Breaking News
हिज्बुल मुजाहिदीन का आतंकी दिल्ली में गिरफ्तार         ||           केंद्रीय मंत्री हरिभाई चौधरी ने कहा अगर आरोप सही हुए तो राजनीति छोड़ दूंगा         ||           एमसी मैरीकॉम वर्ल्ड चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में         ||           अमृतसर ब्लास्ट मामले में दो संदिग्ध छात्र बठिंडा से गिरफ्तार         ||           सचिवालय में मुख्यमंत्री केजरीवाल पर मिर्च पाउडर से हमला         ||           सेंसेक्स 300 अंक की गिरावट पर बंद         ||           सुषमा स्वराज ने कहा नहीं लड़ेंगी अगला लोकसभा चुनाव         ||           अशोक गहलोत ने कहा वसुंधरा ने जोधपुर के साथ किया सौतेला बर्ताव         ||           क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने कहा स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर पर प्रतिबंध रहेगा बरकरार         ||           शिकागो के अस्पताल में गोलीबारी मे चार लोगों की मौत         ||           बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा ने सरेंडर किया         ||           पेट्रोल-डीजल की कीमतों में गिरावट जारी है         ||           महाराष्ट्र के वर्धा में आर्मी डिपो में धमाका, 6 लोगों की मौत         ||           कांग्रेस ने वरिष्ठ नेता सत्यव्रत चतुर्वेदी को पार्टी से निकाला         ||           शोपियां में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में चार आतंकी ढेर         ||           देश के शेयर बाज़ारो के शुरूआती कारोबार में गिरावट का असर         ||           छत्तीसगढ़ मे 72 विधानसभा सीटों पर मतदान जारी         ||           ममता बनर्जी ने कहा हर कोई होगा महागठबंधन का चेहरा         ||           जम्मू कश्मीर मे सीमा पर हुए धमाके में एक जवान शहीद         ||           जोकोविच को हराकर ज्वेरेव ने अपना पहला एटीपी फाइनल्स जीता         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> उच्चतम न्यायालय ने रिजर्व बैंक से पूछा- आखिर क्यों नही बड़े बड़े कर्जदारो के नाम सार्वजनिक कर दिए जाएं

उच्चतम न्यायालय ने रिजर्व बैंक से पूछा- आखिर क्यों नही बड़े बड़े कर्जदारो के नाम सार्वजनिक कर दिए जाएं


Vniindia.com | Tuesday October 25, 2016, 01:29:34 | Visits: 130







नई दिल्ली,२५ अक्टऊबर (वी एन आई)उच्चतम न्यायालय ने रिजर्व बैंक से पूछा है कि आखिर बड़े बड़े कर्जदारो के नाम क्यों नही सार्वजनिक कर दिए जाएं। उच्चतम न्यायालय ने 500 करोड़ से अधिक राशि का कर्ज लेकर नहीं लौटाने वालों के बारे में रिपोर्ट देखने के बाद ये टिप्पणी की। बैंकों का कर्ज लेकर नहीं लौटाने वाले 57 व्यक्तियों पर 85000 करोड़ रुपए की भारी भरकम राशि बकाया है।

चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, 'ये कौन लोग हैं जो कर्ज लेकर नहीं लौटा रहे हैं? आखिर कर्ज लेकर नहीं लौटाने वालों के नाम लोगों को क्यों नहीं पता चलने चाहिए?' साथ ही कोर्ट ने कहा कि 'यदि सीमा को 500 करोड़ रुपए से कम कर दिया जाए तो ये राशि एक लाख करोड़ रुपए को पार कर जाएगी।'


कोर्ट ने रिजर्व बैंक से पूछा है कि एेसे लोगों के बारे में सूचना क्यों रोकी जानी चाहिए। लोगों को जानना चाहिए कि किसने कितना कर्ज लिया आैर उसे कितना लौटाना है। आखिर सूचना को क्यों छिपाया जाए। हालांकि रिजर्व बैंक की आेर से पेश अधिवक्ता ने इसका विरोध किया आैर कहा कि कर्ज नहीं लौटाने वाले जानबूझकर एेसा नहीं करते हैं। उन्होंने कहा ककि कानूनन भी एेसे लोगों के नाम सार्वजनिक नहीं किए जा सकते हैं। इस पर कोर्ट ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा कि रिजर्व बैंक को देश के हित में काम करना चाहिए न कि बैंकों के हित में।


अब 28 अक्टूबर को इस मामले में फिर से सुनवार्इ होगी। वी एन आई

Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें