Breaking News
कोहली आईसीसी रैंकिंग में शीर्ष पर कायम, कुलदीप शीर्ष 10 में शामिल         ||           आज का दिन : राजेश खन्ना         ||           राष्ट्रपति, उप-राष्ट्रपति और राज्‍यपालों की गाड़ियों पर अब जल्‍द दिख सकती है नंबर प्लेट         ||           रणबीर कपूर ने कहा मैं माचो हीरो बनने के काबिल नहीं हूं         ||           आईओए ने कोर्ट के आदेश के बाद एशियन गेम्स 2018 में हैंडबॉल टीम को दी मंजूरी         ||           जॉन अब्राहम ने कहा पहले असफलता से डरता था, लेकिन अब कोई डर नहीं         ||           सेंसेक्स 147 अंक की गिरावट पर बंद         ||           सरकार ने गन्ने का समर्थन मूल्य 255 से बढाकर 275 रुपये प्रति क्विंटल किया         ||           वायु सेना का मिग-21 एयरक्राफ्ट हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में दुर्घटनाग्रस्त         ||           इंग्लैंड के खिलाफ पहले तीन टेस्ट मैचों के लिए भारतीय टीम की घोषणा         ||           अविश्वास प्रस्ताव पर विपक्षी एकता के खिलाफ एनडीए सरकार की होगी पहली परीक्षा         ||           इमरान की पार्टी को आतंकी संगठन ने दिया समर्थन         ||           आरएलएलपी ने बीजेपी से बिहार में जदयू से अधिक सीटें और एनडीए नेता का पद मांगा         ||           पहलवान साजन ने जूनियर एशियाई चैंपियनशिप में जीता स्वर्ण         ||           कप्तान विराट कोहली ने कहा बल्लेबाज रहे हार की वजह         ||           राहुल गांधी ने भाजपा से पूछा, वो कौन है जो कमजोरों को तलाशकर कुचल देता है         ||           ग्रेटर नोएडा में इमारत गिरने से तीन की मौत         ||           संसद का मानसून सत्र आज से         ||           शेयर बाजार के शुरूआती कारोबार में तेजी का असर         ||           इंग्लैंड ने फिर पकड़ा जीत वाला रुट, भारत को 8 विकेट से हराकर सीरीज 2-1 से जीती         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> उच्चतम न्यायालय ने रिजर्व बैंक से पूछा- आखिर क्यों नही बड़े बड़े कर्जदारो के नाम सार्वजनिक कर दिए जाएं

उच्चतम न्यायालय ने रिजर्व बैंक से पूछा- आखिर क्यों नही बड़े बड़े कर्जदारो के नाम सार्वजनिक कर दिए जाएं


Vniindia.com | Tuesday October 25, 2016, 01:29:34 | Visits: 124







नई दिल्ली,२५ अक्टऊबर (वी एन आई)उच्चतम न्यायालय ने रिजर्व बैंक से पूछा है कि आखिर बड़े बड़े कर्जदारो के नाम क्यों नही सार्वजनिक कर दिए जाएं। उच्चतम न्यायालय ने 500 करोड़ से अधिक राशि का कर्ज लेकर नहीं लौटाने वालों के बारे में रिपोर्ट देखने के बाद ये टिप्पणी की। बैंकों का कर्ज लेकर नहीं लौटाने वाले 57 व्यक्तियों पर 85000 करोड़ रुपए की भारी भरकम राशि बकाया है।

चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, 'ये कौन लोग हैं जो कर्ज लेकर नहीं लौटा रहे हैं? आखिर कर्ज लेकर नहीं लौटाने वालों के नाम लोगों को क्यों नहीं पता चलने चाहिए?' साथ ही कोर्ट ने कहा कि 'यदि सीमा को 500 करोड़ रुपए से कम कर दिया जाए तो ये राशि एक लाख करोड़ रुपए को पार कर जाएगी।'


कोर्ट ने रिजर्व बैंक से पूछा है कि एेसे लोगों के बारे में सूचना क्यों रोकी जानी चाहिए। लोगों को जानना चाहिए कि किसने कितना कर्ज लिया आैर उसे कितना लौटाना है। आखिर सूचना को क्यों छिपाया जाए। हालांकि रिजर्व बैंक की आेर से पेश अधिवक्ता ने इसका विरोध किया आैर कहा कि कर्ज नहीं लौटाने वाले जानबूझकर एेसा नहीं करते हैं। उन्होंने कहा ककि कानूनन भी एेसे लोगों के नाम सार्वजनिक नहीं किए जा सकते हैं। इस पर कोर्ट ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा कि रिजर्व बैंक को देश के हित में काम करना चाहिए न कि बैंकों के हित में।


अब 28 अक्टूबर को इस मामले में फिर से सुनवार्इ होगी। वी एन आई

Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें