के पितामह थे। दलेल निवास के सामने एक गहरा कुआं है जिसे ’’रामसर’ के नाम से जाना जाता है। जूनागढ़ के विक्रम विलास की पैड़ी, लाल पत्थर से बनी आज भी पर्यटकों को आकर्षित करती है। जूनागढ़ के तैंसीस करोड़ देवी देवताओं का मंदिर भी आस्था व विश्वास का केन्द्र बना है। इसमें महाराजा अनूप सिंह द्वारा द€िकन से ला गई गई 700 बहूमूल्य कांस्य प्रतिमांए प्रतिस्थित है। मीना ड्योढ़ी, करण महल, कुंवर पदा महल, अनूप महल, फूल महल, बादल महल, चन्दर महल, राय निवास कचहरी, सरदार निवास (बादल महल), सुर मंदिर चौबारा, गज मंदिर, चतर निवास, डूंगर निवास, लाल निवास, गंगा निवास महल एवं गंगा निवास दरबार हाल में मुगल व बीकानेर की स्थापत्य व चित्रकला शैली को दर्शाया गया है।वी एन आई

Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें