Breaking News
जेटली ने कहा आंध्र और बंगाल किसी को बचाने के लिए सीबीआई को रोकना चाहते हैं         ||           कांग्रेस ने प्रधानमंत्री मोदी पर किया पलटवार, उनको अपने दादा-दादी के बारे में नहीं पता         ||           उपेंद्र कुशवाहा ने कहा अब केवल प्रधानमंत्री से करेंगे बात         ||           आज का दिन :         ||           ममता बनर्जी ने कहा अमित शाह की रथ यात्रा नहीं 'रावण यात्रा' है         ||           भाजपा ने मध्य प्रदेश चुनाव के लिए जारी किया घोषणा पत्र         ||           पाकिस्तान के कराची में बम विस्फोट से दो लोगों की मौत         ||           प्रधानमंत्री मोदी आज पहली बार मालदीव में सोलेह के शपथ ग्रहण में होंगे शामिल         ||           जम्मू-कश्मीर में पंचायत चुनाव के पहले चरण में आज वोटिंग जारी         ||           संगीतकार रोशन की पुण्य तिथि पर         ||           राजा भैया ने जनसत्ता पार्टी नाम से नए राजनीतिक दल का ऐलान किया         ||           राहुल गांधी ने कहा 10 दिन के अंदर कांग्रेस के मुख्यमंत्री ने कर्ज माफ नहीं किया तो मुख्यमंत्री बदल दूंगा         ||           आज का दिन :         ||           सचिन पायलट ने कहा वसुंधरा राजे एकमात्र नेता जिन्होंने अमित शाह को उनकी जगह दिखाई         ||           सबरीमाला दर्शन करने पहुंचीं तृप्ति देसाई को कोच्चि एयरपोर्ट पर रोका         ||           दिल्ली सचिवालय के अंदर हेड कांस्टेबल ने मारी खुद को गोली         ||           दीपिका-रणवीर एक-दूसरे के हुए, शादी की पहली तस्वीर जारी         ||           आज का दिन : विनोबा भावे         ||           राहुल गांधी ने कहा फ्रांस ने सरकार को सौदे में कोई गारंटी नहीं दी         ||           सेंसेक्स 118 अंक की तेजी पर बंद         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> सितारा देवी के जन्मदिन पर

सितारा देवी के जन्मदिन पर


admin ,Vniindia.com | Thursday November 08, 2018, 06:36:24 | Visits: 25







खास बातें


1 सितारा देवी के जन्मदिन पर

सितारा देवी  के  जन्मदिन  पर



 



सितारा देवी (8 नवम्बर, 1920 – 25 नवम्बर, 2014) ) भारत की प्रसिद्ध कत्थक नृत्यांगना थीं। जब वे मात्र 16 वर्ष की थीं, तब उनके नृत्य को देखकर रवीन्द्रनाथ ठाकुर ने उन्हें 'नृत्य सम्राज्ञी' कहकर सम्बोधित किया था। उन्होने भारत तथा विश्व के विभिन्न भागों में नृत्य का प्रदर्शन किया।



अपने सुदीर्घ नृत्य कार्यकाल के दौरान सितारा देवी ने देश-विदेश में कई कार्यक्रमों और महोत्सवों में चकित कर देने वाले लयात्मक ऊर्जस्वित नृत्य प्रदर्शनों से दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया था । वह लंदन में प्रतिष्ठित रायल अल्बर्ट और विक्टोरिया हाल तथा न्यूयार्क में कार्नेगी हाल में अपने नृत्य का जादू बिखेर चुकी थीं । यह भी उल्लेखनीय था  कि सितारा देवी न सिर्फ कथक बल्कि भारतनाट्यम सहित कई भारतीय शास्त्रीय नृत्य शैलियों और लोकनृत्यों में पारंगत थीं  । उन्होंने रूसी बैले और पश्चिम के कुछ और नृत्य भी सीखें थे  । सितारा देवी के कथक में बनारस और लखनऊ घराने की तत्वों का सम्मिश्रण दिखाई देता था । वह उस समय की कलाकार थीं । जब पूरी-पूरी रात कथक की महफिल जमी रहती थी।



 



इन्हें संगीत नाटक अकादमी सम्मान 1969 में मिला। इसके बाद इन्हें पद्मश्री 1975 में मिला। 1974  में इन्हें कालिदास सम्मान से सम्मानित किया गया। बाद में इन्हें भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण दिया गया जिसे इन्होंने लेने से मना कर दिया। इन्होंने कहा कि क्या सरकार मेरे योगदान को नहीं जानती है? ये मेरे लिये सम्मान नहीं अपमान है। मैं भारत रत्न से कम नहीं लूंगी। मात्र 16  वर्ष की आयु में इनके प्रदर्शन को देखकर भावविभोर हुए गुरुदेव रवीन्द्रनाथ ठाकुर ने इन्हें 'नृत्य सम्राज्ञी' की उपाधि दी थी।



25  नवंबर  2014  को      सिताराजी   निधन  हो गया 



 



 



 



 



 



 



 



 



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें