Breaking News
सेंसेक्स 448 अंकों की गिरावट पर बंद         ||           प्रधानमंत्री मोदी दो दिनी दौरे पर बनारस पहुंचे         ||           अमिताभ ने कहा 'न्यूटन' आंख खोलने वाली फिल्म है         ||           उप्र के शाहजहांपुर में किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म         ||           श्रीकांत जापान ओपन के क्वार्टर फाइनल में हारे         ||           राष्ट्रपति कोविंद महाराष्ट्र के एकदिवसीय दौरे पर         ||           सर्वोच्च न्यायालय ने कहा गौरक्षक हिंसा मामले में पीड़ितों को मुआवजा दें राज्य         ||           प्रणव और सिक्की जापान ओपन के सेमीफाइनल में, प्रणॉय हारे         ||           राजकुमार राव का लोगों से मतदान करने का आग्रह         ||           बिहार में दो युवकों की गोली मारकर हत्या         ||           अंडर-17 फुटबाल विश्व कप के लिए कोलंबिया ने टीम चुनी         ||           न्यूजीलैंड की टीम फीफा अंडर-17 विश्व कप के लिए घोषित         ||           पारिवारिक विरासत ने जमीन से जोड़े रखा : जूनियर एनटीआर         ||           अभिनेता ताहा शाह ने 100 बार डायलॉग सुने         ||           टाइप-2 डायबिटीज से पीड़ित बुजुर्गो को फ्रैक्चर का जोखिम ज्यादा         ||           जम्मू एवं कश्मीर में गोलाबारी, 4 लोग घायल         ||           किम जोंग उन ने कहा ट्रंप मानसिक रूप से विक्षिप्त         ||           डोनाल्ड ट्रंप और थेरेसा के बीच ईरान, उत्तर कोरिया मुद्दे पर होगी चर्चा         ||           मेक्सिको में भूकंप से मरने वालों की संख्या 273 हुई         ||           राजधानी दिल्ली में आज सुबह बूंदाबांदी         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> क्रांतिकारी युवा संगठन ने च्वाईस आधारित क्रेडिट सिस्टम का विरोध करने का निश्चय किया

क्रांतिकारी युवा संगठन ने च्वाईस आधारित क्रेडिट सिस्टम का विरोध करने का निश्चय किया


Vniindia.com | Thursday March 12, 2015, 06:35:31 | Visits: 1067







नई दिल्ली, 03 मार्च, (वीएनआई) आज क्रन्तिकारी युवा संगठन (केवाईएस) के डीयू एसओएल छात्र संघ के कार्यकारी परिषद् ने एक मीटिंग में यह निश्चय किया कि आने वाले समय में स्कूल ऑफ़ ओपन लर्निंग के 4,50000 छात्र-छात्राएं च्वाईस आधारित क्रेडिट सिस्टम (सीबीसीएस) का विरोध करेंगे| ज्ञात हो कि एसओएल के कॉरेस्पोंडेंस छात्र पिछले लम्बे समय से रेगुलर इवनिंग कॉलेज के अधिकार को लेकर संघर्ष कर रहे हैं तथा च्वाईस आधारित क्रेडिट सिस्टम (सीबीसीएस) स्टूडेंट्स को रेगुलर रेगुलर कॉलेज का ‘च्वाईस’ नहीं देता|

क्रन्तिकारी युवा संगठन के अनुसार दिल्ली विश्वविद्यालय के अन्दर पहले से ही दो तरह के डिग्री कोर्स चल रहे हंस जो राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) का उल्लंघन है| जहाँ एक ओर रेगुलर कॉलेजों में सेमेस्टर सिस्टम है वहीँ दुसरे ओर स्कूल ऑफ़ ओपन लर्निंग में वार्षिक व्यवस्था है| च्वाईस आधारित क्रेडिट सिस्टम (सीबीसीएस) के आने से एसओएल के डिग्री कोर्स का अवमूल्यन होगा| इसके साथ-साथ एसओएल में पहले ही ‘च्वाईस’ का बहुत कम विकल्प है क्योंकि हिंदी, इतिहास, अर्थशास्त्र में स्नातक के कोर्स नहीं है|

संगठन के कार्यकर्ताओं ने साथ ही यह भी बताया की दिल्ली विश्वविधालय में सुधार इस समय ये होना चाहिए था कि नए कॉलेज/विश्वविद्यालय बनाये जाए| अभी देश के 82% युवा उच्च शिक्षा से बाहर हैं| सरकार मजदूर-गरीब किसानों के परिवारों से आये हुए युवाओं के बारे में बिलकुल भी चिंतित नहीं दिखती है|

Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें