Breaking News
जॉन अब्राहम ने कहा पहले असफलता से डरता था, लेकिन अब कोई डर नहीं         ||           सेंसेक्स 147 अंक की गिरावट पर बंद         ||           सरकार ने गन्ने का समर्थन मूल्य 255 से बढाकर 275 रुपये प्रति क्विंटल किया         ||           वायु सेना का मिग-21 एयरक्राफ्ट हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में दुर्घटनाग्रस्त         ||           इंग्लैंड के खिलाफ पहले तीन टेस्ट मैचों के लिए भारतीय टीम की घोषणा         ||           अविश्वास प्रस्ताव पर विपक्षी एकता के खिलाफ एनडीए सरकार की होगी पहली परीक्षा         ||           इमरान की पार्टी को आतंकी संगठन ने दिया समर्थन         ||           आरएलएलपी ने बीजेपी से बिहार में जदयू से अधिक सीटें और एनडीए नेता का पद मांगा         ||           पहलवान साजन ने जूनियर एशियाई चैंपियनशिप में जीता स्वर्ण         ||           कप्तान विराट कोहली ने कहा बल्लेबाज रहे हार की वजह         ||           राहुल गांधी ने भाजपा से पूछा, वो कौन है जो कमजोरों को तलाशकर कुचल देता है         ||           ग्रेटर नोएडा में इमारत गिरने से तीन की मौत         ||           संसद का मानसून सत्र आज से         ||           शेयर बाजार के शुरूआती कारोबार में तेजी का असर         ||           इंग्लैंड ने फिर पकड़ा जीत वाला रुट, भारत को 8 विकेट से हराकर सीरीज 2-1 से जीती         ||           कोहली और धोनी ने खेली जुझारू पारी, भारत ने इंग्लैंड को दिया 257 का लक्ष्य         ||           आज का दिन : कानन देवी         ||           शी जिनपिंग के पोस्टर पर स्याही फेंकने वाली चीनी महिला गिरफ्तार         ||           चुनाव आयोग ने लाभ का पद मामले में आप विधायकों को याचिकाकर्ता से जिरह करने की अनुमति नहीं दी         ||           स्वामी अग्निवेश पर भाजपा कार्यकर्ताओं का हमला         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> तीन पैरों के साथ पैदा हुई तीन साल की बच्ची ब बेहद जटिल सर्जरी के बाद अब दौड़ती, भागती है

तीन पैरों के साथ पैदा हुई तीन साल की बच्ची ब बेहद जटिल सर्जरी के बाद अब दौड़ती, भागती है


newsbharat ,Vniindia.com | Sunday April 30, 2017, 07:24:26 | Visits: 619







सिडनी, 30 अप्रैल (वी एन आई) बांग्लादेश की छोटी खातून तीन पैरों के साथ पैदा हुई,कुछ बड़ी होने पर व्ह बेबस सी बैठी बैठी अपने हम उम्र बच्चो को दौड़ते भागते देखा करती थे उस पर एक और त्रासदी थी कि वह ठीक से देख नेही पाती थी.लेकिन शुक्र है एक बेहद जटिल सर्जरी के बाद ये बच्ची अब दौड़ती, भागती है

बांग्लादेश में पैदा हुई और इलाज के लिए ऑस्ट्रेलिया के सिडनी लायी गयी छोटी बिलकुल ठीक स्वदेश लौट गयी।

शरीर में एक अतिरिक्त जुड़वा अंग बन जाने के कारण यह बच्ची तीन पैरों के साथ पैदा हुई थी और चलने फिरने में असमर्थ थी।

3 साल की इस बच्ची ्की बचने की बेहद कम सम्भावना थी। लेकिन उसे ऑस्ट्रेलिया की चिल्ड्रन फर्स्ट फाउंडेशन चैरिटी के द्वारा मेलबॉर्न लाया गया और फिर उसकी जिंदगी को बचाने और बेहतर बनाने का प्रयास शुरू हुआ।

मोनाश चिल्ड्रेन्स हॉस्पिटल के पेडियेट्रिक सर्जरी हेड क्रिस किम्बर ने बताया कि सर्जन की एक पूरी टीम ने उसकी शारीरिक संरचना को फिर से बनाने की प्रक्रिया का खाका तैयार करने में कई महीने लगाए और अंत में सर्जरी का फैसला लिया गया।किम्बर ने यह भी बताया कि जब छोटी ऑस्ट्रेलिया पहुंची थी तब वह कुपोषण का शिकार थी

यूरोप और अमेरिका के विशेषज्ञों के साथ परामर्श में कर रहे सर्जनों ने आख़िरकार एक ऐसी प्रक्रिया की योजना बनाई जिसमें अतिरिक्त तीसरे पैर के बचे हुए हिस्से को निकाल देना शामिल था - इस हिस्से को शुरुआत में बांग्लादेश में काटने की असफल कोशिश की गयी थी। साथ ही शरीर के सम्बंधित अंगों को दोबारा से डिस्कनेक्ट और रीकनेक्ट करना भी था।

यह सर्जरी बहुत ज्यादा जटिल और दुर्लभ थी। आख़िरकार इस सर्जरी को नवंबर में पूरा किया गया जिसमें लड़कियों के अंगों की जानकारी रखने वाले 8 विशेषज्ञ डॉक्टर लगातार 8 घंटों तक लगे रहे।

किम्बर ने बताया कि " हमने इसके लिए तीन से चार महीने सोचने में लगाए, साथ ही इस मामले को दुसरे डॉक्टरों के सामने भी रखा और विश्व भर से इसके लिए जानकारी हासिल की और फिर दुनियभर से हमें मिली रायों के आधार पर हम कुछ ऐसे तथ्यों तक पहुंचे जो यह काम करने में सक्षम थे। अब वह काफी ठीक है "

इस छोटी बच्ची को आंशिक रूप से कम भी दिखाई देता है लेकिन अस्पताल के नेत्र रोग विशेषज्ञ ने यह पाया कि उसकी दृष्टि में सुधार नहीं हो सकता। लेकिन पर्याप्त रूप से इतना तो दिखाई देता है कि वह अन्य दूसरे बच्चों की तरह दौड़ भाग कर सके।

बच्ची की 22 साल की मां शीमा खातून अब बेहद खुश हैं। उन्होंने कहा " अब सब कुछ ठीक है ... वह हर बच्चे की तरह खेल सकती है
सिडनी,३० अप्रैल (वी एन आई) बांग्लादेश की छोटी खातून तीन पैरों के साथ पैदा हुई,कुछ बड़ी होने पर व्ह बेबस सी बैठी बैठी अपने हम उम्र बच्चो को दौड़ते भागते देखा करती थे उस पर एक और त्रासदी थी कि वह ठीक से देख नेही पाती थी.लेकिन शुक्र है एक बेहद जटिल सर्जरी के बाद ये बच्ची अब दौड़ती, भागती है

बांग्लादेश में पैदा हुई और इलाज के लिए ऑस्ट्रेलिया के सिडनी लायी गयी छोटी बिलकुल ठीक स्वदेश लौट गयी।

शरीर में एक अतिरिक्त जुड़वा अंग बन जाने के कारण यह बच्ची तीन पैरों के साथ पैदा हुई थी और चलने फिरने में असमर्थ थी।

3 साल की इस बच्ची ्की बचने की बेहद कम सम्भावना थी। लेकिन उसे ऑस्ट्रेलिया की चिल्ड्रन फर्स्ट फाउंडेशन चैरिटी के द्वारा मेलबॉर्न लाया गया और फिर उसकी जिंदगी को बचाने और बेहतर बनाने का प्रयास शुरू हुआ।

मोनाश चिल्ड्रेन्स हॉस्पिटल के पेडियेट्रिक सर्जरी हेड क्रिस किम्बर ने बताया कि सर्जन की एक पूरी टीम ने उसकी शारीरिक संरचना को फिर से बनाने की प्रक्रिया का खाका तैयार करने में कई महीने लगाए और अंत में सर्जरी का फैसला लिया गया।किम्बर ने यह भी बताया कि जब छोटी ऑस्ट्रेलिया पहुंची थी तब वह कुपोषण का शिकार थी

यूरोप और अमेरिका के विशेषज्ञों के साथ परामर्श में कर रहे सर्जनों ने आख़िरकार एक ऐसी प्रक्रिया की योजना बनाई जिसमें अतिरिक्त तीसरे पैर के बचे हुए हिस्से को निकाल देना शामिल था - इस हिस्से को शुरुआत में बांग्लादेश में काटने की असफल कोशिश की गयी थी। साथ ही शरीर के सम्बंधित अंगों को दोबारा से डिस्कनेक्ट और रीकनेक्ट करना भी था।

यह सर्जरी बहुत ज्यादा जटिल और दुर्लभ थी। आख़िरकार इस सर्जरी को नवंबर में पूरा किया गया जिसमें लड़कियों के अंगों की जानकारी रखने वाले 8 विशेषज्ञ डॉक्टर लगातार 8 घंटों तक लगे रहे।

किम्बर ने बताया कि " हमने इसके लिए तीन से चार महीने सोचने में लगाए, साथ ही इस मामले को दुसरे डॉक्टरों के सामने भी रखा और विश्व भर से इसके लिए जानकारी हासिल की और फिर दुनियभर से हमें मिली रायों के आधार पर हम कुछ ऐसे तथ्यों तक पहुंचे जो यह काम करने में सक्षम थे। अब वह काफी ठीक है "

इस छोटी बच्ची को आंशिक रूप से कम भी दिखाई देता है लेकिन अस्पताल के नेत्र रोग विशेषज्ञ ने यह पाया कि उसकी दृष्टि में सुधार नहीं हो सकता। लेकिन पर्याप्त रूप से इतना तो दिखाई देता है कि वह अन्य दूसरे बच्चों की तरह दौड़ भाग कर सके।

बच्ची की 22 साल की मां शीमा खातून अब बेहद खुश हैं। उन्होंने कहा " अब सब कुछ ठीक है ... वह हर बच्चे की तरह खेल सकती है

Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें