Breaking News
आज का दिन :         ||           आईपीएल कार्यक्रम         ||           संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सर्विसेज परीक्षा के लिए अधिसूचना         ||           माघ पूर्णिमा         ||           किडनी-लिवर बेचने वाले गिरोह का कानपुर पुलिस ने किया पर्दाफाश         ||           सहमति शिव सेना और बीजेपी में         ||           कुलभूषण जाधव केस मे इंटरनेशन कोर्ट में सुनवाई शुरू         ||           राहुल की मौजूदगी मे कांग्रेस में शामिल हुए सांसद कीर्ति आजाद         ||           मारा गया पुलवामा आतंकी हमले का मास्टरमाइंड ग़ाज़ी         ||           आज का दिन :         ||           आज का दिन :         ||           वायु शक्ति-2019         ||           क्रिकेट क्लब ऑफ इंडिया का अनूठा विरोध         ||           पुलवामा हमला-कश्मीर के पॉच अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा हटाई गई         ||           महानायक शहीदों की आर्थिक मदद के लिए आगे आए हैं.         ||           Hyderabad Special Tomato Chutney         ||           ब्रिटेन ने अपने नागरिकों को पाकिस्तान से सटे सीमाई इलाकों से दूर रहने की सलाह दी         ||           पुलवामा आतंकी हमले पर चीन की संवेदना में पाकिस्तान व जैश का जिक्र नही         ||           ठोको ताली-सिद्धू का कपिल शर्मा शो से जाना पहले से तय था         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने कहा हम छेाड़ते नहीं, किसी ने छेड़ा तो छोड़ते नहीं         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> उच्चतम न्यायालय ने रिजर्व बैंक से पूछा- आखिर क्यों नही बड़े बड़े कर्जदारो के नाम सार्वजनिक कर दिए जाएं

उच्चतम न्यायालय ने रिजर्व बैंक से पूछा- आखिर क्यों नही बड़े बड़े कर्जदारो के नाम सार्वजनिक कर दिए जाएं


Vniindia.com | Tuesday October 25, 2016, 01:29:34 | Visits: 136







नई दिल्ली,२५ अक्टऊबर (वी एन आई)उच्चतम न्यायालय ने रिजर्व बैंक से पूछा है कि आखिर बड़े बड़े कर्जदारो के नाम क्यों नही सार्वजनिक कर दिए जाएं। उच्चतम न्यायालय ने 500 करोड़ से अधिक राशि का कर्ज लेकर नहीं लौटाने वालों के बारे में रिपोर्ट देखने के बाद ये टिप्पणी की। बैंकों का कर्ज लेकर नहीं लौटाने वाले 57 व्यक्तियों पर 85000 करोड़ रुपए की भारी भरकम राशि बकाया है।

चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, 'ये कौन लोग हैं जो कर्ज लेकर नहीं लौटा रहे हैं? आखिर कर्ज लेकर नहीं लौटाने वालों के नाम लोगों को क्यों नहीं पता चलने चाहिए?' साथ ही कोर्ट ने कहा कि 'यदि सीमा को 500 करोड़ रुपए से कम कर दिया जाए तो ये राशि एक लाख करोड़ रुपए को पार कर जाएगी।'


कोर्ट ने रिजर्व बैंक से पूछा है कि एेसे लोगों के बारे में सूचना क्यों रोकी जानी चाहिए। लोगों को जानना चाहिए कि किसने कितना कर्ज लिया आैर उसे कितना लौटाना है। आखिर सूचना को क्यों छिपाया जाए। हालांकि रिजर्व बैंक की आेर से पेश अधिवक्ता ने इसका विरोध किया आैर कहा कि कर्ज नहीं लौटाने वाले जानबूझकर एेसा नहीं करते हैं। उन्होंने कहा ककि कानूनन भी एेसे लोगों के नाम सार्वजनिक नहीं किए जा सकते हैं। इस पर कोर्ट ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा कि रिजर्व बैंक को देश के हित में काम करना चाहिए न कि बैंकों के हित में।


अब 28 अक्टूबर को इस मामले में फिर से सुनवार्इ होगी। वी एन आई

Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें