Breaking News
मायावती का छत्‍तीसगढ़ में अजीत जोगी से गठबंधन         ||           मायावती ने मध्‍य प्रदेश में अकेले लड़ने का ऐलान किया         ||           अक्षर पटेल और शार्दुल ठाकुर भी चोट के कारण एशिया कप से बाहर         ||           पाकिस्‍तान प्रधानमंत्री इमरान ने प्रधानमंत्री मोदी से शांति की अपील की         ||           हसन नसरुल्ला ने कहा अगली सूचना तक सीरिया में बना रहेगा हिज्बुल्ला         ||           कांग्रेस ने सीमा पर जवान के साथ दरिंदगी पर पूछा, 56 इंच का सीना और लाल आंख कहां हैं         ||           आज का दिन :         ||           अमेरिका ने कहा पाकिस्तानी आतंकी भारत में लगातार कर रहे हैं हमले         ||           हार्दिक पांड्या चोट के कारण एशिया कप से बाहर         ||           मोदी सरकार ने कई छोटी बचत योजनाओं में बढ़ाई ब्‍याज दरें         ||           मुख्तार अब्बास नकवी ने राहुल गांधी को पायरेटेड लैपटॉप बताया         ||           अनुराग कश्यप ने विवादित सीन्स पर सिख समुदाय से माफी मांगी         ||           डीके शिवकुमार ने भाजपा पर किया पलटवार, कहा मैं डरकर भागने वालों में से नहीं         ||           नवाज शरीफ और बेटी मरियम को इस्‍लामाबाद हाई कोर्ट ने दिया जेल से रिहा करने का आदेश         ||           सेंसेक्स 169 अंक की गिरावट पर बंद         ||           भाजपा ने कहा हवाला कारोबार से जुड़ी है कांग्रेस         ||           रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस ने वोट बैंक के लिए नहीं पास होने दिया तीन तलाक बिल         ||           आज का दिन :         ||           कांग्रेस ने तीन तलाक अध्यादेश पर लगाया राजनीति का आरोप         ||           मोदी सरकार ने तीन तलाक अध्यादेश को दी मंजूरी         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> उच्चतम न्यायालय ने रिजर्व बैंक से पूछा- आखिर क्यों नही बड़े बड़े कर्जदारो के नाम सार्वजनिक कर दिए जाएं

उच्चतम न्यायालय ने रिजर्व बैंक से पूछा- आखिर क्यों नही बड़े बड़े कर्जदारो के नाम सार्वजनिक कर दिए जाएं


Vniindia.com | Tuesday October 25, 2016, 01:29:34 | Visits: 127







नई दिल्ली,२५ अक्टऊबर (वी एन आई)उच्चतम न्यायालय ने रिजर्व बैंक से पूछा है कि आखिर बड़े बड़े कर्जदारो के नाम क्यों नही सार्वजनिक कर दिए जाएं। उच्चतम न्यायालय ने 500 करोड़ से अधिक राशि का कर्ज लेकर नहीं लौटाने वालों के बारे में रिपोर्ट देखने के बाद ये टिप्पणी की। बैंकों का कर्ज लेकर नहीं लौटाने वाले 57 व्यक्तियों पर 85000 करोड़ रुपए की भारी भरकम राशि बकाया है।

चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, 'ये कौन लोग हैं जो कर्ज लेकर नहीं लौटा रहे हैं? आखिर कर्ज लेकर नहीं लौटाने वालों के नाम लोगों को क्यों नहीं पता चलने चाहिए?' साथ ही कोर्ट ने कहा कि 'यदि सीमा को 500 करोड़ रुपए से कम कर दिया जाए तो ये राशि एक लाख करोड़ रुपए को पार कर जाएगी।'


कोर्ट ने रिजर्व बैंक से पूछा है कि एेसे लोगों के बारे में सूचना क्यों रोकी जानी चाहिए। लोगों को जानना चाहिए कि किसने कितना कर्ज लिया आैर उसे कितना लौटाना है। आखिर सूचना को क्यों छिपाया जाए। हालांकि रिजर्व बैंक की आेर से पेश अधिवक्ता ने इसका विरोध किया आैर कहा कि कर्ज नहीं लौटाने वाले जानबूझकर एेसा नहीं करते हैं। उन्होंने कहा ककि कानूनन भी एेसे लोगों के नाम सार्वजनिक नहीं किए जा सकते हैं। इस पर कोर्ट ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा कि रिजर्व बैंक को देश के हित में काम करना चाहिए न कि बैंकों के हित में।


अब 28 अक्टूबर को इस मामले में फिर से सुनवार्इ होगी। वी एन आई

Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें